ब्रेकिंग न्यूज़
BIG NEWS : अगर ठोस कदम नहीं उठाया गया तो कोरोना वायरस की महामारी बद से बदतर होती जाएगी : टेड्रोस एडनाँम ग्रेब्रीयेसोस         BIG NEWS : बारामूला से अगवा बीजेपी नेता को सुरक्षाबलों ने कराया मुक्त         BIG NEWS : राज्य में बुधवार को मिले रिकार्ड 316 कोरोना के नए मरीज, दो मरीजों की मौत          BIG NEWS : राहुल बोले - कांग्रेस से जो जाना चाहता है जा सकता है!          BIG NEWS : चीन के हुवावे को भारत का करारा जवाब है Jio5G         BIG NEWS : LOC के पास एक पाकिस्तानी घुसपैठिया गिरफ्तार         BIG NEWS : बारामूला में आतंकियों ने बीजेपी नेता को किया अगवा, तलाश जारी         BIG NEWS : 15 अगस्त को लॉन्च हो सकती है देश की पहली कोरोना वैक्सीन         CBSE 10th Result : लड़कियों का पास प्रतिशत 93.31 फीसदी और लड़कों का 90.14 फीसदी रहा         BIG NEWS : पाकिस्तान आर्मी का नया कारनामा, बकरीद पर जिबह के लिए फौजी कसाई सर्विस लॉन्च         बिहार में बाढ़ की शुरुआत और नेपाल का पानी छोड़ना          BIG NEWS : राज्य में मंगलवार को रिकार्ड 247 कोरोना मरीज, तीन संक्रमितों की हुई मौत          BIG NEWS : अमेरिका के बाद ब्रिटेन ने भी Huawei को किया बैन         BIG NEWS : छवि रंजन बने रांची के नये डीसी, झारखंड में 18 IAS अधिकारियों का तबादला         BIG NEWS : विकास दुबे की तरह मेरा एनकाउंटर करना चाहते थे डीएसपी और इंस्पेक्टर : भोला दांगी         BIG NEWS : श्रीनगर पुलिस हेडक्वार्टर सील, जम्मू कश्मीर में कुल 10827 कोरोना के मरीज         BIG NEWS : भारत-चीन के बीच चौथे चरण की कोर कमांडर स्तर की बैठक शुरू, कई अहम मुद्दों पर होगी चर्चा         BIG NEWS : सचिन पायलट पर कार्रवाई, उप मुख्यमंत्री के पद से हटाए गए         नेपाल पीएम के बिगड़े बोल, कहा – “नेपाल में हुआ था भगवान राम का जन्म, नेपाली थे भगवान राम”         CBSE 12वीं का रिजल्ट : देश में 88.78% स्टूडेंट पास         BIG NEWS : सेना प्रमुख एमएम नरवणे जम्मू पहुंचे, सुरक्षा स्थिति का लिया जायजा         अनंतनाग एनकाउंटर में 2 आतंकी ढेर         बांदीपोरा में 4 OGWS गिरफ्तार, हथियार बरामद         BIG NEWS : हाफिज सईद समेत 5 आतंकियों के बैंक अकाउंट फिर से बहाल         BIG NEWS : लालू यादव का जेल "दरबार", तस्वीर वायरल         मान लीजिए इंटर में साठ प्रतिशत आए, या कम आए, तो क्या होगा?         BIG NEWS : झारखंड में रविवार को कोरोना संक्रमण से 6 मरीजों की मौत, बंगाल-झारखंड सीमा सील         BIG NEWS : सोपोर में सेना और आतंकियों के बीच मुठभेड़ जारी, अब तक 2 आतंकी ढेर         BIG NEWS : देश में PMAY के क्रियान्वयन में रामगढ़ नंबर वन         BIG NEWS : श्रीनगर में तहरीक-ए-हुर्रियत के चेयरमैन अशरफ सेहराई गिरफ्तार         BIG NEWS : ऐश्वर्या राय बच्चन और आराध्या बच्चन की कोरोना रिपोर्ट आई पॉजिटिव         BIG NEWS : मध्यप्रदेश की राह पर राजस्थान !         अमिताभ बच्चन ने कोरोना के खौफ के बीच सुनाई थी उम्मीद भरी कविता, अब..         .... टिक-टॉक वाले प्रकांड मेधावियों का दस्ता         BIG BRAKING : नक्सलियों नें कोल्हान वन विभाग कार्यालय व गार्ड आवास उड़ाया         BIG NEWS : महानायक अमिताभ बच्चन के बाद अभिषेक बच्चन को भी कोरोना         BIG NEWS : अमिताभ बच्चन करोना पॉजिटिव         BIG NEWS : आतंकियों को घुसपैठ कराने की कोशिश में पाकिस्तानी बॉर्डर एक्शन टीम         अपराधी मारा गया... अपराध जीवित रहा !         

हम तो अपनी सांसों की वकालत करेंगे....

Bhola Tiwari Jul 09, 2019, 8:01 AM IST टॉप न्यूज़
img

 कबीर संजय

पूरी दुनिया में ही जंगलों की जान को खतरा है। कहीं पर रेल की पटरियों के लिए, कहीं पर बुलेट ट्रेन के लिए, कहीं पर एक्सप्रेस वे के लिए, कहीं पर खेती के लिए, कहीं पर बांध के लिए, कहीं पर कोयला-लोहा जैसे खनन के लिए, कहीं पर शहर बसाने के लिए, कहीं पर किसी अन्य कमर्शियल एक्टिविटी के लिए उन्हें काटा जा रहा है। हैरत तो यह है कि कहा जाता है कि जंगल साफ किया जा रहा है। क्या जंगल धरती पर पड़ा हुआ कूड़ा-कचरा है, जिसे साफ करने की जरूरत है। आज से चार सौ सालों पहले कोई फोटो सिंथेसिस यानी प्रकाश संश्लेषण की क्रिया के बारे में नहीं जानता था। लोगों को यह नहीं पता था कि पेड़-पौधे ही वह कीमती ऑक्सीजन छोड़ते हैं, जिस पर हम जिंदा हैं। लेकिन, लोगों को प्रकृति के साथ जीवन जीने का शऊर था। वे अपने हर कदम में पेड़-पौधों की हिफाजत करने का प्रयास करते थे। वे जंगलों और प्रकृति को प्यार करते थे। जंगलों को हटाकर उनकी जगह पर खेती और इंसानी बस्तियों को बसाने का मलाल आप विभूति भूषण बंधोपाध्याय की किताब आरण्यक में देख सकते हैं। 

पेड़ हमकों सांस देते हैं। आज यह हमारे सामान्य ज्ञान का हिस्सा है। फिर हम क्यों न अपनी सांसों की हिफाजत करें। हम क्यों न उन पेड़ पौधों को बचाने का प्रयास करें, जो हमें जीवन देते हैं। जंगल हर कहीं काटे जा रहे हैं, वे छत्तीसगढ़ के जंगलों में भी काटे जा रहे हैं, वे ब्राजील के एमेजॉन के जंगलों में भी काटे जा रहे हैं, वे इंडोनेशिया में भी काटे जा रहे हैं। हर जगह कमर्शियल एक्टिविटी सदियों से चली आ रही नेचुरल एक्टिविटी पर भारी पड़ रही है। 

इन जंगलों को धरती पर पड़े कूड़े-कचरे की तरह साफ कर देने से किसी कंपनी का फायदा होगा। किसी पूंजीपति की तिजोरी और ज्यादा भर जाएगी। इससे वह लंदन में बंगला खरीदेगा और स्विस बैंक के खातों में और मोटी रकम जमा करेगा। 

जाहिर है कि कारपोरेट अपने हितों की वकालत करेगा। लेकिन, हम क्यों कारपोरेट की वकालत करेंगे। हम क्यों उनके मुनाफे की हिफाजत करेंगे। हम तो अपनी सांसों की वकालत करेंगे। हम तो अपनी सांसों की हिफाजत करेंगे। छत्तीसगढ़ हो, महाराष्ट्र हो या फिर एमेजॉन या इंडोनेशिया, कहीं भी पेड़ों के काटे जाने से हमारा विरोध है। 

कुछ मित्रों को लगता है कि यह प्रोपेगंडा है। नहीं यह प्रोपेगंडा नहीं है। यह हमारा कंसर्न है। सरोकार है। जीवन को बचाने का एक प्रयास है। बात भाजपा-कांग्रेस, सपा-बसपा, सीपीआई-सीपीएम, डीएमके-एडीएमके से बहुत आगे निकल चुकी है। राजनीतिक पार्टियों के लिए तर्क गढ़ने की बजाय अपने और पृथ्वी के जीवन के लिए तर्क गढ़ो। 

अपनी हिफाजत करो। क्योंकि, यह करने कोई और नहीं आएगा। यह हमें ही मिलकर करना होगा। यह प्रोपेगंडा नहीं, प्रकृति, पर्यावरण और पृथ्वी को बचाने की मुहिम है।

और अंत में एक भूलसुधारः

दो दिन पहले जंगलों पर हो रहे हमलों पर लिखी एक पोस्ट में जल्दबाजी वश यह लाइन लिखी गई कि सरकार ने एक लाख 70 हजार हेक्टेयर क्षेत्र में फैले हसदेव अरण्य में खनन को मंजूरी दी है। जबकि, सही लाइन यह है कि सरकार ने एक लाख 70 हजार हेक्टेयर क्षेत्र में फैले हसदेव अरण्य के पारसा ब्लाक में खनन को मंजूरी दी है। इसमें आठ सौ हेक्टेयर के लगभग जमीन आती है। कुछ मित्रों द्वारा ध्यान दिलाए जाने के बाद तुरंत ही इसे ठीक कर लिया गया है। हालांकि, कुछ लोग इसी लाइन को लेकर ट्रोल करने का प्रयास कर रहे हैं। उन मित्रों से भी हाथ जोड़कर गुजारिश है कि किसी कारपोरेट या राजनीतिक पार्टी की वकालत मत करो, अपनी सांसों और अपने जीवन की वकालत करो। यह वह लड़ाई है जिसमें कोई नहीं बचने वाला।

(तस्वीर इंटरनेट से साभार ली गई है और हसदेव अरण्य की ही है।)

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links