ब्रेकिंग न्यूज़
TIT FOR TAT : आंखों में आंख डालकर खड़ी है भारतीय सेना         BINDASH EXCLUSIVE : गिलगित-बाल्टिस्तान में बौद्ध स्थलों को मिटाकर इस्लामिक रूप दे रहा है पाकिस्तान         अब पाकिस्तान में भी सही इतिहास पढ़ने की ललक जाग रही है....         BIG NEWS : लेह से 60 मजदूर रांची पहुंचे, एयरपोर्ट पर अभिभावक की भूमिका में नजर आए सीएम हेमंत सोरेन         BIG NEWS : CM हेमंत सोरेन का संकेत, सूबे में बढ़ सकता है लॉकडाउन !         कश्मीर जा रहा एलपीजी सिलेंडर से भरा ट्रक बना आग का गोला, चिंगारी के साथ बम की तरह निकलने लगी आवाजें         BIG NEWS : मशहूर ज्योतिषी बेजन दारूवाला का निधन, कोरोना संक्रमण के बाद अस्पताल में थे भर्ती         नहीं रहे अजीत जोगी          BIG NRWS  : IED से भरी कार के मालिक की हुई शिनाख्त         SARMNAK : कोविड वार्ड में ड्यूटी पर तैनात जूनियर डॉक्टर से रेप की कोशिश         BIG NEWS : चीन बोला, मध्यस्थता की कोई जरूरत नहीं, भारत और चीन भाई भाई         BIG NEWS : लद्दाख पर इंडियन आर्मी की पैनी नजर, पेट्रोलिंग जारी         BIG NEWS : डोनाल्ड ट्रम्प ने कहा, चीन से सीमा विवाद पर मोदी अच्छे मूड में नहीं         BIG STORY : धरती की बढ़ती उदासी में चमक गये अरबपति         समाजवादी का कम्युनिस्ट होना जरूरी नहीं...         चीन और हम !         BIG NEWS : CRPF जवानों को निशाना बनाने के लिए जैश ने रची थी बारूदी साजिश !         BIG NEWS : अमेरिका का मुस्लिम कार्ड : चीन के खिलाफ बिल पास, अब पाक भी नहीं बचेगा         एयर एशिया की फ्लाइट से रांची उतरते ही श्रमिकों ने कहा थैंक्यू सीएम !         वियतनाम : मंदिर की खुदाई के दौरान 1100 साल पुराना शिवलिंग मिला         BIG NEWS : पुलवामा में एक और बड़े आतंकी हमले की साजिश नाकाम, आईईडी से भरी कार बरामद, निष्क्रिय         झारखंड के चाईबासा में पुलिस और नक्सलियों के बीच भीषण मुठभेड़, 3 उग्रवादी ढेर 1 घायल         भारतीय वायु सेना की बढ़ी ताकत, सियाचिन बॉर्डर इलाके में चिनूक हैलीकॉप्टर किए तैनात          क्या किसी ने ड्रैगन को म्याऊं म्याऊं करते सुना है ?         सत्ताइस साल बाद क्यों भयंकर हुए टिड्डे...         BIG NEWS : दो महीने का बस भाड़ा नहीं लेंगे और ना ही फीस बढ़ाएंगे निजी स्कूल         BIG NEWS : घुटने के बल आया चीन, कहा- दोनों देश एक दूसरे के दुश्मन नहीं         BIG NRWS : बिना परीक्षा दिए प्रमोट होंगे इंजीनियरिंग और पॉलिटेक्निक के विद्यार्थी         CBSE EXAMS : जो छात्र जहां फंसा है, अब वहीं दे सकेगा बची परीक्षा         BIG NEWS : भारत में फंसे 179 पाकिस्तानी नागरिक अटारी-वाघा बार्डर के रास्ते अपने वतन लौटे         इंडियन आर्मी देगी माकूल जवाब, भारत नहीं रोकेगा निर्माण कार्य         नेहरू जी ने भरे संसद में ये कहा था कि चीन पर विश्वास करना उनकी बडी भूल थी....         BIG NEWS : अमेरिका के बाद भारत और WHO आमने-सामने, इंडियन वैज्ञानिकों ने WHO के सुझाव को नकारा         भारत के 'चक्रव्यूह' में फंसेगा 'ड्रैगन'         युद्ध की तैयारी में चीन !         BIG NEWS : रांची के रिम्स में जब पोस्टमार्टम से पहले जिंदा हुआ मुर्दा         अमेरिका ने चीन की 33 कंपनियों को किया ब्लैकलिस्ट, ड्रैगन भी कर सकता है पलटवार         BIG NEWS : भारत अड़ंगा ना डालें, गलवान घाटी चीन का इलाका        

बंदिशकार और संगीतकार बादशाह औरंगजेब

Bhola Tiwari Jul 05, 2019, 7:24 AM IST टॉप न्यूज़
img

प्रवीण झा

शहंशाह औरंगज़ेब और मौसिक़ी का जनाज़ा की कहानी मैंने पहली बार निकोलस मनुच्ची की किताब ‘स्टोरिया डी मोगोर’ में पढ़ी। इतालवी निकोलस मनुच्ची चूँकि दारा शिकोह के ख़ास थे तो औरंगज़ेब पर उनके लिखने को कितना सच मानूँ? लेकिन औरंगज़ेब पर पढ़ने के लिए यह ऐसी किताब जरूर है कि किसी ने आँखो-देखी लिखी हो, और ख़्वाह-म-ख़्वाह कयास न लगाए। जैसे यह लिखना कि औरंगज़ेब के रंगरूट घूम-घूम कर मुल्लों की दाढ़ी नापते और गर ख़ास आकार की नहीं होती, तो काटते फिरते। उसी में यह भी ज़िक्र है कि जब संगीत की मनाही हुई तो सभी संगीतकार अपने वाद्य-यंत्र लेकर जमीन में गाड़ने निकल पड़े। जब मस्जिद में बैठे औरंगज़ेब ने पूछा कि बाहर क्या हो रहा है तो कहा कि मौसिक़ी का जनाज़ा जा रहा है। औरंगज़ेब शांत मुद्रा में जवाब देते हैं कि मौसिक़ी की रूह को ख़ुदा जन्नत बख्शे।

यह बात बाद में कई इतिहासकारों द्वारा इसी कलेवर में परोसी गयी कि औरंगज़ेब एक क्रूर शासक था और उसने सभी संगीतकारों को दरबार से लठिया कर भगा दिया। कई लोग यह भी कहते हैं कि तभी तमाम संगीत घरानों की स्थापना हुई जब यह भाग-भाग कर अलग-अलग जगह गए। खैर यह बात तो बेबुनियाद है क्योंकि संगीत के घराने औरंगज़ेब के काफी समय बाद ग्वालियर से जन्म लेने शुरू हुए। रही बात भगाने की, तो इस पर आश्चर्यजनक रूप से पहली बार एक जनसंघी ब्राह्मण संगीत-प्रेमी ने जोर देकर लिखा कि औरंगज़ेब स्वयं एक आला दर्जे का बीनकार और बंदिशकार था। आचार्य कैलाशचंद्र बृहस्पति के लेख “औरंगज़ेब का संगीतप्रेम” को ही आधार बना कर कैथरीन बट्लर ब्राउन ने एक शोध किया, हालांकि उस शोध में इधर का माल उधर वाली बात ही अधिक है। मौलिक शोध कि सिद्ध करना औरंगज़ेब वाकई फ़नकार था, यह पक्के तौर पर मुझे नहीं मिल पा रहा था।

तभी भारत के एक शीर्ष संगीत इतिहासकार स्व. गजेंद्र नारायण सिंह की मरणोपरांत प्रकाशित किताब “मुस्लिम शासकों के रागरंग और फ़नकार शहंशाह औरंगज़ेब” किताब हाथ लगी। किताब पढ़ कर मन में कुछ स्पष्ट हुआ कि गजेद्र बाबू ने यह किताब अपने जीवन के आखिरी समय के लिए क्यों बचा कर रखी थी। उन्होंने राष्ट्रकवि दिनकर के “संस्कृति के चार अध्याय” को तो आड़े हाथों लिया ही है, औरंगज़ेब की छवि ऐसी बनायी है जो शायद स्थापित धारणाओं को न पचे। हालांकि गजेंद्र बाबू एक निर्भीक और दबंग संगीत विशेषज्ञ-इतिहासकार रहे, फिर भी। यह बात तो उन्होंने किताब में ही लिखी है कि उनके शोध का पुरजोर विरोध हुआ, फिर भी उन्होंने ख़ुदाबख़्श ओरियेंटल लाइब्रेरी में बैठ-बैठ कर औरंगज़ेब आलमग़ीर के समय के मूल फ़ारसी ग्रंथों को स्वयं अनुवाद किया और यह शोध पूरा किया। बस इस किताब का मुँह देखने से पहले उनका देहांत हो गया।

गजेंद्र बाबू बिन्दुवार लिखते हैं कि संगीत पर प्रतिबंध लगने की वजह आखिर थी क्या? यह जान कर बड़ा ताज्जुब लगता है कि संगीतकार कूटनीति के मोहरे बनते थे। बिसराम ख़ाँ ने लाख अशर्फी रिश्वत लेकर शाहजहाँ को अपने गायन में ऐसा उलझाया कि औरंगज़ेब को दक्कन भिजवाने वाले आदेश पर हस्ताक्षर उसी मध्य ले लिए गए। अब औरंगज़ेब को यह तो यकीं हो गया कि दरबारी कामों के मध्य संगीत को बंद करना ही होगा, अन्यथा शासन बाधित होगा। लेकिन यह तो राजनीति की बात थी, मेरे लिए यह जानना जरूरी था कि औरंगज़ेब खुद क्या गाते-बजाते थे? और किस वजह से फ़नकार जोड़ दिया? आज जिन कठमुल्लों को मौसिक़ी से दिक्कत है, उनके लिए तो औरंगज़ेब एक आदर्श है। एक बार गर यह सिद्ध हो गया कि औरंगज़ेब खुद वीणा बजाता था और बंदिशें रचता था, तो यह इस्लाम और मौसिक़ी का द्वंद्व औंधे मुँह गिर जाएगा।

अब औरंगज़ेब की लिखी बंदिश जो पुस्तक में है, उसकी पंक्तियाँ हैं-

“सौंतिनी सो बाजू पीअ प्रीत लीनि,

साहि औरंगज़ेब रीझि रूचि सौ कंठ लगाई..”

और यह बात तो निकोलस मनुच्ची ने भी लिखी है कि दरबार में मनाही थी, पर औरंगज़ेब अंत:पुर में खूब वीणा बजाता और संगीत में रमा रहता था। बल्कि एक दफ़े तो दक्कन में नदी किनारे वीणा बजाने लग गया था। अब इतिहासकारों और पूर्वाग्रहियों में द्वंद्व होता रहे, लेकिन अगर औरंग़जेब की यह बातें सत्य मानी जाएँ तो वह वाकई इकलौता मुग़ल शासक कहलाएगा जो बंदिशकार भी हो और संगीतकार भी। क्योंकि बहादुरशाह ज़फर बंदिश तो लिखते थे, पर बजाना-गाना न आता था। और अकबर तो खैर सिफ़र थे।

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links