ब्रेकिंग न्यूज़
बारामूला में हिजबुल मुजाहिदीन का एक OGW गिरफ्तार, हैंड ग्रेनेड बरामद         अंदरखाने खोखला, बाहर-बाहर हरा-भरा...!         BIG NEWS : आतंकियों के साथ मिले जम्मू-कश्मीर पुलिस के निलंबित डीएसपी देविंदर सिंह के खिलाफ चार्जशीट दायर         BIG NEWS : LAC पर चीनी सेना ने टेंट, वाहन और सैनिकों को 2 किलोमीटर तक पीछे हटाया         BIG NEWS : खालिस्तानी समर्थक संगठन “सिख फॉर जस्टिस” पर बड़ी कार्रवाई, 40 वेबसाइट्स बैन         BIG NEWS : चीन का मोहरा बना पाकिस्तान, POK में अतिरिक्त पाकिस्तानी फोर्स तैनात         हुवावे बैन : चीनी राष्‍ट्रपति शी जिनपिंग को बड़ा झटका         BIG NEWS : चीन की शह पर रात के अंधेरे में सरहद पर फौज तैनात कर रहा है पाकिस्तान         गोडसे की अस्थियां अपने मुक्ति को...         दिल्ली-एनसीआर में बार-बार क्यों कांप रही धरती...         इस्कॉन के प्रमुख गुरु भक्तिचारू स्वामी का अमेरिका में कोरोना की वजह से निधन         BIG NEWS : कुलगाम एनकाउंटर में सुरक्षाबलों ने दो आतंकियों को मार गिराया         BIG NEWS : लेह अस्पताल पर उठे सवाल, आर्मी ने दिया जवाब, "बहादुर सैनिकों की उपचार की व्यवस्था को लेकर सवाल उठाना बेहद दुर्भाग्यपूर्ण"         BIG NEWS : JAC ने जारी किया 11वीं का रिजल्ट, 95.53 फीसदी छात्रों को मिली सफलता         कानपुर: चौबेपुर के SHO विनय तिवारी सस्पेंड, विकास दुबे से मिलीभगत का आरोप         राजौरी में आतंकी ठिकाने का पर्दाफाश, कई हथियार बरामद         BIG NEWS : विस्तारवाद पर दुनिया में अकेला पड़ गया चीन, भारत के साथ खड़ी हो गई महा शक्तियां         गुरु पूर्णिमा के दिन 5 जुलाई को लगेगा चंद्र ग्रहण, इन राशियों पर पड़ेगा सबसे ज्यादा असर         BIG NEWS : कराची में आतंकवादी हाफिज सईद के सहयोगी आतंकी मौलाना मुजीब की हत्या         BIG NEWS : भारत ने बॉलीवुड प्रोग्राम के पाकिस्तानी ऑर्गेनाइजर रेहान को किया ब्लैकलिस्ट         क्या रोक सकेंगे चीनी माल         BIG NEWS : सरहद पर मोदी का ऐलान, दुनिया में विस्तारवाद का हो चुका है अंत, PM मोदी के लेह दौरे से चीन में खलबली         BIG NEWS : CRPF जवान और 6 साल के बच्चे को मारने वाला आतंकी श्रीनगर एनकाउंटर में ढेर         भारत में बनी कोविड वैक्सीन 15 अगस्त तक होगी लॉन्च         BIG NEWS : आतंकवादियों से लोहा लेते हुए श्रीनगर में झारखंड का लाल शहीद         BIG NEWS : अचानक सुबह लेह पहुंचे पीएम मोदी, जांबाज जवानों से मिले और हालात का लिया जायजा         बॉलीवुड में फिर छाया मातम, मशहूर कोरियोग्राफर सरोज खान का निधन         BIG NEWS : गुंडों ने बरसाई अंधाधुंध गोलियां, सीओ समेत आठ पुलिसकर्मी शहीद         श्रीनगर एनकाउंटर में सुरक्षा बलों ने एक आतंकी को मार गिराया, 1 जवान शहीद         BIG NEWS : चीन की राजदूत हाओ यांकी के इशारे पर ओली गा रहे हैं ओले ओले...         बोत्सवाना में क्यों मर रहे हैं हाथी...         BIG NEWS : पुलवामा हमले का एक और आरोपी गिरफ्तार         झारखंड में हेमंत सोरेन की सरकार गिर जाएगी : सांसद निशिकांत दुबे         BIG NEWS : बीजेपी का नया टाइगर         BIG BREAKING : रामगढ़ के पटेल चौक पर दो ट्रेलर के बीच फंसी कार, दो की मौत, आधा दर्जन लोग कार में फसे         BIG NEWS : चीन को बड़ा झटका; DHL के बाद FedEX ने बंद की चीन से भारत आने वाली शिपमेंट सर्विस        

अरल सागर सूख रहा है

Bhola Tiwari Jul 14, 2019, 6:39 AM IST टॉप न्यूज़
img

एसडी ओझा

मध्य एशिया स्थित एक झील जो अरल सागर के नाम से विख्यात है । यह 6800 वर्ग किलोमीटर में फैली हुई है । इसके बड़े आकार के कारण इसे अरल झील न कहकर अरल सागर कहा जाता है । अरल झील का मतलब "द्वीपों का झील " है । यह 1500 द्वीपों से घिरा क्षेत्र है । पहले इसमें नाव व जहाज चला करते थे । अब यह सागर धीरे धीरे सिमट रहा है । इसका आकार सिमटकर अब केवल 10% हीं शेष रह गया है । अमू और सीर नामक दो नदियां इसमें आकर मिलतीं थीं , जिससे यह सागर सदा नीरा रहता था ।

1960 में अचानक सोवियत संघ ने इन नदियों का रुख अपने रेगिस्तान की तरफ मोड़ दिया । इससे फायदा यह हुआ कि उनके रेगिस्तान हरे भरे हो गये । चारों तरफ कपास व धान की फसलें लहराने लगीं । लेकिन अराल सागर की हालत बुरी हो गयी । यह पानी के अभाव में सिमटने लगा । अमू और सीर नदियों के पानी के अभाव में अरल सागर में लवणता अधिक हो गयी । लवणता मछलियों के जीवित रहने के लिए मुफीद नहीं है । बेशक आज उजबेकिस्तान दुनिया भर के कपास उत्पादक देशों में अग्रणी देश बन गया है , पर उसे यह अचीवमेंट अरल सागर की लाश पर मिली है ।

अरल सागर तीन अलग अलग भागों में बंट गया है । यह अब पर्यावरण क्षरण का अंतराष्ट्रीय प्रतीक बन गया है ।40 वर्षों से अरल सागर लगातार सिमट रहा है । सिमटने से जो धूल धूसरित क्षेत्र बच रहा है , वह धूल 300 वर्ग किलोमीटर में फैली फसल को बरबाद कर रही है । इस धूल में कीटनाशक मिले हैं । बचे हुए अरल सागर का पानी थलचर, नभचर और जलचर किसी के लिए भी मुफीद नहीं रह गया है । अरल सागर का पानी सबके लिए नुकसानदायक हो रहा है ।

बहुत आलोचना झेलने के बाद कजाकिस्तान को सद्बुद्धि जागी है । वह अरल सागर के अपने क्षेत्र में कोकरण बांध बनवाया है । इस परियोजना के कारण अरल सागर में पानी की गहराई 50 मीटर हो गयी है । बांध बन जाने के कारण अरल सागर का पानी बाहर नहीं जा पा रहा है । वर्षा का पानी भी इसी के कारण रुक रहा है । पानी की लवणता भी काफी कम हो गई है । इसमें मछलियां पालीं जा सकतीं हैं । यही परियोजना पूरे अरल सागर पर आजमानी चाहिए । इससे यह पूरा क्षेत्र पहले की भांति अरल सागर हो जाएगा । वैसे हम तभी जागते हैं जब पानी सर के ऊपर से निकलने वाला होता है ।

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links