ब्रेकिंग न्यूज़
खून बेच कर हेरोइन का धुआं उड़ाते हैं गढ़वा के युवा         कब होगी जनादेश से जड़ों की तलाश          'नसबंदी का टारगेट', विवाद के बाद कमलनाथ सरकार ने वापस लिया सर्कुलर         पीढ़ियॉं तो पूछेंगी ही कि गाजी का अर्थ क्या होता है?         मातृ सदन की गंगा !         ओवैसी की सभा में महिला ने पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे लगाए         एक बार फिर चर्चा में हैं सामाजिक कार्यकर्ता "तीस्ता सीतलवाड़",शाहीनबाग में उन्हें औरतों को सिखाते हुए देखा गया         कनपुरिया गंगा, कनपुरिया गुटखा, डबल हाथरस का मिष्ठान और हरजाई माशूका सी साबरमती एक्सप्रेस..         शाहीन बाग में वार्ता विफल : जिस दिन नागरिकता कानून हटाने का एलान होगा, हम उस दिन रास्ता खाली कर देंगे         फ्रांस में विदेशी इमामों और मुस्लिम टीचर्स पर प्रतिबंध         'राष्ट्रवाद' शब्द में हिटलर की झलक, भारत कर सकता है दुनिया की अगुवाई : मोहन भागवत         आतंकवाद के खिलाफ चीन ने पाकिस्तान का साथ छोड़ा         दिमाग में गोबर, देह पर गेरुआ!          त्राल में सुरक्षाबलों ने तीन आतंकियों को मार गिराया         CAA-NRC-NPR के समर्थन में रिटायर्ड जज और ब्यूरोक्रेट्स ने राष्ट्रपति को लिखा पत्र         अनब्याही माँ : चपला के बहाने इतिहास को देखा          भारतीय पत्रकारिता को फफूंदी बनाने वाली पत्रकार यूनियनें..         ब्रिटेन और फ्रांस को पीछे छोड़ भारत बना दुनिया की पांचवीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था         ..विधायक बंधू तिर्की और प्रदीप यादव आज विधिवत कांग्रेस के हुए         मरता क्या नहीं करता !          14 साल बाद बाबूलाल मरांडी की घर वापसी, जोरदार स्वागत         जेवीएम प्रमुख बाबूलाल मरांडी भाजपा में हुए शामिल, अमित शाह ने माला पहनाकर स्वागत किया         भारत में महिला...भारत की जेलों में महिला....          अनब्याही माताएं : प्राण उसके साथ हर पल है,यादों में, ख्वाबों में         कराची में हिंदू लड़की को इंसाफ दिलाने के लिए सड़कों पर उतरे लोग         बेतला राष्ट्रीय उद्यान में गर्भवती मादा बाघ की मौत !अफसरों में हड़कंप         बिहार की राजनीति में हलचल : शरद यादव की सक्रियता से लालू बेचैन          सीएम गहलोत की इच्छा, प्रियंका की हो राज्यसभा में एंट्री !         अनब्याही माताएं : गीता बिहार नहीं जायेगी          तेंतीस करोड़ देवी-देवताओं के देश में यही होना है...         केजरीवाल माँडल अपनाकर हीं सफलता प्राप्त कर सकतीं हैं ममता बनर्जी         28 फरवरी को रांची आएंगे राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद         सत्ता पर दबदबा रखनेवाले जूना पीठाधीश्वर आचार्य महामंडलेश्वर से लेकर तमाम शंकराचार्यों की जमात कहां हैं?         

प्रकृति से विमुख क्यों

Bhola Tiwari Jul 10, 2019, 5:07 AM IST टॉप न्यूज़
img

 कबीर संजय

चालीस पार कर चुकी हमारी पीढ़ी के लोग निश्चित तौर पर ऐसा बहुत कुछ जानते हैं, जिनसे हमसे आगे की पीढ़ी वंचित रह गई है। मैं सौ से ज्यादा किस्म के पेड़ों को पहचान सकता हूं। जानवरों की सौ से ज्यादा प्रजातियों और पक्षियों की भी पचासियों के किस्मों की शकल मैं जानता हूं। कितनी ही मछलियों के अलग-अलग नाम मैं जानता हूं।

और यह सब कुछ मुझे किसी स्कूल में नहीं पढ़ाया गया। यह मेरे सहज ज्ञान का हिस्सा रहा है। मैं पेड़ पर चढ़ सकता हूं। नदी में तैर सकता हूं। प्रकृति के साथ एकात्म स्थापित करने के क्रम में बचपन से ही यह कुछ मैंने अपने आप सीखा है। जैसे धीरे-धीरे खड़े होकर चलना और अपनी भाषा बोलना। चालीस पार कर चुके मेरे जैसे तमाम लोगों के जीवन में यह सहज ज्ञान शामिल रहा है। 

मेरे खयाल से इनसान ने सबसे पहले अपनी कलाकारी गुफाओं की दीवारों पर दिखानी शुरू की। उसने गुफा पर भित्ति चित्र बनाए। अपने अनगढ़ तरीकों से उसने अपने जीवन की सच्चाइयों को उकेरना शुरू किया। इसमें उसने उन जानवरों को शामिल किया जो उनके आस-पास रहते थे, जिनका वे शिकार किया करते थे। वे उनके सहज ज्ञान में शामिल थे। हजारों साल पहले उकेरे गए यह चित्र आज भी हमारे पूर्वजों के सहज ज्ञान और जिजीविषा के प्रतीक हैं और उन्हें सहेज कर रखने की जरूरत है। 

मुश्किल यह है कि प्रकृति के साथ यह तादात्म लगातार कम होता जा रहा है। हमसे पहले वाली पीढ़ी प्रकृति के ज्यादा करीब थी। उसके सहज ज्ञान में ज्यादा चीजें शामिल थीं। वह पीढ़ी गेहूं, जौ और जई के सप्ताह भर पुराने पौधे को देखकर भी उन्हें पहचान सकती थी। लेकिन, आज हममें से शायद बहुत सारे लोग ऐसा नहीं कर पाएंगे। 

क्या जो सब्जियां हम खाते हैं, उनके पौधों को पहचान सकते हैं। जो फल हम खाते हैं, उनके पत्तों से भी हमारी पहचान हैं। जो साग यानी पत्तियां, जो तने और जो जड़ें हम खाते हैं, क्या उन्हें पहचानते हैं। खराब बात यह है कि हमसे आगे की पीढ़ी मोबाइल के ढेर सारे मॉडलों को अलग-अलग पहचान लेती है। उसको कारों और बाइकों के बारे में बहुत कुछ पता है। उसके फीचर उसने रटे हुए हैं। कितने जीबी रैम है, कितने मेगा पिक्सल कैमरा। उसके सहज ज्ञान का हिस्सा यही कुछ बनता जा रहा है। 

प्रकृति कोई अलग चीज नहीं है। हम खुद प्रकृति हैं। इस बात का अहसास जितना कम होता जाता है। हमारा सहज ज्ञान उतना ही कमजोर होता जा रहा है। 

जरूरत इस बात की है कि हम अलग-अलग पेड़ पौधों को उनके नाम से जानें। जीव-जंतुओं को पहचानें और ईको सिस्टम में उनकी भूमिका को जानें। कीट-पतंगे हमारे जीवन का आधार है। 

मोबाइल और कारों के फीचर से नहीं बल्कि अपने आस-पास की प्रकृति के साथ बच्चों का परिचय कराएं। हो सके तो खुद भी नो मोबाइल और नो टीवी डे मनाएं। और खुद याद करने की कोशिश करें कि हम कितने पेड़ों को पहचान सकते हैं। 

(चित्र भीमबैठका की गुफाओं की दीवारों का है और इंटरनेट से लिया गया है। भीमबैठका भोपाल शहर के पास है। अपने पूर्वजों की जिजीविषा और जीवन को देखने हर किसी को यहां जाना चाहिए)

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links