ब्रेकिंग न्यूज़
बारामूला में हिजबुल मुजाहिदीन का एक OGW गिरफ्तार, हैंड ग्रेनेड बरामद         अंदरखाने खोखला, बाहर-बाहर हरा-भरा...!         BIG NEWS : आतंकियों के साथ मिले जम्मू-कश्मीर पुलिस के निलंबित डीएसपी देविंदर सिंह के खिलाफ चार्जशीट दायर         BIG NEWS : LAC पर चीनी सेना ने टेंट, वाहन और सैनिकों को 2 किलोमीटर तक पीछे हटाया         BIG NEWS : खालिस्तानी समर्थक संगठन “सिख फॉर जस्टिस” पर बड़ी कार्रवाई, 40 वेबसाइट्स बैन         BIG NEWS : चीन का मोहरा बना पाकिस्तान, POK में अतिरिक्त पाकिस्तानी फोर्स तैनात         हुवावे बैन : चीनी राष्‍ट्रपति शी जिनपिंग को बड़ा झटका         BIG NEWS : चीन की शह पर रात के अंधेरे में सरहद पर फौज तैनात कर रहा है पाकिस्तान         गोडसे की अस्थियां अपने मुक्ति को...         दिल्ली-एनसीआर में बार-बार क्यों कांप रही धरती...         इस्कॉन के प्रमुख गुरु भक्तिचारू स्वामी का अमेरिका में कोरोना की वजह से निधन         BIG NEWS : कुलगाम एनकाउंटर में सुरक्षाबलों ने दो आतंकियों को मार गिराया         BIG NEWS : लेह अस्पताल पर उठे सवाल, आर्मी ने दिया जवाब, "बहादुर सैनिकों की उपचार की व्यवस्था को लेकर सवाल उठाना बेहद दुर्भाग्यपूर्ण"         BIG NEWS : JAC ने जारी किया 11वीं का रिजल्ट, 95.53 फीसदी छात्रों को मिली सफलता         कानपुर: चौबेपुर के SHO विनय तिवारी सस्पेंड, विकास दुबे से मिलीभगत का आरोप         राजौरी में आतंकी ठिकाने का पर्दाफाश, कई हथियार बरामद         BIG NEWS : विस्तारवाद पर दुनिया में अकेला पड़ गया चीन, भारत के साथ खड़ी हो गई महा शक्तियां         गुरु पूर्णिमा के दिन 5 जुलाई को लगेगा चंद्र ग्रहण, इन राशियों पर पड़ेगा सबसे ज्यादा असर         BIG NEWS : कराची में आतंकवादी हाफिज सईद के सहयोगी आतंकी मौलाना मुजीब की हत्या         BIG NEWS : भारत ने बॉलीवुड प्रोग्राम के पाकिस्तानी ऑर्गेनाइजर रेहान को किया ब्लैकलिस्ट         क्या रोक सकेंगे चीनी माल         BIG NEWS : सरहद पर मोदी का ऐलान, दुनिया में विस्तारवाद का हो चुका है अंत, PM मोदी के लेह दौरे से चीन में खलबली         BIG NEWS : CRPF जवान और 6 साल के बच्चे को मारने वाला आतंकी श्रीनगर एनकाउंटर में ढेर         भारत में बनी कोविड वैक्सीन 15 अगस्त तक होगी लॉन्च         BIG NEWS : आतंकवादियों से लोहा लेते हुए श्रीनगर में झारखंड का लाल शहीद         BIG NEWS : अचानक सुबह लेह पहुंचे पीएम मोदी, जांबाज जवानों से मिले और हालात का लिया जायजा         बॉलीवुड में फिर छाया मातम, मशहूर कोरियोग्राफर सरोज खान का निधन         BIG NEWS : गुंडों ने बरसाई अंधाधुंध गोलियां, सीओ समेत आठ पुलिसकर्मी शहीद         श्रीनगर एनकाउंटर में सुरक्षा बलों ने एक आतंकी को मार गिराया, 1 जवान शहीद         BIG NEWS : चीन की राजदूत हाओ यांकी के इशारे पर ओली गा रहे हैं ओले ओले...         बोत्सवाना में क्यों मर रहे हैं हाथी...         BIG NEWS : पुलवामा हमले का एक और आरोपी गिरफ्तार         झारखंड में हेमंत सोरेन की सरकार गिर जाएगी : सांसद निशिकांत दुबे         BIG NEWS : बीजेपी का नया टाइगर         BIG BREAKING : रामगढ़ के पटेल चौक पर दो ट्रेलर के बीच फंसी कार, दो की मौत, आधा दर्जन लोग कार में फसे         BIG NEWS : चीन को बड़ा झटका; DHL के बाद FedEX ने बंद की चीन से भारत आने वाली शिपमेंट सर्विस        

शुक्रिया साक्षी....

Bhola Tiwari Jul 16, 2019, 10:20 AM IST टॉप न्यूज़
img


 कबीर संजय

क्या औरत का जन्म और जीवन अपने आप में ही शर्मिंदगी का कारण है। क्या औरत होकर पैदा होने में ही अपने आप कोई शर्मिंदगी छिपी हुई है। क्या औरत किसी मर्द से कमतर इंसान है। पुरुष पूर्ण इंसान है। वह मानव है। स्त्री उसकी इच्छाओं और सुखभोग को पूरा करने का साधन मात्र है। क्या भगवान ने अपने हाथों से सिर्फ मर्द बनाए, जबकि औरतें उस मर्द की पसली से बनाई गई हैं। 

साक्षी मिश्रा, तुम्हारा बहुत धन्याद। तुमने हमारे समाज के चेहरे पर पड़ी हुई नकाब को नोंचकर फेंककर फेंक दिया। हमारा यह समाज वही है जिसके मुखौटे पर तो कल्पना चावला और सुनीता विलियम्स की सफलताओं की दास्तान है, लेकिन, जो अंदरखाने गर्भ में ही बेटियों को कत्ल करके छुटकारा पाने पर यकीन करता है। क्योंकि, इस कत्ल पर फांसी की सजा नहीं होती। मां की कोख में हुई इस हत्या को मां की कोख में दफन कर दिया जाता है। 

सवाल यह है कि एक लड़की जो अपनी मां की कोख से अपने आप को इतना ज्यादा असुरक्षित महसूस करती रही हो, वह अपनी सुरक्षा का उपाय क्यों न करें। पैदा होने के बाद का शायद ही कोई ऐसा दिन रहा होगा जब उस लड़की को इस बात का अहसास नहीं कराया गया हो कि वह थोड़ा कमतर इंसान है। विधायक का बेटा होना और विधायक की बेटी होना दो अलग-अलग स्थितियां हैं। यूं तो अपनी मर्जी से अपना साथी चुनने वाली हर लड़की को अपने परिवार के साथ ही समाज से भी विरोध का सामना करना पड़ता है।

आमतौर पर अपने हीनताबोध की मारी लड़कियां खुद अपने मन में इसे लेकर अपराधबोध में डूबी रहती हैं। इसके चलते वे अपनी सुरक्षा की लड़ाई भी कई बार हारे हुए मन से लड़ती हैं। साक्षी तुम्हारा शुक्रिया कि तुमने अपनी लड़ाई को खुलकर लड़ने का चुनाव किया। 

यही कारण है कि आज समाज की सारी परतें उधड़कर सामने आ गई हैं। चाहे कितनी भी सड़ी-गली क्यों न हो, जातिवाद इस देश की आत्मा है। यह जातिवाद ही है जो हमारे कार्य-व्यवहार को निर्धारित करता है। जाति को चोट पहुंची नहीं कि दफन सारी मूर्तियां तुरंत ही उठकर खड़ी हो जाती है। 

आखिर हमारे देश में, जहां घनी आबादी में बने घरों में भी लोग भूख से मर जाते हैं, जहां एक कमरे में कोई टीवी देख रहा होता है और दूसरे कमरे में कोई अपना ही फांसी लगा रहा होता है, हमारे ऐसे देश में लोगों को किसी के विवाह की इतनी फिक्र और परवाह क्यों है। 

लोग कहते हैं कि शादी सफल नहीं होगी। लड़के का चुनाव सही नहीं है। सवाल यह है कि कोई आदमी गलत निर्णय लेगा, इसका बहाना बनाकर कब तक उसे निर्णय लेने से रोका जाता रहेगा। जब कोई अपना जीवनसाथी भी नहीं चुन सकेगा तो वह कल्पना चावला क्या बनेगा। 

लोग प्रेम विवाहों को बदनाम करते हैं। कहा जाता है कि प्रेम विवाह सफल नहीं होगा। लेकिन, छत्तीसगुण मिलाकर होने वाली शादियों में भी गृहकलह एक प्रमुख फैक्टर बन जाता है। लोगों की आत्महत्याएं उठाकर देखिए, घरेलू कलह के चलते आत्महत्या करने वालों की संख्या सबसे ज्यादा है। लोग पूरे परिवार की जान लेने के बाद आत्महत्या कर लेते हैं। इसके पीछे कारण यह है कि हमने विवाह को पिंजड़ा समझ लिया है। जिसमें एक बार बंद होने के बाद कोई उससे आजाद नहीं हो सकता। 

विवाह में जैसे साथ रहना निहित है, उसी तरह से साथ नहीं रहना भी निहित है। 

जो समाज अपनी दुर्दशा के कारणों पर बहस करने की बजाय इस बात पर बहस करता है कि एक लड़का-लड़की को शादी करनी चाहिए या नहीं। निश्चित तौर पर वह अपनी दुर्दशा का खुद चुनाव करता है। 

दुर्भाग्य है कि हम ऐसा ही समाज हैं।

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links