ब्रेकिंग न्यूज़
दिमाग में गोबर, देह पर गेरुआ!          त्राल में सुरक्षाबलों ने तीन आतंकियों को मार गिराया         CAA-NRC-NPR के समर्थन में रिटायर्ड जज और ब्यूरोक्रेट्स ने राष्ट्रपति को लिखा पत्र         अनब्याही माँ : चपला के बहाने इतिहास को देखा          भारतीय पत्रकारिता को फफूंदी बनाने वाली पत्रकार यूनियनें..         ब्रिटेन और फ्रांस को पीछे छोड़ भारत बना दुनिया की पांचवीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था         ..विधायक बंधू तिर्की और प्रदीप यादव आज विधिवत कांग्रेस के हुए         मरता क्या नहीं करता !          14 साल बाद बाबूलाल मरांडी की घर वापसी, जोरदार स्वागत         जेवीएम प्रमुख बाबूलाल मरांडी भाजपा में हुए शामिल, अमित शाह ने माला पहनाकर स्वागत किया         भारत में महिला...भारत की जेलों में महिला....          अनब्याही माताएं : प्राण उसके साथ हर पल है,यादों में, ख्वाबों में         कराची में हिंदू लड़की को इंसाफ दिलाने के लिए सड़कों पर उतरे लोग         बेतला राष्ट्रीय उद्यान में गर्भवती मादा बाघ की मौत !अफसरों में हड़कंप         बिहार की राजनीति में हलचल : शरद यादव की सक्रियता से लालू बेचैन          सीएम गहलोत की इच्छा, प्रियंका की हो राज्यसभा में एंट्री !         अनब्याही माताएं : गीता बिहार नहीं जायेगी          तेंतीस करोड़ देवी-देवताओं के देश में यही होना है...         केजरीवाल माँडल अपनाकर हीं सफलता प्राप्त कर सकतीं हैं ममता बनर्जी         28 फरवरी को रांची आएंगे राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद         सत्ता पर दबदबा रखनेवाले जूना पीठाधीश्वर आचार्य महामंडलेश्वर से लेकर तमाम शंकराचार्यों की जमात कहां हैं?          यही प्रथा विदेशों में भी....         इतिहास, शिक्षा, साहित्य और मीडिया..         जालसाजी : विधायक ममता देवी के नाम पर जालसाज व्यक्ति कर रहा था शराब माफिया की पैरवी         वार्ड पार्षदों ने नप अध्यक्ष के द्वारा मनमानी किए जाने की शिकायत उपायुक्त से की         पुलवामा हमले की बरसी पर इमोशनल हुआ बॉलीवुड, सितारों ने ऐसे दी शहीदों को श्रद्धांजलि         बड़ी खबर : प्रदीप यादव के कांग्रेस में शामिल होते ही झारखंड की सरकार गिरा देंगे : निशिकांत         क्या सरदार पटेल को नेहरू ने अपनी मंत्रिमंडल में मंत्री बनाने से मना कर दिया था?एक पड़ताल         वैलेंटाइन गर्ल की याद !         राजनीति में अपराधियों की एंट्री पर सुप्रीमकोर्ट सख्त, चुनाव आयोग और याचिकाकर्ता को दिये जरूरी निर्देश         राजनीतिक पार्टियों को सुप्रीम कोर्ट का.निर्देश : उम्मीदवारों का क्रिमिनल रेकॉर्ड जनता से साझा करें         सभ्य समाज के मुँह पर तमाचा है दिल्ली की "गार्गी काँलेज" और "लेडी श्रीराम काँलेज" जैसी घटनाएं         पूर्वजो के शब्द बनते ये देशज शब्द        

"मैं जन्म से एक ब्रिटिश हूँ और मैं माफ़ी मांगता हूँ”.......

Bhola Tiwari Jul 07, 2019, 7:17 AM IST टॉप न्यूज़
img

 नीरज कृष्ण

आज भी ‘नासूर बन दुखता है’ फिरंगियों को जलियांवाला बाग हत्याकांड !!

“आकलैंड रायटर्स फेस्टिवल के उद्घाटन के दौरान कुछ चुनिन्दा लेखकों को 7 मिनट के भीतर एक ‘सच्ची कहानी’ सुनने के लिए आमंत्रित किया गया था। जिसमे एक आमंत्रित लेखक एवं कांग्रेस के चर्चित सांसद शशि थरूर भी थे। शशि थरूर ने इस मंच का प्रयोग जलियांवाला बाग़ की घटना को सुनाने में प्रयोग लाया, उन्होंने इतने प्रभावशाली ढंग से इस मार्मिक घटना का जिक्र किया कि उन्हें सुनने वाले श्रोताओं में से एक श्रोता इतना भावुक हो गया कि उसने एक पुस्तक पर लिख कर शशि थरूर को दिया – “ मैं जन्म से एक ब्रिटिश हूँ और मैं माफ़ी मांगता हूँ”।  

भारत की आज़ादी के आंदोलन में जलियांवाला बाग का सामूहिक हत्याकांड देशवासियों पर सबसे ज्यादा असर डालने वाला है। भारत के इतिहास में कुछ तारीख कभी नहीं भूली जा सकती हैं। 13 अप्रैल 1919 को बैसाखी के पर्व कर पंजाब में अमृतसर के जलियांवाला बाग में ब्रिटिश ब्रिगेडियर जनरल रेजीनॉल्ड डायर द्वारा किए गए निहत्थे मासूमों के हत्याकांड से केवल ब्रिटिश औपनिवेशिक राज की बर्बरता का ही परिचय नहीं मिलता बल्कि इसने भारत के इतिहास की धारा को ही बदल दिया। 

13 अप्रैल 1919 को बैसाखी के पावन मौके पर अमृतसर के जलियावाला बाग में हुए नरसंहार का दर्द आज भी लोगों के दिलों में जिंदा है। हर साल जब भी यह दिन यह तारीख आती है तो सभी की आंखें उन लोगों को याद कर नम हो जाती हैं जिन्होंने यहां पर अपनी जान गंवाई। उस दिन जलियावाला बाग में ब्रिटिश राज की ओर से दागी गई गोलियों की गूंज आज भी यहां सुनाई देती है। शहीदों के खून से लाल हुई यह भूमि अब किसी तीर्थस्थल से कम नहीं है। इस जघन्य हत्याकांड के बाद चर्चिल ने कहा था कि जोन ऑफ आर्क को जला देने के बाद होने वाला यह अमानवीय हत्याकांड ब्रिटिश इतिहास पर एक धब्बा है।

ब्रिगेडियर जनरल रेजीनॉल्ड डायर के निर्देश पर 90 ब्रिटिश सैनिकों को बाग को घेर कर बिना कोई चेतावनी दिए निहत्थे लोगों पर गोलियां चलानी शुरु कर दिया और 10 मिनट में कुल 1650 राउंड गोलियां चलाई गईं। ब्रिटिश राज के अभिलेख इस घटना में 200 लोगों के घायल होने और 379 लोगों के शहीद होने की बात स्वीकार करते है जिनमें से 337 पुरुष, 41 नाबालिग लड़के और एक 6-सप्ताह का बच्चा था। अनाधिकारिक आंकड़ों के अनुसार 1000 से अधिक लोग मारे गए और 2000 से अधिक घायल हुए। आधिकारिक रूप से मरने वालों की संख्या 379 बताई गई जबकि पंडित मदन मोहन मालवीय के अनुसार कम से कम 1300 लोग मारे गए। स्वामी श्रद्धानंद के अनुसार मरने वालों की संख्या 1500 से अधिक थी जबकि अमृतसर के तत्कालीन सिविल सर्जन डॉक्टर स्मिथ के अनुसार मरने वालों की संख्या 1800 से अधिक थी।

ब्रिटिश विचारक एस्किथ ने जहाँ इस घटना पर अपना रोष व्यक्त करते हुए जलियांवाला बाग कांड को ‘अपने इतिहास के सबसे जघन्य कृत्यों में से एक बताया था’। इस घटना से गुरुदेव टेगौर इतने मर्माहत हुए कि उन्होंने अपनी ‘नाईटहुड’ की उपाधि को लौटा दिया और कहा कि “समय आ गया है, जब सम्मान के तमगे अपमान के बेतुके संदर्भ में हमारे कलंक को सुस्पष्ठ कर देते हैं और जहाँ तक मेरा प्रश्न है, मै सभी विशेष उपाधियों से रहित होकर अपने देशवाशियों के साथ खड़ा होना चाहता हूँ”। इस कांड के बारे में थाम्पसन एवं गैरट ने लिखा है कि “अमृतसर दुर्घटना भरत-ब्रिटेन संबंधों में युगांतकारी घटना थी, जैसा कि 1857 का विद्रोह”।

इस घटना का भारतीय जनमानस पर इतना व्यापक प्रभाव पड़ा कि हजारों भारतीयों ने रक्त से सने जलियांवाला बाग़ की मिट्टी से माथे पर तिलक लगा कर देश को आजाद करने का दृढ संकल्प लिया। इस घटना के परिणामस्वरूप पंजाब पुरी तरह से भारतीय स्वतंत्रता आन्दोलन में सक्रीय हो गया। गाँधी जी इसी नर संहार के प्रतिक्रियास्वरूप 1920 में असहयोग आन्दोलन प्रारंभ किया। इसी नृशंश हत्याकांड में घायल उधम सिंह ने 13 मार्च 1940 को लंदन के कैक्सटन हॉल में बम से धमाका किया और पंजाब के तत्कालीन ब्रिटिश लेफ्टिनेंट गवर्नर मायकल ओ डायर को गोली मार दिया, जिसके परिणामस्वरूप 31 जुलाई 1940 को उधम सिंह को फांसी दे दि गयी।    

आजादी के बाद साल 1961 में जलियावाला बाग में 1919 में हुए गोलीकांड के शहीदों की स्मृति में एक मशाल के रूप में एक स्मारक बनाया गया। जहां पर वर्ष 1997 में ब्रिटेन की महारानी एलिजाबेथ ने जलियावाला बाग के शहीदों को पुष्पांजलि दी, लेकिन यह भारतीयों के घावों को नहीं भर सका।

ब्रिटेन की प्रधानमंत्री टेरेसा मे ने अमृतसर के जलियांवाला बाग़ नरसंहार कांड की 100वीं बरसी के मौके पर कल इस कांड को ब्रिटिश भारतीय इतिहास पर ‘शर्मसार करने वाला धब्बा’ करार दिया लेकिन उन्होंने इस मामले में औपचारिक माफ़ी नहीं मांगी।

सुभद्रा कुमारी चौहान की कुछ पंक्तियाँ याद आती है -

"कोमल बालक मरे यहां गोली खा कर,

कलियां उनके लिए गिराना थोड़ी ला कर।

आशाओं से भरे हृदय भी छिन्न हुए हैं,

अपने प्रिय परिवार देश से भिन्न हुए हैं।

कुछ कलियाँ अधखिली यहां इसलिए चढ़ाना,

कर के उनकी याद अश्रु के ओस बहाना।

तड़प तड़प कर वृद्ध मरे हैं गोली खा कर,

शुष्क पुष्प कुछ वहाँ गिरा देना तुम जा कर।

यह सब करना, किन्तु यहां मत शोर मचाना,

यह है शोक-स्थान बहुत धीरे से आना।

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links