ब्रेकिंग न्यूज़
बारामूला में हिजबुल मुजाहिदीन का एक OGW गिरफ्तार, हैंड ग्रेनेड बरामद         अंदरखाने खोखला, बाहर-बाहर हरा-भरा...!         BIG NEWS : आतंकियों के साथ मिले जम्मू-कश्मीर पुलिस के निलंबित डीएसपी देविंदर सिंह के खिलाफ चार्जशीट दायर         BIG NEWS : LAC पर चीनी सेना ने टेंट, वाहन और सैनिकों को 2 किलोमीटर तक पीछे हटाया         BIG NEWS : खालिस्तानी समर्थक संगठन “सिख फॉर जस्टिस” पर बड़ी कार्रवाई, 40 वेबसाइट्स बैन         BIG NEWS : चीन का मोहरा बना पाकिस्तान, POK में अतिरिक्त पाकिस्तानी फोर्स तैनात         हुवावे बैन : चीनी राष्‍ट्रपति शी जिनपिंग को बड़ा झटका         BIG NEWS : चीन की शह पर रात के अंधेरे में सरहद पर फौज तैनात कर रहा है पाकिस्तान         गोडसे की अस्थियां अपने मुक्ति को...         दिल्ली-एनसीआर में बार-बार क्यों कांप रही धरती...         इस्कॉन के प्रमुख गुरु भक्तिचारू स्वामी का अमेरिका में कोरोना की वजह से निधन         BIG NEWS : कुलगाम एनकाउंटर में सुरक्षाबलों ने दो आतंकियों को मार गिराया         BIG NEWS : लेह अस्पताल पर उठे सवाल, आर्मी ने दिया जवाब, "बहादुर सैनिकों की उपचार की व्यवस्था को लेकर सवाल उठाना बेहद दुर्भाग्यपूर्ण"         BIG NEWS : JAC ने जारी किया 11वीं का रिजल्ट, 95.53 फीसदी छात्रों को मिली सफलता         कानपुर: चौबेपुर के SHO विनय तिवारी सस्पेंड, विकास दुबे से मिलीभगत का आरोप         राजौरी में आतंकी ठिकाने का पर्दाफाश, कई हथियार बरामद         BIG NEWS : विस्तारवाद पर दुनिया में अकेला पड़ गया चीन, भारत के साथ खड़ी हो गई महा शक्तियां         गुरु पूर्णिमा के दिन 5 जुलाई को लगेगा चंद्र ग्रहण, इन राशियों पर पड़ेगा सबसे ज्यादा असर         BIG NEWS : कराची में आतंकवादी हाफिज सईद के सहयोगी आतंकी मौलाना मुजीब की हत्या         BIG NEWS : भारत ने बॉलीवुड प्रोग्राम के पाकिस्तानी ऑर्गेनाइजर रेहान को किया ब्लैकलिस्ट         क्या रोक सकेंगे चीनी माल         BIG NEWS : सरहद पर मोदी का ऐलान, दुनिया में विस्तारवाद का हो चुका है अंत, PM मोदी के लेह दौरे से चीन में खलबली         BIG NEWS : CRPF जवान और 6 साल के बच्चे को मारने वाला आतंकी श्रीनगर एनकाउंटर में ढेर         भारत में बनी कोविड वैक्सीन 15 अगस्त तक होगी लॉन्च         BIG NEWS : आतंकवादियों से लोहा लेते हुए श्रीनगर में झारखंड का लाल शहीद         BIG NEWS : अचानक सुबह लेह पहुंचे पीएम मोदी, जांबाज जवानों से मिले और हालात का लिया जायजा         बॉलीवुड में फिर छाया मातम, मशहूर कोरियोग्राफर सरोज खान का निधन         BIG NEWS : गुंडों ने बरसाई अंधाधुंध गोलियां, सीओ समेत आठ पुलिसकर्मी शहीद         श्रीनगर एनकाउंटर में सुरक्षा बलों ने एक आतंकी को मार गिराया, 1 जवान शहीद         BIG NEWS : चीन की राजदूत हाओ यांकी के इशारे पर ओली गा रहे हैं ओले ओले...         बोत्सवाना में क्यों मर रहे हैं हाथी...         BIG NEWS : पुलवामा हमले का एक और आरोपी गिरफ्तार         झारखंड में हेमंत सोरेन की सरकार गिर जाएगी : सांसद निशिकांत दुबे         BIG NEWS : बीजेपी का नया टाइगर         BIG BREAKING : रामगढ़ के पटेल चौक पर दो ट्रेलर के बीच फंसी कार, दो की मौत, आधा दर्जन लोग कार में फसे         BIG NEWS : चीन को बड़ा झटका; DHL के बाद FedEX ने बंद की चीन से भारत आने वाली शिपमेंट सर्विस        

बाढ़ के कहर से सिसकता बिहार

Bhola Tiwari Jul 18, 2019, 11:16 AM IST टॉप न्यूज़
img

 

अजय श्रीवास्तव

हर साल की तरह इस बार भी पूरा उत्तर बिहार बाढ़ की विभीषिका झेल रहा है।एक तरफ बिहार में जबरदस्त मानसून है तो दूसरी तरफ नेपाल में चारों तरफ बाढ़ आई है।नेपाल से भारी मात्रा में पानी विभिन्न बैराजों से छोडा जा रहा है जिससे उत्तर बिहार के कई जिलों अररिया, किशनगंज, फारबिसगंज, पुर्णिया, सुपौल, मधुबनी, दरभंगा, कटिहार में बाढ़ का पानी कहर बरपा रहा है।बिहार का शोक कही जानेवाली कोसी, कमला, बागमती, गंडक, महानंदा समेत सभी नदियाँ तटबंध को तोड़कर हाहाकार मचा रहीं हैं।

आपदा प्रबंधन के आंकड़ों को हीं माने तो उत्तर बिहार के आठ जिलों के 1324 गाँव की लगभग पाँच लाख की आबादी बाढ़ के प्रलय से ग्रसित है।मगर हकीकत कुछ और बयां कर रहे हैं।एक गैरसरकारी आंकडों के अनुसार तकरीबन आठ लाख लोग इस आपदा से बुरी तरह प्रभावित हैं।चार लाख मिट्टी और फूस के घर बर्बाद हो गए हैं।मवेशियों के मरने या बह जाने का आंकड़ा अभी आना बाकी है।चारों तरफ हाहाकार मचा है मगर राहत की कोशिश ऊँट के मुँह में जीरा हीं साबित हो रही है।बिहार सरकार जानती है कि हर साल बाढ़ भारी तबाही मचाती है फिर भी तटबंधों के रखरखाव पर कुछ भी काम नहीं किया गया।जल के बेग से तटबंध सुखे पत्तों की तरह बह गए, गाँव वालों के बार बार कहने के बावजूद कमजोर तटबंधों की मरम्मत नहीं किया गया,जिस जगह थोडा बहुत काम हुआ वहाँ काम कम घोटाला ज्यादा हुआ।बिहार के मुख्यमंत्री हवाई सर्वेक्षण कर अपने बिल में घुस गए।जनता को दिखाने के लिए नीतीश कुमार ने अपने साथ मुख्य सचिव दीपक कुमार, जल संसाधन विभाग के अपर मुख्य सचिव अरूण कुमार, आपदा प्रबंधन विभाग के प्रधान सचिव प्रत्यय अमृत और मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव चंचल कुमार को भी साथ लाए थे,मगर ये सब दिखावा है जो चतुर नीतीश कुमार हमेशा करते रहते हैं।

कहने को तो एनडीआरएफ और एसडीआरएफ की 26 टीमें लगीं हैं मगर जब 25 लाख की आबादी बाढ़ से प्रभावित है तो केवल 26 एनडीआरएफ और एसडीआरएफ की टीमें क्या करेगी ये प्रश्न मुँह बाये खडा है।अभी तक 29 लोगों के मरने की खबर है।

रविवार को कोसी बैराज के सभी 56 गेटों को एक साथ खोल दिया गया जिससे लोगों को संभलने का मौका भी नहीं मिला।जब तक लोग संभलते पानी घरों में घुस चुका था,अनाजों को बरबाद कर चुका था।

हम पिछले साल की बात कर लेते हैं,2018 में बिहार के 17 जिले बाढ़ से प्रभावित थे।तकरीबन 8.5 लाख लोगों के कच्चे घर या तो टूट गए थे या बह गए थे।आठ लाख हेक्टेयर फसल पूरी तरह बर्बाद हो गया था।लाखों मवेशी या तो बह गए थे या डूबकर मर गए थे।सरकार ने बाढ़ पीडितों को बाढ़ राहत का मुआवजा देने का जोरशोर से ऐलान किया था मगर पिछले साल का मुआवजा अभी तक बंटा नहीं है और इस बार फिर बाढ़ आ गई है।राहत के झुनझुने का अभी भी लोग इंतजार कर रहे हैं।कुछ बाढ ग्रस्त इलाकों में तो जानवरों के मरकर सड़ने से बीमारी का खतरा उत्पन्न हो गया है।लोगों के पास पीने के शुद्ध पानी का पूर्णतया अभाव है।सरकार की तरफ से कुछ इलाकों में हीं पीने के पानी का वितरण हो रहा है जो प्रभावित आबादी के 1% को भी नहीं मिल पा रहा है।सरकार केवल खानापूर्ति हीं कर रही है लोगों को उनके हालत पर छोड दिया गया है।

इस बाढ़ के लिए बहुत हद तक भारत-नेपाल की जल प्रबंधन नीतियों को भी जिम्मेदार ठहराया जा सकता है।दोनों देशों के संबंधित अधिकारियों में तारतम्य का अभाव है, दोनों एक दूसरे को इसके लिए जिम्मेदार मानते हैं।नेपाल के जल प्रबंधन विभाग का कहना है कि बाल्मीकी नगर में बने गंडक बराज और कोशी पर बने बराज के कारण नेपाल संकट में है।जब नेपाल को सिंचाई के लिए पानी की जरूरत होती है भारत गंडक नहर में पानी नहीं देता और बारिश के समय बाल्मीकी नगर बैराज से इतना पानी छोड दिया जाता है कि नेपाल में बाढ आ जाती है।

नेपाल के बहुत से लोगों का मानना है कि भारत ने नदियों पर बहुत से बाँध बना लिए हैं इस वजह से तराई क्षेत्र में एकाएक पानी घुस जाता है।

नेपाल का कहना बहुत हद तक सही भी है क्योंकि 1954 से पहले नदियों में बाँध नहीं थे और पानी धीमे वेग से आता था।पानी का फैलाव बहुत देर में होता था जिससे लोग संभल जाते थे, अब सरकार का कहना है कि उन्हीं पानी को विभिन्न बाँधों में रोककर बिजली बनाई जाती है।गर्मियों में सिंचाई के लिए नहरों में पानी को छोडा जाता है।

हर साल बिहार में हजारों करोड़ की हानि होती है, लोग मेहनत से घर बनाते हैं और वह बाढ़ में बह जाता है।बिहार की अधिकांश जनसंख्या कृषि पर आधारित है और बाढ के समय खरीफ की फसल पूरी तरह बर्बाद हो जाती है।गाँव के पगडण्डी और सड़कें बह जाती हैं जिससे खेती और व्यवसाय करने में काफी परेशानी होती है।यही वजह है कि बिहार के लोग हर साल दूसरे राज्यों में जीविकोपार्जन के लिए पलायन करते हैं।केन्द्र सरकार और राज्य सरकार को मिलकर इस मसले का स्थाई समाधान खोजना होगा नहीं तो यूँहीं हर साल सैकड़ों लोग कालकवलित होते रहेंगे।

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links