ब्रेकिंग न्यूज़
BIG NEWS : नए वेरिएंट को लेकर विदेशों से आने वाले यात्रियों के लिए नई गाइडलाइंस जारी, बतानी होगी 14 दिन की ट्रैवल हिस्ट्री, RT-PCR निगेटिव रिपोर्ट भी जरूरी         केन्द्र की राज्यों को नसीहत: ओमिक्राॅन के लिए बुनियादी स्वास्थ्य ढाँचा तैयार करें         मोदी सरकार संसद के शीतकालीन सत्र में सभी मुद्दों पर चर्चा के लिए तैयार         BIG NEWS : केंद्र सरकार सुधर जाए वरना 26 जनवरी दूर नहीं : राकेश टिकैत         BIG NEWS : ओमीक्रोन ने बढ़ाई चिंता, केंद्र ने राज्‍यों को दिए निर्देश, अंतरराष्‍ट्रीय उड़ानों को लेकर SOP की होगी समीक्ष         BIG NEWS : जिसको मोदी ही नहीं समझा पाये उन्हें मैं कैसे समझाऊं: रामदेव         ममता दीदी ! ऐसी धर्मनिरपेक्षता से बाज आईये         ‘खालिदा जिया को मारना चा​हती है बांग्लादेश सरकार’         BIG NEWS : उत्तर से दक्षिण तक गरीबों को मिलेगा एक जैसा मुफ्त भोजन         BIG NEWS : B.1.1.529: कोरोना के नए वेरिएंट को लेकर WHO ने की बैठक, जल्द ही देशों के लिए जारी हो सकती हैं गाइडलाइन         चर्च जनविरोध के नियामक हैं !         नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट बनेगा उत्तरी भारत का लॉजिस्टिक गेटवे : पीएम मोदी         BIG NEWS : चिंता में डूबी भारत में कारोबार कर रही ई-कॉमर्स कंपनियां, जानें वजह         BIG NEWS : बिहार है देश का सबसे गरीब राज्य, आधी से ज्यादी आबादी गरीबी में गुजार रही जिंदगी, झारखंड दूसरे नंबर पर         BIG NEWS : NFHS सर्वे का बड़ा खुलासा, देश में पहली बार पुरुषों के मुकाबले महिलाओं की संख्या ज्यादा         BIG NEWS : लोकतंत्र पर चर्चा को लेकर अमेरिका ने ताइवान को बुलाया तो भड़का चीन, कहा US को होगा भारी नुकसान         BIG NEWS : महबूबा मुफ्ती ने फिर उठाई कश्मीर में 370 बहाल करने की मांग, कहा- हम गोडसे की भारत में नहीं रह सकते         बांग्लादेश के विजय दिवस समारोह में शामिल होंगे राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद         BIG NEWS : मोदी कैबिनेट का बड़ा फैसला.. गरीब कल्याण योजना मार्च तक बढ़ी, गरीबों को मार्च तक मिलेगा मुफ्त अनाज         BIG NEWS : कांग्रेस के सीनियर लीडर मणिशंकर अय्यर के विवादित बोल, कहा- 2014 से देश अमेरिका का गुलाम         GOOD NEWS : अब रेलवे चलाएगा 180 पर्यटन ट्रेन, भारत गौरव ट्रेन को मिलेंगे 3000 कोच         BIG NEWS : केंद्र सरकार लोकसभा के शीतकालीन सत्र के दौरान संसद में पेश करेगी क्रिप्टोकरेंसी सहित 26 बिल         BIG NEWS : हर साल 24,000 गाड़ियां होंगी कबाड़, नितिन गडकरी ने नोएडा में शुरू किया मारुति का पहला वाहन स्क्रैपेज प्लांट         BIG NEWS : मनीष तिवारी ने नई किताब में मुंबई हमले को लेकर मनमोहन सरकार पर उठाए सवाल, मुंबई हमले के बाद पाकिस्तान पर एक्शन न लेना कमजोरी थी         BIG NEWS : गलवान हमले में शहीद कर्नल संतोष बाबू महावीर चक्र से सम्मानित, 4 शहीदों को वीर चक्र         BIG NEWS : पठानकोट ग्रेनेड हमले के बाद जम्मू-कठुआ में हाई अलर्ट, सुरक्षाकर्मी मुस्तैद         BIG NEWS : एयरफोर्स और सीआरपीएफ पर हमले की फिराक में जैश के चार आतंकी, जम्मू कश्मीर में हाई अलर्ट          BIG NEWS : किसान आंदोलन की आड़ में सिखों और हिंदुओं में लड़ाई की चल रही थी साजिश, PM मोदी के फैसले से मंसूबे हुए नाकाम: श्री अकाल तख्त जत्थेदार         BIG NEWS : पठानकोट छावनी पर ग्रेनेड हमला, पूरे जिले में हाईअलर्ट; CCTV खंगाल रही पुलिस         BIG NEWS : महंगाई की एक और मार! नए साल से महंगे होंगे कपड़े और जूते-चप्पल, जानिए क्या है वजह         ......पहले कहा चुल्लूभर पानी में डूब जाएं, फिर दे दिया उत्कृष्ट विधायक का सम्मान         BIG NEWS : राजस्थान के ये विधायक आज लेंगे मंत्री पद की शपथ, 11 कैबिनेट और 4 राज्य मंत्रियों की सूची आई सामने         संयुक्त किसान मोर्चा : जारी रहेगा आंदोलन, किसान नेता दर्शन पाल बोले- 29 नवंबर को संसद तक निकाला जाएगा ट्रैक्टर मार्च         मिथिलाक सामा चकेबा परब         BIG NEWS : लातेहार में माओवादियों में उड़ाया रेलवे ट्रैक, कई ट्रेनों का रूट हुआ डाइवर्ट         देव दीपावली पर चमकी शिव की नगरी काशी, 84 घाटों पर रोशन हुए 15 लाख दीये         BIG NEWS : श्रीनगर में भी कैट की पीठ खुली, करीब 18 हजार मामले होंगे स्थानांतरित         BIG NEWS : मोदी सरकार ने वापस लिए तीनों कृषि कानून, राष्ट्र के नाम संबोधन में पीएम की बड़ी बातें जानिए        

नवरात्र का दूसरा दिन : जानिए मां ब्रह्मचारिणी की पूजा विधि, मंत्र और महत्व

Bhola Tiwari Oct 08, 2021, 8:37 AM IST टॉप न्यूज़
img

नई दिल्ली : आज ‘नवरात्र’ का दूसरा दिन है। यानी मां ‘ब्रह्माचारिणी’ की पूजा-अर्चना का दिन। मां का यह रूप भक्तों को मनचाहे वरदान का आशीर्वाद देता है। मां के नाम का पहला अक्षर ‘ब्रह्म’ होता है, जिसका मतलब होता है ‘तपस्या’ और ‘चारिणी’ मतलब होता है ‘आचरण करना’।

मान्यता है कि इनकी पूजा से मनुष्य में तप, त्याग, वैराग्य, सदाचार, संयम की वृद्धि होती है। प्रथम दिन माता के ‘शैलपुत्री’ अवतार की पूजा के बाद दूसरे दिन ‘मां ब्रह्मचारिणी’ की पूजा-अर्चना की जाती है।श्रद्धालु पूरा दिन माता की आराधना में व्यतीत करते हैं। माता के इस स्वरूप से जुड़ी कथा भी प्रचलित है। मान्यता है कि मां के दरबार से कोई खाली हाथ नहीं जाता है। अगर सच्चे मन और श्रद्धा से मां से जो भी मुराद मांगो, वह अवश्य पूरी होती है। आइए जानें ‘ब्रह्मचारिणी’ माता की कथा, महत्व और पूजा विधि के बारे में –

पूजा विधि

मान्यताओं के मुताबिक, इस दिन स्नान आदि से निवृत्त होकर ‘मां ब्रह्मचारिणी’ की पूजा के लिए उनका चित्र या मूर्ति पूजा के स्थान पर स्थापित करें। हाथ में फूल लेकर ब्रह्माचारिणी देवी का ध्यान करें और माता के चित्र या मूर्ति पर फूल चढ़ाएं। नैवेद्य अर्पण करें। मां ब्रह्मचारिणी को चीनी और मिश्री पसंद है, इसलिए उन्‍हें चीनी, मिश्री और पंचामृत का भोग चढ़ाएं। माता को दूध से बने व्‍यंजन भी अतिप्रिय हैं। तो आप उन्‍हें दूध से बने व्‍यंजनों का भोग भी लगा सकते हैं।

मां ‘ब्रह्मचारिणी’ की आराधना करने हेतु अनेक मंत्रों का उल्लेख संबंधित ग्रंथों में दिया गया है। पूजा के समय इन सभी मंत्रों का उच्चारण कल्याणकारी माना जाता है। इनसे संसारिक जीवन में रूप लावण्य, कीर्ति, मान-सम्मान और यश की प्राप्ति की होती है। काम और क्रोध के निवारण के लिए माता के इस मंत्र को विधि विधान से पूजा करते हुए स्मरण करना करना चाहिए। मां निम्न मंत्रो ब्रह्मचारिणी की पूजा में निम्न मंत्र का उच्चारण करते हुए प्रार्थना करनी चाहिए।

इधाना कदपद्माभ्याममक्षमालाक कमण्डलु।

देवी प्रसिदतु मयि ब्रह्मचारिण्यनुत्त्मा।।

मां ब्रह्माचारिणी की कथा 

पूर्व जन्म में इस देवी ने हिमालय के घर पुत्री रूप में जन्म लिया था और नारदजी के उपदेश से भगवान शंकर को पति रूप में प्राप्त करने के लिए घोर तपस्या की थी। इस कठिन तपस्या के कारण इन्हें ‘तपश्चारिणी’ अर्थात्‌ ‘ब्रह्मचारिणी’ नाम से जाना गया। एक हजार वर्ष तक इन्होंने केवल फल-फूल खाकर बिताए और सौ वर्षों तक केवल जमीन पर रहकर शाक पर निर्वाह किया।

कुछ दिनों तक कठिन उपवास रखे और खुले आकाश के नीचे वर्षा और धूप के घोर कष्ट सहे। तीन हजार वर्षों तक टूटे हुए बिल्व पत्र खाए और भगवान शंकर की आराधना करती रहीं। इसके बाद तो उन्होंने सूखे बिल्व पत्र खाना भी छोड़ दिए। कई हजार वर्षों तक निर्जल और निराहार रह कर तपस्या करती रहीं। पत्तों को खाना छोड़ देने के कारण ही इनका नाम अपर्णा नाम पड़ गया।

कठिन तपस्या के कारण देवी का शरीर एकदम क्षीण हो गया। देवता, ऋषि, सिद्धगण, मुनि सभी ने ब्रह्मचारिणी की तपस्या को अभूतपूर्व पुण्य कृत्य बताया, सराहना की और कहा- “हे देवी, आज तक किसी ने इस तरह की कठोर तपस्या नहीं की. यह आप से ही संभव थी। आपकी मनोकामना परिपूर्ण होगी और भगवान ‘चंद्रमौलि शिवजी’ तुम्हें पति रूप में प्राप्त होंगे। अब तपस्या छोड़कर घर लौट जाओ। जल्द ही आपके पिता आपको लेने आ रहे हैं। मां की कथा का सार यह है कि जीवन के कठिन संघर्षों में भी मन विचलित नहीं होना चाहिए। मां ‘ब्रह्मचारिणी’ देवी की कृपा से सर्व सिद्धि प्राप्त होती है।

Similar Post You May Like

  • त्रिपुरा : एक नई सुबह

    नई दिल्ली : त्रिपुरा की जीत के पीछे उस भयंकर लूट के खात्मे की कहानी भी है जिसने त्रिपुरा के नौजवानों...

  • BIG NEWS : नए वेरिएंट को लेकर विदेशों से आने वाले ...

    नई दिल्ली : दक्षिण अफ्रीका में पाए गए कोरोना के ओमीक्रॉन वेरिएंट को लेकर दुनियाभर में खौफ है। वहीं अ...

  • जन्मदिन

    प्रशान्त करण(आईपीएस) रांची :जन्मदिन इस धरा पर आत्मा के किसी अधम शरीर में प्रवेश के बाद प्रसव की तिथ...

Recent Post

Popular Links