ब्रेकिंग न्यूज़
बॉलीवुड में ड्रग नहीं, ड्रग में बॉलीवुड...         BIG NEWS : पुलवामा में सुरक्षाबलों ने लश्कर के दो आतंकवादियों को मार गिराया, जवान घायल         संकट में पत्रकार         BIG NEWS : 104 सीट पर जदयू और 100 पर भाजपा लड़ेगी         दुनिया का इकलौता मंदिर, जहां होती है भोलेनाथ के पैर के अंगूठे की पूजा         बाबा रामदेव ने बॉलीवुड में स्वच्छता अभियान को ठहराया सही कदम          बिहार के पूर्व डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय जदयू में शामिल         BIG NEWS : पूर्व केंद्रीय मंत्री जसवंत सिंह का निधन         पोस्टर्स पर चमकते नीतीश क्या क्या भूल चुके हैं?         सुंदर वर या वधू चाहिए तो भगवान भूतेश्वर की शरण में आएं         BIG NEWS : कृषि बिलों पर एनडीए में टूट : हरसिमरत के इस्तीफे के 9 दिन बाद पार्टी गठबंधन से अलग हुई         BIG NEWS : पूर्व CM रघुवर दास और कोडरमा सांसद अन्नपूर्णा देवी राष्ट्रीय उपाध्यक्ष तो समीर उरांव बने अनुसूचित जाति-जनजाति मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष         BIG NEWS : राम जन्मभूमि विवाद के बाद अब मथुरा का मामला पहुंचा कोर्ट         BIG NEWS : जब भारत मजबूत था तो किसी को सताया नहीं; जब मजबूर था, तब किसी पर बोझ नहीं बना : MODI         BIG NEWS : भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा ने बनाई अपनी नई राष्ट्रीय कार्यकारिणी, पहली बार होंगे 12 राष्ट्रीय उपाध्यक्ष और 23 प्रवक्ता         शाहीनबाग की दादी " टाइम" की दरोगा क्यों?         BIG NEWS : संयुक्त राष्ट्र महासभा में इमरान खान के भाषण का भारत ने किया बहिष्कार, भारतीय प्रतिनिधि ने किया वॉकआउट         बिहार विधानसभा चुनाव : आपके जिले में किस दिन पड़ेंगे वोट, जानें किस सीट के लिए कब होगा मतदान         चुनाव की तारीख का ऐलान होते ही लालू ट्विटर पर बोल पड़े "उठो बिहारी, करो तैयारी... अबकी बारी"         यहां अर्धरात्रि में पंचमुखी शिवलिंग के दर्शनों को आते हैं हजारों सांप         रकुलप्रीत और रिया का ड्रग्सवाला दोस्ताना         BIG NEWS :बिहार विधानसभा के बाद विधान परिषद चुनाव की तारीखों का ऐलान         BIG NEWS : अनंतनाग में लश्कर-ए-तैयबा के 2 आतंकी ढेर         BIG NEWS : बिहार विधानसभा चुनाव में ऑनलाइन नॉमिनेशन, ग्लव्स पहनकर वोटिंग...         BIG NEWS : बिहार में 3 फेज में चुनाव का ऐलान,10 नवंबर को नतीजे         BIG NEWS : शिबू सोरेन और उनकी पत्नी को हराया अब उनके बेटे को हराने की इच्छा नहीं : बाबूलाल मरांडी         BIG NEWS : लद्दाख में टेंशन बनाए रखना एक बहाना, मकसद सीपेक बचाने के लिए गिलगित-बल्तिस्तान को पाकिस्तान का 5वां सूबा बनाना         BIG STORY : कपल चैलेंज का "खेला" करने वालों के लिए  ख़ास !         BIG NEWS : टीवी डिबेट्स के चर्चित चेहरे और जम्मू-कश्मीर के एडवोकेट बाबर कादरी की श्रीनगर में आतंकियों ने की गोली मारकर हत्या         यहां मंदिर से आती है देवी प्रतिमाओं के बात करने की आवाज         यहां देवताओं के राजा इंद्र के एरावत ने भगवान शिव की की थी पूजा         अभी तो सिर्फ मछलियां फँसी है, मगरमच्छों का क्या?         बॉम्बे हाईकोर्ट ने बीएमसी को लगाई लताड़         पूर्व ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेटर डीन जोंस की हार्ट अटैक से मुंबई में मौत         SAARC मीटिंग में विदेश मंत्री ने कहा- सीमा पार आतंकवाद प्रमुख वैश्विक चुनौती         'नाइट टेस्ट' में भी पास हुई स्वदेशी पृथ्वी-2 मिसाइल, ओडिशा में हुआ परीक्षण, 300 किमी की दूरी तक मार करने में सक्षम         BIG NEWS : पुलवामा में सुरक्षाबलों ने एक आतंकी को किया ढेर, बडगाम में एक जवान शहीद         BIG NEWS : बडगाम में बीजेपी नेता की गोली मारकर हत्या         BIG NEWS : DRDO ने किया लेजर गाइडेड एंटी टैंक मिसाइल का सफल परीक्षण         BIG NEWS : लॉकडाउन में चर्चित ज्योति पासवान पर बनने वाली फिल्म खटाई में, फिल्म निर्माता पर केस         मशहूर ब्रिटिश कंपनी बेब्ले एंड स्काउट उत्तर प्रदेश में बनाएगी हथियार          BIG NEWS : भारत अमेरिका से खरीदेगा 30 रीपर ड्रोन          शिवलिंग के अंकुर से निकलती हैं अन्‍य देवी-देवताओं की आकृतियां, जिनका रहस्य वैज्ञानिक भी नहीं खोज पाए         गढ़मुक्तेश्वर में हुआ था महाभारत में मारे गए योद्धाओं का पिंडदान         पाकिस्तान ने पुंछ जिले के तीन सेक्टरों में दागे गोले, भारतीय सेना की जवाबी कार्रवाई         BIG NEWS : भारत ने स्वदेशी हाई-स्पीड अभ्यास ड्रोन का सफल परीक्षण किया         BIG NEWS : चीन ने भारत से सटी सीमा के नजदीक 13 नए सैन्य ठिकाने बनाए         

आखिर पाकिस्तान पर मेहरबान क्यों हैं अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप

Bhola Tiwari Jul 19, 2019, 5:45 AM IST टॉप न्यूज़
img

 

अजय श्रीवास्तव

अमेरिका में राष्ट्रपति चुनाव 03 नवंबर 2020 को होने हैं और ट्रंप ने ये घोषणा कर दी है कि वे राष्ट्रपति चुनाव में शिरकत करेंगे।डोनाल्ड ट्रंप के पास लगभग एक साल से कुछ हीं ज्यादा समय बचा है और वहाँ की जनता को गिनाने के लिए उनकी झोली खाली है।डोनाल्ड ट्रंप ने उत्तर कोरिया से द्विपक्षीय संबंधों को ठीक करने के लिए बहुत कोशिशें की हैं मगर उत्तर कोरिया का तानाशाह किम जोंग उन उन्हें घास नहीं डाल रहा है।किम जोंग उन अपनी शर्तों पर समझौता करना चाहता है जो अमेरिकी विदेश नीति पर खरी नहीं उतरती।मिडिल ईस्ट के देशों से उनके मधुर संबंध नहीं हैं केवल सऊदी अरब और उसके चमचे देशों को छोड़कर।ईरान से उनकी तनातनी जगजाहिर है, इराक में अमेरिका ने अघोषित युद्ध छेड रखा है।सीरिया अमेरिका के कारण लगभग बरबादी की कगार पर खडा़ है।रूस और चीन से अमेरिका के संबंध हमेशा तलवार की नोक पर रहते हैं।

डोनाल्ड ट्रंप ने हीं दवाब देकर मुंबई बम ब्लास्ट के मास्टर माइंड हाफिज सईद को गिरफ्तार करवाया है लेकिन ये कदम भारत के लिए नहीं बल्कि अपना अगला चुनाव जीतने के लिए है।ये वही अमेरिकी राष्ट्रपति हैं जिन्होंने नये वर्ष के प्रथम दिन हीं ट्वीट करके पाकिस्तान को खूब खरीखोटी सुनाई थी।ट्रंप ने कहा था कि पाकिस्तान अमेरिका से आतंकवाद के मुद्दे पर हमेशा झूठ बोलकर मोटा फंड हासिल करता रहा है, वो आतंकवाद का डर दिखाकर विभिन्न मद में सहायता प्राप्त करता है और उन्हीं आतंकियों को अपने जमीन पर प्रश्य देता है।उन्होंने कहा था कि अमेरिका पाकिस्तान को अब एक पैसा नहीं देगा जबतक वह आतंकवादियों का सुरक्षित पनाहगाह बना रहेगा।

कल पाकिस्तान से खबर आई कि जमात-उल-दावा का चीफ और मुंबई हमले का मास्टरमाइंड हाफिज सईद को पाकिस्तान के आतंकवादी निरोधी विभाग के अधिकारियों ने गुजरांवाला जाते समय गिरफ्तार कर लिया है।मुंबई हमले का मास्टरमाइंड, हाफिज सईद क़ तब गिरफ्तार किया गया जब वह पंजाब के आतंकवाद निरोधी विभाग के एक मामले में गिरफ्तारी से पहले जमानत लेने के लिए गुजरांवाला जा रहा था।आतंकवाद निरोधी विभाग के प्रवक्ता ने कहा कि हाफिज को 30 दिनों के साथ कोर्ट में पेश किया जाएगा।दुर्दांत आतंकी हाफिज सईद को पाकिस्तानी सरकार ने चरमपंथ के लिए फंड इकट्ठा करने के आरोप में गिरफ्तार किया है।

पाकिस्तान सरकार की नीयत कैसी है ये इसी से समझा जा सकता है कि हाफिज सईद को आतंकवादी गतिविधियों के लिए नहीं बल्कि आतंक के लिए फंड इकट्ठा करने जैसे छोटे से आरोप में गिरफ्तार किया गया है।

हाफिज सईद के गिरफ्तारी के तुरंत बाद अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप का ट्वीट आया, जिसमें उन्होंने लिखा कि दस साल की तलाश के बाद मुंबई हमलों के कथित मास्टरमाइंड को पाकिस्तान में गिरफ्तार किया गया है, पिछले दो साल से उनकी तलाश के लिए बडा दवाब बनाया गया था।

आप डोनाल्ड ट्रंप की बातों से उनकी मंशा समझ सकते हैं, क्या दूनिया पर एकछत्र राज करनेवाले दूनिया के सबसे शक्तिशाली राष्ट्रपति को ये नहीं पता कि हाफिज सईद पाकिस्तान में खुले घुम रहा था,कश्मीर में आतंकियों को ट्रेनिग देकर भेज रहा था और कश्मीर में जेहाद के नाम पर मासूम लोगों की जान ले रहा है।ये वही हाफिज सईद है जिसने अपनी पार्टी बनाकर पाकिस्तान के आम चुनाव में बड़े ठसक से शिरकत की थी ये दीगर बात है कि उसे एक भी सीट पर सफलता नहीं मिली।डोनाल्ड ट्रंप सब जानते हैं मगर उन्हें चुनाव जीतना है।पाकिस्तान के साथ समझौता कर वो अपनी जनता को ये संदेश देंगे कि देखो मैंने अपने शासनकाल में हाफिज सईद के नाक में नकेल डाली है और पाकिस्तान को आतंकवाद से दूर करने में सफल रहा।

आर्थिक रूप से दिवालिया हो चुके पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान 22 जुलाई को अमेरिकी राष्ट्रपति से मिलने वाशिंगटन जा रहें हैं।तयशुदामसौदे के तहत इमरान खान डोनाल्ड ट्रंप को ये बताएंगे कि साहब देखिए मैंने हाफिज सईद को गिरफ्तार कर लिया है, यही तो आप चाहते थे।अब अमेरिकी सहायता बहाल कर दिजिये।डोनाल्ड ट्रंप किस्तों में सहायता जारी करने को तैयार हो जाएंगे ये तो तय मानिए।

आपको बता दें अफगानिस्तान में शांति बहाल करने के लिए पाकिस्तान की मदद बहुत जरूरी है।जब से अमेरिका ने पाकिस्तान को आर्थिक मदद बंद कर दिया है, वह अपनी जमीन का इस्तेमाल अमेरिका को करने से रोक दिया है।डोनाल्ड ट्रंप को अफगानिस्तान और ईरान के लिए भी पाकिस्तान से समझौता करना होगा।फिर भी जितनी कडाई ट्रंप ने पाकिस्तान पर कर दी वो भी अपनी विदेश नीति से इतर काबिलेतारीफ है।

अंतरराष्ट्रीय दवाब के बाद पाक ने इसी साल जमात-उद-दावा, लश्कर-ए-ताईबा और फलाह-ए-इंसानियत के खिलाफ दिखावे के लिए जाँच शुरू की थी,जो सिर्फ ये दिखलाने के लिए थी कि पाकिस्तान सरकार आतंकवाद के मुद्दे पर गंभीर है।कार्रवाई में पंजाब सरकार ने हाफिज सईद के गैरसरकारी संगठन के 160 मदरसे,32 स्कूल, दो काँलेज, चार अस्पताल,178 एंबुलेंस और 153 डिस्पेंसरी को सीज किया था।ये सारे कल्याणकारी कार्यों को पाकिस्तान सरकार ने जब्त किया था जबकि पाक अधिकृत कश्मीर में उसके बहुत से टेरर कैंपों को छुआ भी नहीं गया।

अमेरिका की मदद से पाकिस्तान फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स(FATF) की बंदियों से भी मुक्त हो जाएगा।आपको बता दें दूनिया भर में वित्तीय अनिमितताओं, मनी लॉन्ड्रिंग और चरमपंथ के वित्तपोषण पर नजर रखने वाली संस्था एफएटीएफ ने पाकिस्तान को अक्टूबर तक का वक्त दिया है कि वो चरमपंथ की फंडिंग रोकने वाले अभियान में सुधार लाए।उसका कहना है कि पाकिस्तान ने एक जनवरी और फिर एक मई वाला टारगेट पूरा नहीं किया है जो चिंताजनक है।फिलहाल पाकिस्तान को FATF ने ग्रे लिस्ट में डाल रखा है मगर अब लगता है अमेरिका के दवाब में पाकिस्तान ग्रे लिस्ट से बाहर आ जाएगा।

अमेरिका की इस दोगली नीति से विश्व के सभी देश परेशान हैं मगर अमेरिका वही करता है जो उसके हित में होता है चाहे इसके लिए उसे किसी भी स्तर पर क्यों नहीं उतरना पड़े।पाकिस्तान से द्विपक्षीय समझौता कर ट्रंप एक तीर से दो निशाना साधेगें,पहला अपनी जनता को ये बताएंगे कि देखो मैंने पाकिस्तान जैसे आतंकी देश को घुटने टेकने पर मजबूर कर दिया है और दूसरी पाकिस्तान को साधकर अफगानिस्तान और ईरान पर कड़ी नजर रख सकेंगे।

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links