ब्रेकिंग न्यूज़
BIG NEWS : नए वेरिएंट को लेकर विदेशों से आने वाले यात्रियों के लिए नई गाइडलाइंस जारी, बतानी होगी 14 दिन की ट्रैवल हिस्ट्री, RT-PCR निगेटिव रिपोर्ट भी जरूरी         केन्द्र की राज्यों को नसीहत: ओमिक्राॅन के लिए बुनियादी स्वास्थ्य ढाँचा तैयार करें         मोदी सरकार संसद के शीतकालीन सत्र में सभी मुद्दों पर चर्चा के लिए तैयार         BIG NEWS : केंद्र सरकार सुधर जाए वरना 26 जनवरी दूर नहीं : राकेश टिकैत         BIG NEWS : ओमीक्रोन ने बढ़ाई चिंता, केंद्र ने राज्‍यों को दिए निर्देश, अंतरराष्‍ट्रीय उड़ानों को लेकर SOP की होगी समीक्ष         BIG NEWS : जिसको मोदी ही नहीं समझा पाये उन्हें मैं कैसे समझाऊं: रामदेव         ममता दीदी ! ऐसी धर्मनिरपेक्षता से बाज आईये         ‘खालिदा जिया को मारना चा​हती है बांग्लादेश सरकार’         BIG NEWS : उत्तर से दक्षिण तक गरीबों को मिलेगा एक जैसा मुफ्त भोजन         BIG NEWS : B.1.1.529: कोरोना के नए वेरिएंट को लेकर WHO ने की बैठक, जल्द ही देशों के लिए जारी हो सकती हैं गाइडलाइन         चर्च जनविरोध के नियामक हैं !         नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट बनेगा उत्तरी भारत का लॉजिस्टिक गेटवे : पीएम मोदी         BIG NEWS : चिंता में डूबी भारत में कारोबार कर रही ई-कॉमर्स कंपनियां, जानें वजह         BIG NEWS : बिहार है देश का सबसे गरीब राज्य, आधी से ज्यादी आबादी गरीबी में गुजार रही जिंदगी, झारखंड दूसरे नंबर पर         BIG NEWS : NFHS सर्वे का बड़ा खुलासा, देश में पहली बार पुरुषों के मुकाबले महिलाओं की संख्या ज्यादा         BIG NEWS : लोकतंत्र पर चर्चा को लेकर अमेरिका ने ताइवान को बुलाया तो भड़का चीन, कहा US को होगा भारी नुकसान         BIG NEWS : महबूबा मुफ्ती ने फिर उठाई कश्मीर में 370 बहाल करने की मांग, कहा- हम गोडसे की भारत में नहीं रह सकते         बांग्लादेश के विजय दिवस समारोह में शामिल होंगे राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद         BIG NEWS : मोदी कैबिनेट का बड़ा फैसला.. गरीब कल्याण योजना मार्च तक बढ़ी, गरीबों को मार्च तक मिलेगा मुफ्त अनाज         BIG NEWS : कांग्रेस के सीनियर लीडर मणिशंकर अय्यर के विवादित बोल, कहा- 2014 से देश अमेरिका का गुलाम         GOOD NEWS : अब रेलवे चलाएगा 180 पर्यटन ट्रेन, भारत गौरव ट्रेन को मिलेंगे 3000 कोच         BIG NEWS : केंद्र सरकार लोकसभा के शीतकालीन सत्र के दौरान संसद में पेश करेगी क्रिप्टोकरेंसी सहित 26 बिल         BIG NEWS : हर साल 24,000 गाड़ियां होंगी कबाड़, नितिन गडकरी ने नोएडा में शुरू किया मारुति का पहला वाहन स्क्रैपेज प्लांट         BIG NEWS : मनीष तिवारी ने नई किताब में मुंबई हमले को लेकर मनमोहन सरकार पर उठाए सवाल, मुंबई हमले के बाद पाकिस्तान पर एक्शन न लेना कमजोरी थी         BIG NEWS : गलवान हमले में शहीद कर्नल संतोष बाबू महावीर चक्र से सम्मानित, 4 शहीदों को वीर चक्र         BIG NEWS : पठानकोट ग्रेनेड हमले के बाद जम्मू-कठुआ में हाई अलर्ट, सुरक्षाकर्मी मुस्तैद         BIG NEWS : एयरफोर्स और सीआरपीएफ पर हमले की फिराक में जैश के चार आतंकी, जम्मू कश्मीर में हाई अलर्ट          BIG NEWS : किसान आंदोलन की आड़ में सिखों और हिंदुओं में लड़ाई की चल रही थी साजिश, PM मोदी के फैसले से मंसूबे हुए नाकाम: श्री अकाल तख्त जत्थेदार         BIG NEWS : पठानकोट छावनी पर ग्रेनेड हमला, पूरे जिले में हाईअलर्ट; CCTV खंगाल रही पुलिस         BIG NEWS : महंगाई की एक और मार! नए साल से महंगे होंगे कपड़े और जूते-चप्पल, जानिए क्या है वजह         ......पहले कहा चुल्लूभर पानी में डूब जाएं, फिर दे दिया उत्कृष्ट विधायक का सम्मान         BIG NEWS : राजस्थान के ये विधायक आज लेंगे मंत्री पद की शपथ, 11 कैबिनेट और 4 राज्य मंत्रियों की सूची आई सामने         संयुक्त किसान मोर्चा : जारी रहेगा आंदोलन, किसान नेता दर्शन पाल बोले- 29 नवंबर को संसद तक निकाला जाएगा ट्रैक्टर मार्च         मिथिलाक सामा चकेबा परब         BIG NEWS : लातेहार में माओवादियों में उड़ाया रेलवे ट्रैक, कई ट्रेनों का रूट हुआ डाइवर्ट         देव दीपावली पर चमकी शिव की नगरी काशी, 84 घाटों पर रोशन हुए 15 लाख दीये         BIG NEWS : श्रीनगर में भी कैट की पीठ खुली, करीब 18 हजार मामले होंगे स्थानांतरित         BIG NEWS : मोदी सरकार ने वापस लिए तीनों कृषि कानून, राष्ट्र के नाम संबोधन में पीएम की बड़ी बातें जानिए        

रावण पर एक अलग पाठ !

Bhola Tiwari Oct 15, 2021, 9:05 AM IST कॉलमलिस्ट
img


ध्रुव गुप्त

(आईपीएस)

पटना : एक बार फिर राम के विजयोत्सव और रावण के पुतला-दहन की प्राचीन परंपरा को दुहराने का समय आ गया है। बेशक रावण का अपराध गंभीर था कि उसने देवी सीता का अपहरण किया था। इस अपराध को इसीलिए न्यायोचित नहीं ठहराया जा सकता कि उसने ऐसा अपनी बहन शूर्पणखा के अपमान का बदला लेने के लिए किया था। शूर्पणखा का अपमान अगर राम और लक्ष्मण ने किया था तो उसका बदला भी उन्हीं से लिया जाना चाहिए था। अपने पक्ष की स्त्री के अपमान का प्रतिशोध शत्रुपक्ष की स्त्री का अपमान करके लेने को किसी भी दृष्टि से नैतिक नहीं ठहराया जा सकता। यह स्त्री को पुरुष की वस्तु या संपति समझने की घृणित मानसिकता है। हां, इस बात को नकारा नहीं जा सकता कि इस अपराध के बीच रावण के चरित्र का एक उजला पक्ष भी रहा था। रावण ने अपनी बहन की नाक के एवज में सीता की नाक काटने का प्रयास नहीं किया। सीता के साथ उसका आचरण मर्यादित हीं था। उनकी इच्छा के विरुद्ध रावण ने उनसे निकटता बढ़ाने का कोई प्रयास नहीं किया। स्वयं महर्षि बाल्मीकि ने इस तथ्य की पुष्टि करते हुए लिखा है - राम के वियोग में व्यथित सीता से रावण ने कहा कि यदि आप मेरे प्रति काम-भाव नहीं रखती हैं तो मैं आपका स्पर्श भी नहीं कर सकता।

दशहरे का दिन राम के हाथों रावण की पराजय और मृत्यु का दिन है। किसी युद्ध में एक योद्धा के लिए विजय और पराजय से ज्यादा बड़ी बात उसका पराक्रम माना जाता रहा है। रावण अपने जीवन के अंतिम युद्ध में एक योद्धा की तरह लड़ा। राम ने उसे मारकर उसे उसके अपराध का दंड दिया। राम ज्ञानी थे। वे रावण के अहंकार के बावजूद उसकी विद्वता और ज्ञान का सम्मान करते थे। उसकी मृत्यु पर दुखी भी हुए थे। उसके मरने से पहले उन्होँने ज्ञान की याचना के लिए भ्राता लक्ष्मण को उसके पास भेजा था। फिर हम कौन हैं जो सहस्त्रों सालों से रावण को निरंतर जलाए जा रहे हैं ? एक अपराध का कितनी बार दंड निर्धारित है हिन्दू नीतिशास्त्र में ? हमारी संस्कृति में तो युद्ध में लड़कर जीतने वालों का ही नहीं, युद्ध में लड़कर मृत्यु को अंगीकार करने वाले योद्धाओं को भी सम्मान देने की परंपरा रही है। एक योद्धा की मृत्यु का उत्सव हर युग में अस्वीकार्य है। वैसे भी देश-दुनिया के लंबे इतिहास में रावण अकेला अपराधी नहीं था। उससे भी बड़े अभिमानी, दुराचारी और हत्यारे हमारी दुनिया में हुए हैं।एक अकेले रावण के प्रति ही हमारा ऐसा दुराग्रह क्यों ? 

अब रावण में कितनी अच्छाई थी और कितनी बुराई , इस पर बहस होती रहेगी। एक शिकायत इस देश के चित्रकारों और मूर्तिकारों से अवश्य रहेगी। वे लोग रावण के ऐसे कुरूप और वीभत्स पुतले, चित्र अथवा मूर्तियां क्यों बनाते हैं ? रावण कुरूप तो बिल्कुल नहीं था। उसके दस सिर भी नहीं थे। दस सिर की कल्पना यह दिखाने के लिए की गई थी कि उसमें दस लोगों के बराबर बुद्धि और बल था। जैसा कि रामलीला, हमारे फिल्मों या टीवी सीरियल्स में चित्रित किया जाता रहा है वह सदा प्रचंड क्रोध से भी नहीं भरा रहता था और न मूर्खों की भांति बात-बेबात अट्टहास ही किया करता था। 'रामायण' में ऐसे प्रसंग भरे पड़े हैं जिनसे यह अनुमान होता है कि अहंकार के बावजूद रावण में गंभीरता थी और स्थितियों के अनुरूप आचरण का विवेक भी। देखने में भी वह राम से कम रूपवान नहीं था। तब उसके रूप और सौंदर्य के उदाहरण दिए जाते थे। हनुमान पहली बार उसे देखकर मोहित हो गए थे। 'वाल्मीकि रामायण' का यह श्लोक देखें- 'अहो रूपमहो धैर्यमहोत्सवमहो द्युति:।अहो राक्षसराजस्य सर्वलक्षणयुक्तता॥' अर्थात रावण को देखते ही हनुमान मुग्ध होकर कहते हैं कि रूप, सौंदर्य, धैर्य, कांति सहित सभी लक्षणों से युक्त रावण में यदि अधर्म बलवान न होता तो वह देवलोक का भी स्वामी बन सकता था। 

क्या आपको ऐसा नहीं लगता कि रावण को वीभत्स दिखाकर अथवा उसकी हत्या का वार्षिक समारोह मनाकर वस्तुतः हम अपने भीतर के काम, क्रोध, अहंकार और भीरुता से ही आंखें चुराने का प्रयास कर रहे होते हैं ? स्त्रियों की अस्मिता और उनके साथ होने वाले अपराध को सिर्फ रावण के साथ ही क्यों जोड़कर देखा जाता है ? स्त्रियों के प्रति हम इतनी ही चिंता से भरे हुए है तो हमें रावण के पुतलों की जगह देश के कोने-कोने में हर दिन हमारी बच्चियों और स्त्रियों का शोषण, बलात्कार और क्रूर हत्या करने वाले दरिंदों को सज़ा देने और दिलाने की कोशिशें करनी चाहिए। दुर्भाग्य से ऐसा हम आजतक नहीं कर पाए। स्त्रियां आज भी हमारे समाज में असुरक्षित हैं और उनके साथ घट रहे अपराधों के प्रति हम आज भी संवेदनहीन और उदासीन। रावण के बेजान पुतलों को जलाने में कोई शौर्य नहीं है। जलाना ही है तो अपने भीतर छुपी लंपटता, कामुकता और बलात्कारी मानसिकता जैसे मनुष्यता के शत्रुओं को जलाकर राख कर डालिए ! रामराज्य की कल्पना को साकार करने की दिशा में हमारी यह सकारात्मक, सच्ची पहल होगी।

Similar Post You May Like

  • त्रिपुरा : एक नई सुबह

    नई दिल्ली : त्रिपुरा की जीत के पीछे उस भयंकर लूट के खात्मे की कहानी भी है जिसने त्रिपुरा के नौजवानों...

  • BIG NEWS : नए वेरिएंट को लेकर विदेशों से आने वाले ...

    नई दिल्ली : दक्षिण अफ्रीका में पाए गए कोरोना के ओमीक्रॉन वेरिएंट को लेकर दुनियाभर में खौफ है। वहीं अ...

  • जन्मदिन

    प्रशान्त करण(आईपीएस) रांची :जन्मदिन इस धरा पर आत्मा के किसी अधम शरीर में प्रवेश के बाद प्रसव की तिथ...

Recent Post

Popular Links