ब्रेकिंग न्यूज़
अनब्याही माँ : चपला के बहाने इतिहास को देखा          भारतीय पत्रकारिता को फफूंदी बनाने वाली पत्रकार यूनियनें..         ब्रिटेन और फ्रांस को पीछे छोड़ भारत बना दुनिया की पांचवीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था         ..विधायक बंधू तिर्की और प्रदीप यादव आज विधिवत कांग्रेस के हुए         मरता क्या नहीं करता !          14 साल बाद बाबूलाल मरांडी की घर वापसी, जोरदार स्वागत         जेवीएम प्रमुख बाबूलाल मरांडी भाजपा में हुए शामिल, अमित शाह ने माला पहनाकर स्वागत किया         भारत में महिला...भारत की जेलों में महिला....          अनब्याही माताएं : प्राण उसके साथ हर पल है,यादों में, ख्वाबों में         कराची में हिंदू लड़की को इंसाफ दिलाने के लिए सड़कों पर उतरे लोग         बेतला राष्ट्रीय उद्यान में गर्भवती मादा बाघ की मौत !अफसरों में हड़कंप         बिहार की राजनीति में हलचल : शरद यादव की सक्रियता से लालू बेचैन          सीएम गहलोत की इच्छा, प्रियंका की हो राज्यसभा में एंट्री !         अनब्याही माताएं : गीता बिहार नहीं जायेगी          तेंतीस करोड़ देवी-देवताओं के देश में यही होना है...         केजरीवाल माँडल अपनाकर हीं सफलता प्राप्त कर सकतीं हैं ममता बनर्जी         28 फरवरी को रांची आएंगे राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद         सत्ता पर दबदबा रखनेवाले जूना पीठाधीश्वर आचार्य महामंडलेश्वर से लेकर तमाम शंकराचार्यों की जमात कहां हैं?          यही प्रथा विदेशों में भी....         इतिहास, शिक्षा, साहित्य और मीडिया..         जालसाजी : विधायक ममता देवी के नाम पर जालसाज व्यक्ति कर रहा था शराब माफिया की पैरवी         वार्ड पार्षदों ने नप अध्यक्ष के द्वारा मनमानी किए जाने की शिकायत उपायुक्त से की         पुलवामा हमले की बरसी पर इमोशनल हुआ बॉलीवुड, सितारों ने ऐसे दी शहीदों को श्रद्धांजलि         बड़ी खबर : प्रदीप यादव के कांग्रेस में शामिल होते ही झारखंड की सरकार गिरा देंगे : निशिकांत         क्या सरदार पटेल को नेहरू ने अपनी मंत्रिमंडल में मंत्री बनाने से मना कर दिया था?एक पड़ताल         वैलेंटाइन गर्ल की याद !         राजनीति में अपराधियों की एंट्री पर सुप्रीमकोर्ट सख्त, चुनाव आयोग और याचिकाकर्ता को दिये जरूरी निर्देश         राजनीतिक पार्टियों को सुप्रीम कोर्ट का.निर्देश : उम्मीदवारों का क्रिमिनल रेकॉर्ड जनता से साझा करें         सभ्य समाज के मुँह पर तमाचा है दिल्ली की "गार्गी काँलेज" और "लेडी श्रीराम काँलेज" जैसी घटनाएं         पूर्वजो के शब्द बनते ये देशज शब्द         हिंदी पत्रकारिता में सॉफ्ट हिंदुत्व और संतों में लीन सम्पादक..         कांग्रेस में घमासान : प्रदेश कांग्रेस कमेटियों को अपनी दुकान बंद कर देना चाहिए : शर्मिष्ठा मुखर्जी          एलपीजी सिलेंडर में बड़ा इजाफा : बिना सब्सिडी वाला एलपीजी सिलेंडर 144.5 रुपए महंगा        

दुविधा में जिंदगी

Bhola Tiwari Jul 12, 2019, 4:51 AM IST टॉप न्यूज़
img

 

कबीर संजय

पेड़ अपने बच्चों को छोटे-छोटे बीजों की डिबिया में बंद कर देते हैं। बच्चे उसी मे सोते रहते हैं। चुपचाप। ठीक ऐसे ही जैसे कोई बच्चा सबकुछ जानते-बूझते, चुपचाप आंख मूंदकर सोने का नाटक करता हो। वो सोता रहता है। साल बीत जाते हैं। महीनों बीत जाते हैं।

 फिर वो अचानक जाग जाता है। उसे अपने आसपास अपने अनुकूल की आहट मिल चुकी है। वो अपनी दोनों हथेलियों को जोड़कर डिबिया के खोल को तोड़कर बाहर निकल आता है। फिर वो आगे बढ़ता है। नमी तो उसे पसंद है पर अंधेरे से उसे नफरत है। उसे सूरज की रोशनी चाहिए। वो उसी दिशा में बढ़ने लगता है। लेकिन, इसी प्रयास में कोई उसे कुचल कर निकल जाता है। कोई उसे खाकर हजम कर जाता है। कोई आकर उसकी नन्हीं हथेलियों जैसी कोंपलों को ही कुतर लेता है। वो मर जाता है। लेकिन, उसके दूसरे भाई-बहन जागते हैं। वो भी आगे बढ़ते हैं। बहुत सारे मारे जाते हैं। लेकिन, फिर भी कुछ बचे रहते हैं। पतझड़ से पहले नीम अपनी हजारों-लाखों संतानों को जमीन में गिरा देता है। बरसात होती है और वे सब जाग जाते हैं। बरगद के बच्चे अपनी कोठरियों में बंद होकर न जाने कितने पक्षियों के पेट में चले जाते हैं। पक्षी उन्हें न जाने कहां-कहां रोप देते हैं। वे वहां जागते हैं, नींद टूट जाती है, कभी जीते हैं कभी मर जाते हैं।

जीवन जहां जितने खतरे में होता है, वहां वो अपने खुद के सर्वाइव करने का उतना ही ज्यादा प्रयास करता है। पेड़ों को लगता है कि उनके न जाने कितने बच्चे जीवित रहेंगे। वे लाखों-करोड़ों बच्चों को जनम देते हैं। हर साल। साल दर साल। वे छा जाना चाहते हैं। लेकिन, बचते बहुत ही कम है। प्रकृति न जाने कितनों की सहायता लेकर उनकी तादाद को नियंत्रित करती है। मछलियां हर साल लाखों अंडे देती हैं। उनकी चाहत भी अपनी संतत्ति को हर कहीं फैला देना है। उनकी संतति के रूप में उनका जीवन अंश भी जीवित रहेगा। वे चाहती हैं कि अपने जीवन अंश को हर कहीं पर बिखेर दें। लेकिन, वे बच्चे बचते बहुत कम हैं। कुछ तो अभी खोल में बंद ही रहते हैं कि कोई उन्हें खाकर हजम कर लेता है। फिर जब वे खोल से बाहर निकलती हैं तब कोई उन्हें हजम कर लेता है। हर समय अपने जीवन पर पड़े खतरे को जानकर वे भागती फिरती हैं। बचती बहुत ही कम हैं। मछलियों को भी पता है कि उनकी संतति को खतरे बहुत हैं। इसीलिए वे बेतादाद अंडे देती हैं। ताकि सबका पेट भरने के बाद भी कुछ न कुछ बचा रहे।

जब जीवन को जरा सी सहूलियतें हुईं। जब जीवन पर खतरे कम हुए। जब जीवन को खतरे से बचाने के लिए दूसरे उपाय भी आ गए तो जीवन ने इतनी बड़ी संख्या में संततियां पैदा करना बंद कर दिया। पक्षियों ने पेड़ की ऊंची डालियों पर घोसले बनाए। उन्हें हर खतरे से बचाने के उपाय किए। फिर उसमें अंडे दिए। उसे गर्मी दी। बच्चे निकले तो उन्हें प्यार दिया, पोषण दिया। छह अंडे दिए तो उसमें चार वयस्क हो गए। संतति की सफलता की दर बढ़ गई। इसलिए उन्होंने कम अंडे देना शुरू कर दिया। स्तनपायी जीवों ने अपनी संतति की सुरक्षा के उपाय और ज्यादा पुष्ट किए। और अपनी संतति की तादाद घटा दी। वे कम बच्चे पैदा करते हैं और उनकी सुरक्षा करते हैं ताकि वे बड़े होकर उनके जैसा बन जाएं और उनकी संतति बढ़ती रहे। उनका वंश चलता रहे।

बताइये भला पेड़ ऐसा कर सकते हैं कहीं। इसीलिए वे बेतादाद बच्चे पैदा करते हैं। कुछ तो बचेगा। एक-एक नींबू में ही दस-दस, बीस-बीस बीज होते हैं। कोई तो बचेगा। किसी को तो पैदा होने की मोहलत मिलेगी। किसी से तो अंकुर फूटेगा। लेकिन, जहां पर जीवन को निश्चिंतता है वहां पर संतति की तादाद कम होती गई।

यहां तक कि सिंगल चाइल्ड तक भी लोग पहुंच गए। या नो किड्स तक भी माना जाने लगा। यानी दो लोग मिलकर अपने पूरे जीवन में सिर्फ एक बच्चा पैदा करेंगे या वो भी नहीं करेंगे। जीवित और मृत के बीच के पुराने अंतर को देखें तो वो यहां पर मिटता हुआ दिखेगा। ऐसे लोगों की संख्या बढ़ रही है जो पोषण तो कर रहे हैं, यानी खा पी रहे हैं लेकिन प्रजनन नहीं कर रहे हैं। क्या आप इसे आधा मरा हुआ कहेंगे। यानी हाफ डेड। पता नहीं। कहना मुश्किल है।

लेकिन,यह जरूर है कि ऐसा करने की गुंजाईश या मोहलत भी जीवन की सुरक्षा ने दी है। मनुष्य को अब अपनी प्रजाति के नष्ट होने की चिंता नहीं है। बल्कि चिंता यही है कि कहीं उसकी प्रजाति ही पृथ्वी पर जीवित अन्य प्रजातियों के जीवन के लिए खतरा न बन जाए। तो ऐसी स्थिति में कुछ लोग पोषण तो करते रहें और प्रजनन नहीं करने का फैसला ले सकते हैं। प्रजनन की प्रक्रिया के आनंद से गुजरने में उन्हें परहेज नहीं है। पर प्रजनन में उन्हें रुचि नहीं है। हां, ये भी कहा जा सकता है कि अब मनुष्य का जीवन जहां पर पहुंच गया है वहां पर प्रजनन इतना महत्वपूर्ण भी नहीं रहा। जबकि, आनंद एक भाव है जो कि एक सांस्कृतिक प्राणी होने के चलते या फिर एक जीव होने के चलते उसके लिए अन्य जरूरतों जैसे हैं।

पर उन इंसानी समाजों का क्या जहां पर जीवन को अभी भी इतनी सुरक्षा हासिल नहीं है। वे अपनी संतति को जारी रखने के लिए क्या करते हैं। जी हां, वे बार-बार बच्चे पैदा करते हैं। हर साल बच्चे पैदा करते हैं। उनमें से कुछ बच्चे मर जाते हैं। कुछ पैदा होते समय ही मर जाते हैं। कुछ कोख से ही विदा हो जाते हैं। कुछ बचपन में ही भूख और बीमारियों से मर जाते हैं। कुछ विकलांग होकर पैदा होते हैं। इसके बावजूद कुछ बच्चे स्वस्थ पैदा होते हैं, वे अपनी जिजीविषा से समाज की मुश्किलों को हरा देते हैं। फिर वे अपनी संतति पैदा करते हैं। और इस बात का खयाल जरूर रखते हैं कि इतने बच्चे तो कम से कम पैदा कर ही दें ताकि कुछ न कुछ बच्चे जिंदा बचे, स्वस्थ रहे और अपनी संतति को आगे बढ़ा सकें। युद्धग्रस्त देशों, गृहयुद्ध में फंसे देशों, गरीब और वंचित देशों में आज भी मानव जीवन को इसी तरह से अपने आप को बचाने के संघर्ष में उलझे हुए देखा जा सकता है।

कहा जा सकता है कि आजादी के बाद से हमारे देश में ऐसी उलझने ज्यादा नहीं रहीं। आमतौर पर देश एक सीधी चाल से ही चला है। बारीकी में इसमें भी बहुत उतार चढ़ाव है। लेकिन, आप इस पर विहंगम दृष्टि डालेंगे तो लगेगा कि यह लगभग एक सीधी सपाट पगडंडी जैसा ही है। इसके चलते आज हमारे यहां भी एक पीढ़ी सिंगल चाइल्ड या नो किड्स वाले परिणाम तक पहुंच गई है। इसके पीछे जीवन की सुरक्षा और असुरक्षा दोनों ही काम कर रही है। एक प्रजाति के तौर पर सुरक्षा है पर एक व्यक्ति के तौर पर खुद के जीवन, भविष्य, रहन-सहन के छिनने की आशंका बतौर काम कर रही है। खैर, यह निर्विवाद है कि ऐसी एक पीढ़ी पैदा हो चुकी है।

पर जरा तीस-चालीस साल पहले के हमारे समाज पर निगाह डालिये। वहां पर जीवन की सुरक्षा कम थी। इलाज कम था। बच्चों की मौतें होती थी। मां-बाप कई-कई बच्चे पैदा करते थे। कई बार तो हर साल नया बच्चा पैदा होकर इस दुनिया को अपनी हथेलियों में समेटने की कोशिश करने लगता था। इसमें से कुछ मर जाते थे। कुछ कमदिमाग पैदा होते थे। कुछ बचपन में बीमारियों का शिकार हो जाते थे। फिर भी कुछ बचे रहते थे। हमारी पीढ़ी के लोग भी कई-कई भाई-बहनों वाले हुआ करते थे। खुद मैं पांच भाइयों और एक बहन वाला हूं। मेरी एक बहन जो डेढ़ से दो साल के बीच रही होगी, बीमार होकर मर गई। वरना हम भी पांच भाई और दो बहनों वाले होते।

मैं अपने आसपास के न जाने कितने ऐसे लोगों को याद कर सकता हूं जो कई-कई भाई-बहनों वाले बड़े परिवार में जनमते थे। उन्हीं के साथ बड़े होते थे। उनका भी कोई भाई या बहन बचपन में मर चुका हुआ होता। मिसकैरिज हो गए भ्रूणों की तो खैर कोई गिनती भी नहीं करता।

अब ऐसे में क्या उम्मीद की जाएगी कि किसी के पैदा होने का दिन कौन याद रखेंगा। अपने जनमदिन को लेकर मैं हमेशा से ही शंकालु रहा हूं। बल्कि कहा जाए तो जुलाई में जिनकी भी जन्मतारीख है, उसे लेकर मुझे संदेह ही होता है। घर वाले स्कूल में एडमीशन के लिए गए होंगे। जब जनम की तारीख पूछी गई तो वही लिखा दिया जो उस दिन रहा होगा। जैसे मुझे लगता है कि मेरा एडमीशन कराने जिस दिन लोग गए होंगे, उस दिन जरूर दस जुलाई रहा होगा। इसीलिए मेरा जनमदिन दस तारीख निर्धारित हो गई।

मां को अपना जनमदिन याद नहीं। पता नहीं। उन्हें अपनी उम्र भी नहीं पता। मैं पूछता हूं कि मैं कब पैदा हुआ था तो वे कहती हैं कि वोही साल ई वाली सड़क भी निकली रही। अब मैं जोड़-जाड़कर यह अंदाजा लगाता हूं कि यह जरूर 1975 से 1977 के बीच का कोई साल रहा होगा। तारीख क्या रही होगी, क्या पता। लेकिन, कहा जाता है न कि आप क्या हैं, यह इससे नहीं पता चलता कि आप अपने बारे में क्या सोचते हैं। बल्कि इससे पता चलता है कि दूसरे आपके बारे में क्या सोचते हैं। तो भाई, अब तो दस जुलाई को ही सबकुछ मान लो। असली तो प्रगट हुआ नहीं। तो नकली का ही हिसाब रखो। लेकिन, यह सब मुझे उदास कर जाता है। खासतौर पर इसलिए भी कि यह मुझे याद दिलाता है कि अपनी आधी से ज्यादा उम्र मैंने जी ली और अब जो वक्त बचा है उसमें मुझे बहुत सी नामुराद बीमारियों से लड़ते हुए बिताना पड़ सकता है और इस आधी उम्र में भी मैं अपने लिए कोई रास्ता नहीं खोज पाया। असमंजस में ही रहा। दुविधा में ही रहा। और दुविधा में जीना सचमुच एक बड़ा कष्ट है।

(जनमदिन के बाद के अवसाद में लिखा था। कुछ हिस्सा आपसे साझा कर रहा हूं। तस्वीर इंटरनेट से)

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links