ब्रेकिंग न्यूज़
हम छीन के लेंगे आजादी....         माल महाराज के मिर्जा खेले होली         भारत और अमेरिका में 3 अरब डॉलर का रक्षा समझौता         सीएए भारत का अंदरुनी मामला : डोनाल्‍ड ट्रंप         लड़खड़ाई धरती पर सम्भलकर आगे बढ़ गए हिम्मती लोग          शाहीन बाग : उपाय क्या है?          भारत में दक्षिणपंथी विमर्श एक चिंतनधारा कम प्रॉपेगेंडा ज्यादा          मिलकर करेंगे इस्लामी आतंकवाद का सफाया : ट्रंप         मोदी ट्रंप की यारी : भारत की तारीफ, आतंक पर PAK को नसीहत         भारत और अमेरिका रक्षा सौदे में बड़ा डील करेगा : डोनाल्ड ट्रंप         "एक्टिव फार्मास्युटिकल इनग्रेडिएंट"(एपीआई) के लिए पूरी तरह चीन पर निर्भर है भारत         कुछ ही देर में प्रेसिडेंट ट्रंप पहुंच रहे हैं इंडिया         अनब्याही माँ : चपला के बहाने इतिहास को देखा          संभलने का वक्त !          अनब्याही माताएं : नरमुंड दरवाजे पर टांगकर जश्न मनाया करते थे....         ताकि भाईचार हमेशा बनी रहे!          अब शत्रुघ्न सिन्हा पाकिस्तान के राष्ट्रपति से मिलकर कश्मीर मुद्दे पर सुर में सुर मिलाया         सुरक्षाबलों ने लश्कर-ए-तैयबा के दो आतंकियों को मार गिराया, सर्च ऑपरेशन जारी         खून बेच कर हेरोइन का धुआं उड़ाते हैं गढ़वा के युवा         कब होगी जनादेश से जड़ों की तलाश          'नसबंदी का टारगेट', विवाद के बाद कमलनाथ सरकार ने वापस लिया सर्कुलर         पीढ़ियॉं तो पूछेंगी ही कि गाजी का अर्थ क्या होता है?         मातृ सदन की गंगा !         ओवैसी की सभा में महिला ने पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे लगाए         एक बार फिर चर्चा में हैं सामाजिक कार्यकर्ता "तीस्ता सीतलवाड़",शाहीनबाग में उन्हें औरतों को सिखाते हुए देखा गया         कनपुरिया गंगा, कनपुरिया गुटखा, डबल हाथरस का मिष्ठान और हरजाई माशूका सी साबरमती एक्सप्रेस..         शाहीन बाग में वार्ता विफल : जिस दिन नागरिकता कानून हटाने का एलान होगा, हम उस दिन रास्ता खाली कर देंगे         फ्रांस में विदेशी इमामों और मुस्लिम टीचर्स पर प्रतिबंध         'राष्ट्रवाद' शब्द में हिटलर की झलक, भारत कर सकता है दुनिया की अगुवाई : मोहन भागवत         आतंकवाद के खिलाफ चीन ने पाकिस्तान का साथ छोड़ा         दिमाग में गोबर, देह पर गेरुआ!          त्राल में सुरक्षाबलों ने तीन आतंकियों को मार गिराया         CAA-NRC-NPR के समर्थन में रिटायर्ड जज और ब्यूरोक्रेट्स ने राष्ट्रपति को लिखा पत्र         अनब्याही माँ : चपला के बहाने इतिहास को देखा          भारतीय पत्रकारिता को फफूंदी बनाने वाली पत्रकार यूनियनें..         ब्रिटेन और फ्रांस को पीछे छोड़ भारत बना दुनिया की पांचवीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था        

मेरे घर के आगे कचरा मत डालो...

Bhola Tiwari Jul 07, 2019, 6:51 AM IST टॉप न्यूज़
img

 कबीर संजय

रूस की राजधानी मास्को कुछ उसी तरह की समस्याओं का सामना कर रही है, जैसी कि दिल्ली की कर रही है। पूरी राजधानी परेशान है कि अपना कचरा कहां डाले। 

राजधानी दिल्ली में प्रवेश करते ही आपको कचरे के ऊंचे-ऊंचे पहाड़ दिखाई पड़ेंगे। इन लैंडफिल साइट पर लगभग तीस साल से कचरा डंप किया जा रहा है। इसके चलते इनकी ऊंचाई लगातार बढ़ती जा रही है। यहां तक कि गाजीपुर लैंडफिल साइट के बारे में अनुमान है कि अगले साल तक इसकी ऊंचाई ताजमहल की ऊंचाई से भी ज्यादा हो जाएगी। भालस्वा, गाजीपुर, ओखला और नरेला-बवाना लैंडफिल साइट में दिल्ली का ज्यादातर कचरा डंप किया जाता है। इनमें नरेला-बवाना को छोड़ दिया जाए तो बाकी की लैंडफिल साइट पर कचरा डालने की मियाद लगभग पंद्रह साल पहले ही समाप्त हो गई। लेकिन, वैकल्पिक जगह का अभाव है। आखिर दिल्ली अपना कचरा कहां डाले। 

मास्को भी कुछ ऐसी समस्या का सामना कर रहा है। यूरोपियन यूनियन से अलग यहां पर भी कचरे को डंप किया जाता रहा है। इसके चलते लैंडफिल साइट भर चुके हैं। वर्ष 2012 में हुई वर्ल्ड बैंक की स्टडी के मुताबिक यूरोपियन यूनियन के देश औसतन 60 फीसदी तक कचरे को रीसाइकिल करते हैं। जबकि, रूस सिर्फ चार फीसदी कचरे को रीसाइकिल करता है। रूस एक बड़े विस्तार वाला देश है। पहले समझा जाता रहा होगा कि जगह की तो कोई कमी है नहीं। इसका दुष्परिणाम यह है कि यहां पर लगभग स्विटजरलैंड के क्षेत्रफल के बराबर जमीन पर कचरा डंप किया जाता है। 

जो कचरा डंप किया जाता है, उसके सड़ने से मीथेन जैसी खतरनाक गैस निकलती है। इसके सड़ने से लीचेट निकलता है जो रिस-रिसकर भूमिगत जल को प्रदूषित करता है। कचरे के पहाड़ में लगने वाली आग पूरे वातावरण को प्रदूषित कर देती है। यह वह समस्याएं हैं जो कचरे के पहाड़ों के चलते पैदा होती है। दिल्ली के लोग इसका सामना लंबे समय से कर रहे हैं। 

रूस की सरकार ने इससे निपटने के लिए नए उपाय निकाले। उसने मास्को का कचरा ग्रामीण इलाकों में डंप करने की शुरुआत की। मास्को का कचरा वहां से हजार किलोमीटर दूर के ग्रामीण इलाकों में डाला जा रहा है। इसके चलते ग्रामीण इलाकों में भयंकर विरोध पैदा हो गया है। इन लोगों का कहना है कि अपना कचरा हमारे घर के आगे मत फेंको। 

याद करें कि दिल्ली में लगभग दो साल पहले ऐसा ही वाकया हो चुका है। गाजीपुर लैंडफिल साइट के ढह जाने की घटना में दो लोगों की मौत हो गई थी। इसके बाद शासन की तरफ से आदेश आया कि गाजीपुर लैंडफिल साइट पर फेंका जाने वाला कचरा रानीपुर खेड़ा गांव में डाला जाए। जब निगम के ट्रक यहां पर कचरा डालने पहुंचे तो हजारों ग्रामीण वहां पर एकत्रित हो गए। वो वहीं धरने पर बैठ गए। 

उनका भी कहना था कि अपना कचरा हमारे घर के सामने मत डालो। गौर से देखिए तो यही कवायद हर जगह चल रही है। अमीर मुल्क गरीब देशों में कचरा डाल रहे हैं। शहर का कचरा गांव में फेंका जा रहा है। अमीर का कचरा गरीब के घर डाला जा रहा है। यानी मजा तो अमीर का, कचरा गरीब का। 

हाल ही में इसे जलवायु रंगभेद का नाम दिया गया है। यह भी एक प्रकार का रंगभेद और शोषण है। जिसका डटकर प्रतिवाद हर जगह किया जा रहा है। 

(रूस के लैंडफिल साइट पर कचरा डालने की तस्वीर इंटरनेट से)

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links