ब्रेकिंग न्यूज़
बांदीपोरा में 4 OGWS गिरफ्तार, हथियार बरामद         BIG NEWS : हाफिज सईद समेत 5 आतंकियों के बैंक अकाउंट फिर से बहाल         BIG NEWS : लालू यादव का जेल "दरबार", तस्वीर वायरल         मान लीजिए इंटर में साठ प्रतिशत आए, या कम आए, तो क्या होगा?         BIG NEWS : झारखंड में रविवार को कोरोना संक्रमण से 6 मरीजों की मौत, बंगाल-झारखंड सीमा सील         BIG NEWS : सोपोर में सेना और आतंकियों के बीच मुठभेड़ जारी, अब तक 2 आतंकी ढेर         BIG NEWS : देश में PMAY के क्रियान्वयन में रामगढ़ नंबर वन         BIG NEWS : श्रीनगर में तहरीक-ए-हुर्रियत के चेयरमैन अशरफ सेहराई गिरफ्तार         BIG NEWS : ऐश्वर्या राय बच्चन और आराध्या बच्चन की कोरोना रिपोर्ट आई पॉजिटिव         BIG NEWS : मध्यप्रदेश की राह पर राजस्थान !         अमिताभ बच्चन ने कोरोना के खौफ के बीच सुनाई थी उम्मीद भरी कविता, अब..         .... टिक-टॉक वाले प्रकांड मेधावियों का दस्ता         BIG BRAKING : नक्सलियों नें कोल्हान वन विभाग कार्यालय व गार्ड आवास उड़ाया         BIG NEWS : महानायक अमिताभ बच्चन के बाद अभिषेक बच्चन को भी कोरोना         BIG NEWS : अमिताभ बच्चन करोना पॉजिटिव         BIG NEWS : आतंकियों को घुसपैठ कराने की कोशिश में पाकिस्तानी बॉर्डर एक्शन टीम         अपराधी मारा गया... अपराध जीवित रहा !          BIG NEWS : भारत चीन के बीच बातचीत, सकारात्मक सहमति के कदम आगे बढ़े         BIG NEWS : बारामूला के नौगाम सेक्टर में LOC के पास मुठभेड़, दो आतंकी ढेर         BIG STORY : समरथ को नहिं दोष गोसाईं         शर्मनाक : बाबू दो रुपए दे दो, सुबह से भूखी हूं.. कुछ खा लुंगी         BIG NEWS : वर्चुअल काउंटर टेररिज्म वीक में बोले सिंघवी, कश्मीर भारत का अभिन्न अंग है, था और रहेगा         BIG NEWS : कानपुर से 17 किमी दूर भौती में मारा गया गैंगेस्टर विकास, एसटीएफ के 4 जवान भी घायल         BIG NEWS : झारखंड के स्कूलों पर 31 जुलाई तक टोटल लॉकडाउन         BIG NEWS : चीन के खिलाफ “बायकॉट चाइना” मूवमेंट          पाकिस्तानी सेना ने नौशेरा सेक्टर में की गोलाबारी, 1 जवान शहीद         मुसीबत देश के आम लोगों की है जो बहुत....         BIG NEWS : एनकाउंटर में मारा गया गैंगस्टर विकास दुबे         बस नाम रहेगा अल्लाह का...         BIG NEWS : सेना के काफिले पर आतंकी हमला, जवान समेत एक महिला घायल         BIG NEWS : लश्कर-ए-तैयबा के आतंकियों ने की थी बीजेपी नेता वसीम बारी की हत्या         दुबे के बाद क्या ?         मै हूं कानपुर का विकास...         BIG NEWS : रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने 6 पुलों का किया ई उद्घाटन, कहा-सेना को आवाजाही में मिलेगी सुविधा         BIG NEWS : कुख्यात अपराधी विकास दुबे उज्जैन के महाकाल मंदिर से गिरफ्तार         BIG MEWS : चुटुपालु घाटी में आर्मी का गाड़ी खाई में गिरा, एक जवान की मौत, दो घायल         BIG NEWS : सेना ने फेसबुक, इंस्टाग्राम समेत 89 एप्स पर लगाया बैन         BIG NEWS : बांदीपोरा में आतंकियों ने बीजेपी नेता वसीम बारी की हत्या, हमले में पिता-भाई की भी मौत        

विश्व कप में भारत की रणनीतिक चूक !

Bhola Tiwari Jul 13, 2019, 6:33 AM IST टॉप न्यूज़
img

अब धोनी की बल्लेबाजी क्रम को लेकर तर्क वितर्क का दौर


सिद्धार्थ सौरभ 

नई दिल्ली : विश्व कप से टीम इंडिया के बाहर होने के बाद पूरा भारत मायूस है । थोड़ा व्यथित भी। थोड़ा विचलित भी। इसी दरमियान प्रतिक्रियाओं का दौर जारी है। और तर्क वितर्क के केंद्र में महेंद्र सिंह धोनी की बल्लेबाजी क्रम को लेकर है । भारतीय क्रिकेट के कई दिग्गज इस बात को लेकर हैरान हैं कि जब भारतीय टीम बुरी तरह लड़खड़ा गई थी तो ऋषभ पंत और हार्दिक पांड्या के बाद धोनी को भेजने का कोई तर्क नहीं था। कोई वजह नहीं थी। उन्हें और पहले भेजा जाना चाहिए था। सुनील गावस्कर, सचिन तेंदुलकर, सौरव गांगुली, वीवीएस लक्ष्मण समेत कई दिग्गज इस बात के हिमायती हैं कि महेंद्र सिंह धोनी को और पहले भेजा गया होता तो मैच के नतीजे कुछ और ही होते। बाहरहाल धोनी के बल्लेबाजी क्रम को लेकर चर्चा शुरू हो गई है। सौरभ गांगुली, वीवीएस लक्ष्मण समेत कई अन्य लोग मानते हैं कि धोनी को बल्लेबाजी क्रम में सातवें नंबर पर भेजना एक रणनीतिक चूक थी।


धोनी को हार्दिक पंड्या और दिनेश कार्तिक से पहले भेजा जा सकता था। शीर्ष क्रम के बुरी तरह लड़खड़ाने के बाद धोनी स्थिति को संभाल सकते थे। मगर ऐसा नहीं किया गया। 

लक्ष्मण ने विश्व कप 2011 के फाइनल का उदाहरण देते हुए कहा कि उस मौके पर भी धोनी खुद को प्रमोट करते हुए नंबर चार पर बल्लेबाजी करने आए थे। जबकि उनके पास युवराज सिंह जैसा बल्लेबाज मौजूद था। अंत में उनका यह फैसला कारगार रहा और वह विश्व कप जीतने में सफल रहे।

वहीं गांगुली के मुताबिक धोनी का कूल अंदाज दूसरे छोर पर ऋषभ पंत जैसे खिलाड़ियों के लिए मददगार बन सकता था। धोनी साथ होते, तो शायद पंथ इस तरह आउट होकर नहीं जाता।

सचिन तेंडुलकर ने भी स्वीकारा कि धोनी को ऊपरी क्रम में न भेजना एक बड़ी गलती रही। टीम विषम परिस्थिति में थी। ऐसे में धोनी का अनुभव काम आता। जडेजा की शानदार बल्लेबाजी में धोनी का भी योगदान रहा। विकटों के बीच में उन्हें लगातार साथी खिलाड़ी के साथ बात करते हुए देखा गया है।

युवा खिलाड़ी भी कई मौकों पर इस बात को स्वीकार चुके हैं कि जब धोनी साथ में होते हैं, तो चीजें आसान लगती हैं। मतलब, धोनी है तो कुछ भी मुमकिन है। मगर धोनी होना मुमकिन नहीं!

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links