ब्रेकिंग न्यूज़
खून बेच कर हेरोइन का धुआं उड़ाते हैं गढ़वा के युवा         कब होगी जनादेश से जड़ों की तलाश          'नसबंदी का टारगेट', विवाद के बाद कमलनाथ सरकार ने वापस लिया सर्कुलर         पीढ़ियॉं तो पूछेंगी ही कि गाजी का अर्थ क्या होता है?         मातृ सदन की गंगा !         ओवैसी की सभा में महिला ने पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे लगाए         एक बार फिर चर्चा में हैं सामाजिक कार्यकर्ता "तीस्ता सीतलवाड़",शाहीनबाग में उन्हें औरतों को सिखाते हुए देखा गया         कनपुरिया गंगा, कनपुरिया गुटखा, डबल हाथरस का मिष्ठान और हरजाई माशूका सी साबरमती एक्सप्रेस..         शाहीन बाग में वार्ता विफल : जिस दिन नागरिकता कानून हटाने का एलान होगा, हम उस दिन रास्ता खाली कर देंगे         फ्रांस में विदेशी इमामों और मुस्लिम टीचर्स पर प्रतिबंध         'राष्ट्रवाद' शब्द में हिटलर की झलक, भारत कर सकता है दुनिया की अगुवाई : मोहन भागवत         आतंकवाद के खिलाफ चीन ने पाकिस्तान का साथ छोड़ा         दिमाग में गोबर, देह पर गेरुआ!          त्राल में सुरक्षाबलों ने तीन आतंकियों को मार गिराया         CAA-NRC-NPR के समर्थन में रिटायर्ड जज और ब्यूरोक्रेट्स ने राष्ट्रपति को लिखा पत्र         अनब्याही माँ : चपला के बहाने इतिहास को देखा          भारतीय पत्रकारिता को फफूंदी बनाने वाली पत्रकार यूनियनें..         ब्रिटेन और फ्रांस को पीछे छोड़ भारत बना दुनिया की पांचवीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था         ..विधायक बंधू तिर्की और प्रदीप यादव आज विधिवत कांग्रेस के हुए         मरता क्या नहीं करता !          14 साल बाद बाबूलाल मरांडी की घर वापसी, जोरदार स्वागत         जेवीएम प्रमुख बाबूलाल मरांडी भाजपा में हुए शामिल, अमित शाह ने माला पहनाकर स्वागत किया         भारत में महिला...भारत की जेलों में महिला....          अनब्याही माताएं : प्राण उसके साथ हर पल है,यादों में, ख्वाबों में         कराची में हिंदू लड़की को इंसाफ दिलाने के लिए सड़कों पर उतरे लोग         बेतला राष्ट्रीय उद्यान में गर्भवती मादा बाघ की मौत !अफसरों में हड़कंप         बिहार की राजनीति में हलचल : शरद यादव की सक्रियता से लालू बेचैन          सीएम गहलोत की इच्छा, प्रियंका की हो राज्यसभा में एंट्री !         अनब्याही माताएं : गीता बिहार नहीं जायेगी          तेंतीस करोड़ देवी-देवताओं के देश में यही होना है...         केजरीवाल माँडल अपनाकर हीं सफलता प्राप्त कर सकतीं हैं ममता बनर्जी         28 फरवरी को रांची आएंगे राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद         सत्ता पर दबदबा रखनेवाले जूना पीठाधीश्वर आचार्य महामंडलेश्वर से लेकर तमाम शंकराचार्यों की जमात कहां हैं?         

चल मेरी गदनी मिंजरा दे मेले ..

Bhola Tiwari Jul 03, 2019, 6:04 AM IST टॉप न्यूज़
img

एस डी ओझा

हिमाचल प्रदेश के रावी नदी के किनारे स्थित चम्बा एक प्रमुख नगर है. समुद्र तल से इसकी ऊंचाई 996 मीटर है. विख्यात कला पारखी और डच विद्वान डा. बोगला ने इस नगर की खूबसूरती से प्रभावित हो इसे Wonder (अचम्भा) कहा है. यहां की चम्बा रूमाल, चम्बा चप्पल, चम्बा चुख (मिर्च का अचार) जग प्रसिद्ध है. यहां की प्राकृतिक सुन्दरता से प्रभावित हो देश विदेश के सैलानी आते हैं और यहां की यादें अपने कैमरों में कैद कर ले जाते हैं. 

राजा मारू भरमौर का शासक था. जब साहिल वर्मन (असली नाम शैल वर्मन) ने सत्ता सम्भाली तो उसकी पुत्री चम्पावती को भरमौर के इलाके से बेहतर एक और जगह लगी. उसने अपने पिता से उस जगह पर राज्य की राजधानी बनाने का अनुरोध किया. साहिल वर्मन अपनी बेटी चम्पावती की हर बात मानता था. उसने वहां राजधानी बनाने की सहर्ष अनुमति दे दी. वह जगह ब्राह्मणों के कब्जे में थी. महाराज साहिल वर्मन ने उन ब्राह्मणों को मनमाफिक कीमत देकर वह जगह खरीद ली. भरमौर से राजधानी उस जगह स्थानान्तिरत हुई. राजकुमारी चम्पावती के नाम पर उस जगह का नाम चम्बा रखा गया.

चम्बा के शासक सूर्यवंशीय क्षत्रिय थे. इनके सम्बन्ध अयोध्या के सूर्यवंशीय क्षत्रिय राजाओं से उजागर हुआ है .ऐसा खुदाई से मिले शिलालेखों से पता चला है. आदित्य वर्मन पहला शासक था, जिसने नाम के साथ वर्मन टाइटिल लगाया है. उसके बाद से बहुत से वर्मन शासक हुए- बल वर्मन, दिवाकर वर्मन, मेरू वर्मन, साहिल (शैल) वर्मन आदि. वर्मन से पहले ये सूर्य वंशीय राजा स्तंभ टाइटिल लगाते थे. यथा -जय स्तंभ, जल स्तंभ, महा स्तंभ आदि.

सूर्यवंशीय राजाओं की तरह हीं चम्बा के मिंजर मेले का इतिहास भी काफी प्रचीन है. साहिल वर्मन जब युद्ध में विजयी हो लौटे तो किसानों ने मक्की के मिंजर से उनका स्वागत किया था. तब से उसी माह में चम्बा में मेला लगता है, जो नई फसल के स्वागत में आयोजित किया जाता है. सावन के दुसरे रविवार को मक्की का मिंजर नगर के प्रतिष्ठित लोगों को राजा भेंट करता था. राजशाही के जाने के बाद अब यही काम नगरपालिका करती है. मेले के समापन के तीसरे रविवार को चण्डी महल से लक्ष्मी नारायण, रघुवीर और अन्य देवी देवताओं की पालकियां निकलती है,जो चौगान से रावी नदी के तट तक पहुंचती है. 

इस शोभा यात्रा में बकायदा राजकीय झण्डे लगे होते हैं. बैण्ड बाजे का भी इंतजाम होता है. रावी नदी के तट पर नारियल और मिंजर पानी में प्रवाहित किया जाता है. यह मेला हिन्दू मुस्लिम एकता का भी प्रतीक है. यहां का मुस्लिम मिर्जा परिवार भगवान लक्ष्मी नारायण और भगवान रघुनाथ को रेशमी धागों से लिपटा मिंजर अर्पित करता है. इस मेले को देखने के लिए देश विदेश से बहुत लोग आते हैं. यहां के लोक गीतों में भी मिंजर मेला का जिक्र आता है. गद्दी जनजाति का पुरूष अपनी पत्नी से मिंजर मेले में चलने के लिए मनुहार करता है. वह कहता है कि धीरे धीरे चलेंगे .उसे कोई तकलीफ नहीं होगी .

चल मेरी गदनी मिंजरा दे मेले,

सौगी सौगी जांवा.

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links