ब्रेकिंग न्यूज़
खून बेच कर हेरोइन का धुआं उड़ाते हैं गढ़वा के युवा         कब होगी जनादेश से जड़ों की तलाश          'नसबंदी का टारगेट', विवाद के बाद कमलनाथ सरकार ने वापस लिया सर्कुलर         पीढ़ियॉं तो पूछेंगी ही कि गाजी का अर्थ क्या होता है?         मातृ सदन की गंगा !         ओवैसी की सभा में महिला ने पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे लगाए         एक बार फिर चर्चा में हैं सामाजिक कार्यकर्ता "तीस्ता सीतलवाड़",शाहीनबाग में उन्हें औरतों को सिखाते हुए देखा गया         कनपुरिया गंगा, कनपुरिया गुटखा, डबल हाथरस का मिष्ठान और हरजाई माशूका सी साबरमती एक्सप्रेस..         शाहीन बाग में वार्ता विफल : जिस दिन नागरिकता कानून हटाने का एलान होगा, हम उस दिन रास्ता खाली कर देंगे         फ्रांस में विदेशी इमामों और मुस्लिम टीचर्स पर प्रतिबंध         'राष्ट्रवाद' शब्द में हिटलर की झलक, भारत कर सकता है दुनिया की अगुवाई : मोहन भागवत         आतंकवाद के खिलाफ चीन ने पाकिस्तान का साथ छोड़ा         दिमाग में गोबर, देह पर गेरुआ!          त्राल में सुरक्षाबलों ने तीन आतंकियों को मार गिराया         CAA-NRC-NPR के समर्थन में रिटायर्ड जज और ब्यूरोक्रेट्स ने राष्ट्रपति को लिखा पत्र         अनब्याही माँ : चपला के बहाने इतिहास को देखा          भारतीय पत्रकारिता को फफूंदी बनाने वाली पत्रकार यूनियनें..         ब्रिटेन और फ्रांस को पीछे छोड़ भारत बना दुनिया की पांचवीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था         ..विधायक बंधू तिर्की और प्रदीप यादव आज विधिवत कांग्रेस के हुए         मरता क्या नहीं करता !          14 साल बाद बाबूलाल मरांडी की घर वापसी, जोरदार स्वागत         जेवीएम प्रमुख बाबूलाल मरांडी भाजपा में हुए शामिल, अमित शाह ने माला पहनाकर स्वागत किया         भारत में महिला...भारत की जेलों में महिला....          अनब्याही माताएं : प्राण उसके साथ हर पल है,यादों में, ख्वाबों में         कराची में हिंदू लड़की को इंसाफ दिलाने के लिए सड़कों पर उतरे लोग         बेतला राष्ट्रीय उद्यान में गर्भवती मादा बाघ की मौत !अफसरों में हड़कंप         बिहार की राजनीति में हलचल : शरद यादव की सक्रियता से लालू बेचैन          सीएम गहलोत की इच्छा, प्रियंका की हो राज्यसभा में एंट्री !         अनब्याही माताएं : गीता बिहार नहीं जायेगी          तेंतीस करोड़ देवी-देवताओं के देश में यही होना है...         केजरीवाल माँडल अपनाकर हीं सफलता प्राप्त कर सकतीं हैं ममता बनर्जी         28 फरवरी को रांची आएंगे राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद         सत्ता पर दबदबा रखनेवाले जूना पीठाधीश्वर आचार्य महामंडलेश्वर से लेकर तमाम शंकराचार्यों की जमात कहां हैं?         

तानाशाह मुसोलिनी का दुःखद अंत

Bhola Tiwari Jul 06, 2019, 7:48 AM IST टॉप न्यूज़
img

एस डी ओझा

मुसोलिनी के पिता इटली में लोहार का काम करते थे । गर्म लोहे को आकार देते देते उनके विचार भी उग्र हो गये थे । वे वर्तमान व्यवस्था को नफरत की नजर से देखते थे । उनके विचार समाजवादी थे । इन सबका बहुत व्यापक प्रभाव मुसोलिनी के बाल मन पर पड़ा । उसकी माँ एक शिक्षिका थीं । मुसोलिनी कुशाग्र बुद्धि का था । 23 साल की उम्र आते आते उसकी पढ़ाई पूरी हो गयी थी । उसने टीचर की नौकरी करनी शुरु कर दी थी । वह अपने आस पास के लोगों को क्रांतिकारी विचार बांटने लगा था । इस परिपेक्ष्य में उसे अरेस्ट किया गया । कैद से छूटने के बाद वह आस्ट्रीया चला गया । आस्ट्रीया पहुँच कर भी वह चैन से नहीं बैठा । वहाँ उसने आस्ट्रीया को इटली में मिलाने की वकालत की । इस बिना पर उसे आस्ट्रिया से निकाल दिया गया । वह फिर वापस इटली आ गया ।

इटली वापस आ कर मुसोलिनी ने एक समाजवादी पत्रिका" अवन्तो " का सम्पादन अपने हाथ में लिया । वह प्रथम विश्व युद्ध का दौर था । अवन्तो के सम्पादकीय उग्र विचारों की आग उगल रहे थे । इटली की जनता मुसोलिनी की मुरीद हुई जा रही थी । मुसोलिनी ने 1919 में भूतपूर्व सैनिकों और देशभक्तों की एक मीटिंग बुलवायी । इस मीटिंग से फासिस्ट पार्टी अस्तित्व में आयी । फासिस्ट पार्टी का जोर पूरे इटली पर कायम हो गया । इटली की जनता मुसोलिनी की कट्टर समर्थक हो गयी थी । फासिस्टों ने रेल , डाक तार व सेना पर अपना नियंत्रण कर लिया । मजबूर होकर इटली के सम्राट को मुसोलिनी को सत्ता सौंपनी पड़ी । मुसोलिनी ने 30 अक्टूबर 1922 को प्रधानमंत्री का पद ग्रहण किया । इटली की जनता उसे प्यार से " दि लीडर " कहा करती थी।

मुसोलिनी 1925 तक संविधान के अनुसार कार्य करता रहा । बाद में वह साम्राज्यवादी हो गया । उसने इथोपिया , ग्रीस और अल्बानिया को अपने कब्जे में लेकर 

द्वितीय विश्व युद्ध की पृष्ठभूमि तैयार कर दी । इस जंग में इटली का भी भारी नुकसान हुआ । मुसोलिनी एक तानाशाह की तरह व्यवहार करने लगा था । उसने अपने विरोधियों को खुफिया एजेन्सियों की मदद से मरवा डाला । इटली की जनता मुसोलिनी के खिलाफ हो गयी । मुसोलिनी जो धूमकेतु बनकर उभरा था , अब वह अपने हीं देश वासियों की आंख की किरकिरी बन गया । रही सही कसर जो थी वह भी पूरी हो गयी जब उसने हिटलर से हाथ मिलाया । 25 जुलाई 1943 को इटली के सम्राट ने उसकी सरकार बर्खास्त कर दी । उसे अरेस्ट कर लिया गया । हिटलर ने अपने प्रभाव का प्रयोग कर उसे कैद से छुड़ा लिया । मुसोलिनी जर्मनी चला गया ।

जब गीदड़ की मौत आती है तो वह शहर की तरफ भागता है । मुसोलिनी की भी मौत आई थी । वह 1945 में जर्मनी से इटली लौट आया । यहां उसे जनता का जोरदार विरोध झेलना पड़ा । अब हिटलर का भी पराभव शुरु हो गया था । उसे रुस से तगड़ी टक्कर मिल रही थी ।

ऐसे में मुसोलिनी ने देश छोड़ने का मन बना लिया । वह अपनी प्रेयसी क्लारा पेटासी और कुछ चुनिंदा साथियों के साथ स्वीट्जरलैण्ड के लिए भाग निकला । रास्ते में उन सबकी पहचान हो गयी । वे पकड़े गये । 28 अप्रैल 1945 को मुसोलिनी , उसकी प्रेयसी और उसके साथियों को गोली मार दी गयी । उनकी लाश को मिलान शहर के चौराहे पर नुमाइश के लिए लटका दिया गया । ये लाशें उल्टी लटकीं थीं और बड़ा हीं वीभत्स दृश्य उत्पन्न कर रहीं थीं ।

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links