ब्रेकिंग न्यूज़
हम छीन के लेंगे आजादी....         माल महाराज के मिर्जा खेले होली         भारत और अमेरिका में 3 अरब डॉलर का रक्षा समझौता         सीएए भारत का अंदरुनी मामला : डोनाल्‍ड ट्रंप         लड़खड़ाई धरती पर सम्भलकर आगे बढ़ गए हिम्मती लोग          शाहीन बाग : उपाय क्या है?          भारत में दक्षिणपंथी विमर्श एक चिंतनधारा कम प्रॉपेगेंडा ज्यादा          मिलकर करेंगे इस्लामी आतंकवाद का सफाया : ट्रंप         मोदी ट्रंप की यारी : भारत की तारीफ, आतंक पर PAK को नसीहत         भारत और अमेरिका रक्षा सौदे में बड़ा डील करेगा : डोनाल्ड ट्रंप         "एक्टिव फार्मास्युटिकल इनग्रेडिएंट"(एपीआई) के लिए पूरी तरह चीन पर निर्भर है भारत         कुछ ही देर में प्रेसिडेंट ट्रंप पहुंच रहे हैं इंडिया         अनब्याही माँ : चपला के बहाने इतिहास को देखा          संभलने का वक्त !          अनब्याही माताएं : नरमुंड दरवाजे पर टांगकर जश्न मनाया करते थे....         ताकि भाईचार हमेशा बनी रहे!          अब शत्रुघ्न सिन्हा पाकिस्तान के राष्ट्रपति से मिलकर कश्मीर मुद्दे पर सुर में सुर मिलाया         सुरक्षाबलों ने लश्कर-ए-तैयबा के दो आतंकियों को मार गिराया, सर्च ऑपरेशन जारी         खून बेच कर हेरोइन का धुआं उड़ाते हैं गढ़वा के युवा         कब होगी जनादेश से जड़ों की तलाश          'नसबंदी का टारगेट', विवाद के बाद कमलनाथ सरकार ने वापस लिया सर्कुलर         पीढ़ियॉं तो पूछेंगी ही कि गाजी का अर्थ क्या होता है?         मातृ सदन की गंगा !         ओवैसी की सभा में महिला ने पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे लगाए         एक बार फिर चर्चा में हैं सामाजिक कार्यकर्ता "तीस्ता सीतलवाड़",शाहीनबाग में उन्हें औरतों को सिखाते हुए देखा गया         कनपुरिया गंगा, कनपुरिया गुटखा, डबल हाथरस का मिष्ठान और हरजाई माशूका सी साबरमती एक्सप्रेस..         शाहीन बाग में वार्ता विफल : जिस दिन नागरिकता कानून हटाने का एलान होगा, हम उस दिन रास्ता खाली कर देंगे         फ्रांस में विदेशी इमामों और मुस्लिम टीचर्स पर प्रतिबंध         'राष्ट्रवाद' शब्द में हिटलर की झलक, भारत कर सकता है दुनिया की अगुवाई : मोहन भागवत         आतंकवाद के खिलाफ चीन ने पाकिस्तान का साथ छोड़ा         दिमाग में गोबर, देह पर गेरुआ!          त्राल में सुरक्षाबलों ने तीन आतंकियों को मार गिराया         CAA-NRC-NPR के समर्थन में रिटायर्ड जज और ब्यूरोक्रेट्स ने राष्ट्रपति को लिखा पत्र         अनब्याही माँ : चपला के बहाने इतिहास को देखा          भारतीय पत्रकारिता को फफूंदी बनाने वाली पत्रकार यूनियनें..         ब्रिटेन और फ्रांस को पीछे छोड़ भारत बना दुनिया की पांचवीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था        

बुद्धम् शरणम् गच्छामि

Bhola Tiwari Jun 30, 2019, 6:53 AM IST टॉप न्यूज़
img

एस डी ओझा

बिम्बिसार मगध के राजा थे । उन्होंने हर्यक वंश की नींव डाली थी । वे बुद्ध के समकालीन , बुद्ध के अनुगामी , संरक्षक और मित्र सब कुछ थे । बिम्बिसार ने विवाह नीति को अपना कर अपने साम्राज्य का ज्यादातर विस्तार किया था । उन्होंने कोशल प्रदेश के राजा प्रसेनजीत से अपनी बहन का व्याह किया था । साथ हीं प्रसेनजीत की बहन महाकोशला से भी शादी की थी । प्रसेनजीत ने इस विवाह में विम्बिसार को दहेज में काशी का क्षेत्र दान में दिया था । यह दान महाकोशला के सौंदर्य प्रसाधन में होने वाले खर्च के निमित्त था । बिम्बिसार ने वैशाली के शासक चेतक की बेटी चेलना से भी शादी की थी । वैशाली भी उसके राज्य का हिस्सा हो गया था । इसी प्रकार उसने खेमा , सीलव और जयसेना से भी शादी की थी । बदले में उनके राज्य का अहम हिस्सा पाया था । उसने वैशाली की नगरवधू आम्रपाली को भी अपने रंगमहल में रखा था । आम्रपाली से एक पुत्र भी हुआ था , जो बड़ा होकर आयुर्वेदाचार्य जीवक के नाम से मशहूर हुआ । बिम्बिसार ने जीवक को महात्मा बुद्ध के देख रेख के लिए नियुक्त किया था । जीवक ने बुद्ध की पुरानी कब्ज की समस्या जड़ से खत्म कर दी थी ।

आम्रपाली के जैविक माता पिता का कुछ अता पता नहीं था । वह आम के बाग में नवजात शिशु के रुप में एक किसान दम्पति को मिली थी । किसान दम्पति ने उसका लालन पालन किया और नाम रखा - आम्रपाली । आम्रपाली के बारे में बताते हैं कि उसके जैसा अतीव सुंदरी आज तक नहीं हुई । उसकी सुंदरता के चर्चे पूरे उत्तर भारत में थी । दूर दूर से युवक उससे शादी करने के लिए आने लगे थे । कई राजा महाराजाओं ने भी उसके पास विवाह संदेश भिजवाया था। आम्रपाली किसी की भी न हो सकी । वह जिसकी होती उसे अन्य का कोप भाजन होना पड़ता । बेकार का खून खराबा होता । इसलिए वह सर्व सम्मति से वैशाली की नगर वधु बना दी गयी । नगर वधू जो सबकी हो , पर उसका कोई न हो । वह गणिका बना दी गयी । ऐसा करते समय आम्रपाली की किसी ने मंशा नहीं पूछी । बिना उसकी सम्मति के उसे सर्व भोग्या बना दिया गया ।

बिम्बिसार ने भी आम्रपालि के रुप के चर्चे सुने । वे भी वेश बदलकर आम्रपाली के अंतःपुर में जा पहुंचे । बिम्बिसार एक कुशल संगीतज्ञ भी थे । आम्रपाली भी रुप यौवन की स्वामिनी होते हुए एक कुशल नृत्यांगना भी थी । बिम्बिसार के संगीत के धुन पर वह इस तरह नाची की पूरी प्रकृति नाच उठी । दोनों का प्रेम शिखर पर पहुंचा । पहली बार आम्रपाली का हृदय किसी के लिए धड़का था। बिम्बिसार मगध लौट गए । बिम्बिसार दुबारा एक सैनिक के रुप में आम्रपाली के पास पहुंचे । वह सैनिक जो घायल था । आम्रपालि ने उसकी सेवा सुश्रुषा की । सैनिक ठीक हो गया । अबकी बार बिम्बिसार अकेले नहीं लौटे । साथ में आम्रपाली भी थी । आम्रपाली के नाम से नगर वधू का विशेषण खत्म हो गया था । वह बिम्बिसार के अंतःपुर की मल्लिका बन गयी थी । साथ हीं साथ वह उसकी हृदय स्वामिनी भी बन गयी थी ।

बिम्बिसार का पुत्र था अजातशत्रु । उसे एक गणिका को राजकुल की बधू बनाना रंच मात्र भी नहीं भाया । वह क्रोधित हो उठा । इस क्रोधाग्नि में घी डालने का काम किया बुद्ध के प्रबल प्रतिद्वंदी व उनके चचेरे भाई देवदत्त ने । वह नहीं चाहता था कि बिम्बिसार बुद्ध को राज्याश्रय प्रदान करे । अजात शत्रु ने बिम्बिसार को कारागार में डाल दिया । आजातशत्रु स्वंय राजा बन बैठा । उसने अपना राज्य विस्तार उत्तर पश्चिम की तरफ किया । पूर्वोत्तर में राज्य का विस्तार बिम्बिसार पहले हीं कर चुका था । अजातशत्रु भी बौद्ध था । लेकिन उसने देवदत्त के कहने में आकर अपने पिता बिम्बसार पर काफी अत्याचार किए । पिता को कारागार डालने में अजातशत्रु का भी हित था । वह नहीं चाहता था कि बिम्बिसार के मरने के बाद उसका बड़ा भाई दर्शक राजा बने । बिम्बिसार से कारागार में मिलने के लिए केवल अजातशत्रु की मां महाकोशला हीं जा सकती थी । महाकोशला पति के लिए भोजन छुपाकर ले जाने लगी । जब अजातशत्रु को पता चला तो उसने मां की कड़ी निगरानी करनी शुरु कर दी । अब बिम्बिसार को भोजन मिलना बंद हो गया । महाकोशला ने इसका तोड़ निकाला । वह नहाकर अपने शरीर में शहद लगाकर पति से मिलने जाने लगी । इस शहद को चाटकर बिम्बिसार जीवित रहने लगा ।

एक दिन अजातशत्रु को गुप्तचरों से पता चला कि बिम्बिसार ने अपने जीवन काल में हीं अजातशत्रु को अपना उत्तराधिकारी नियुक्त कर दिया था । यह सुन अजातशत्रु के मन में बहुत ग्लानि हुई । वह स्वंय एक लोहे का दण्ड लेकर पिता की बेड़ियों को काटने कारागार की तरफ चल पड़ा । अजातशत्रु के आने की सूचना बिम्बिसार को भी मिली । उसे अजातशत्रु के हृदय परिवर्तन के बारे में कुछ नहीं पता था । उसने किसी अनिष्ट की आशंका से भयभीत हो आत्महत्या कर ली । पति की मौत की सूचना पाकर महाकोशला के भी प्राण पखेरु उड़ गये । बिम्बिसार और महाकोशला की मृत्यु की खबर पाकर प्रसेनजीत को बहुत दुःख हुआ । उसने अपने जीजा व बहन की मौत का बदला लेने के लिए अपने हीं भांजे अजातशत्रु पर चढ़ाई कर दी । प्रथमतः तो प्रसेनजीत हार गया । उसे भागकर श्रावस्ती जाना पड़ा । द्वितीय क्रम में प्रसेनजीत की जीत हुई । वह अपने भांजे का कोई अनिष्ट नहीं चाहता था । वैसे भी अजातशत्रु पाश्चाताप की अग्नि में जल रहा था । अबकी बार प्रसेनजीत ने अपनी बेटी की शादी अजातशत्रु से कर दी । दहेज में फिर काशी को अपनी बेटी के सौंदर्य प्रसाधन के लिए दान दे दिया ।

प्रसेनजीत की भी स्थिति बिम्बिसार की तरह हीं हुई । उसके स्वंय के बेटे विडूडभ ने सेनापति दीर्घ कारायण के साथ मिलकर विद्रोह कर दिया । उसने धोखे से पिता को कैद कर लिया । मां मल्लिका के बीच बचाव करने से उसकी मुक्ति तो हुई , पर उसे देश निकाला की सजा हुई । देश निकाला की सजा मल्लिका ने भी ली ताकि पति के साथ रह सके । विडूडभ ने माता पिता के पाथेय ( मार्ग व्यय ) के लिए एक सहस्त्र स्वर्ण मुद्राएं दीं । प्रसेनजीत का स्वाभिमान इसके लिए तैयार नहीं था । उसने मल्लिका से उस मुद्रा को वापस करने को कहा । उसने पत्नी से कहा था - " तुम माली की बेटी हो । तुम्हें कुसुमों की माला बनाने की कला आती है । हम माला बनाकर उसे बेचकर अपना पाथेय पूरा कर लेंगे ।" व्यवहारिक मानस वाली पत्नी ने वे मुद्राएं नहीं लौटायीं । नाना प्रकार की ऊंच नीच की बातें समझाकर उसने पति को वह स्वर्ण मुद्राएं साथ ले जाने के लिए मना लिया । प्रसेनजीत का शरीर बूढा हो गया था । वह मार्ग की कठिनाइयों को झेल नहीं सका । एक दिन वह धर्मशाला में सोया तो सोया हीं रह गया । पत्नी मल्लिका भी उसके शव पर वहीं ढेर हो गयी थी । दोनों पति पत्नी बौद्ध मतावलम्बी थे । वे दोनों एक साथ बुद्धम् शरणम् गच्छामी हो गये ।

आम्रपाली भी बिम्बिसार की मौत के बाद बौद्ध भिक्षुणी बन गयी थी ।

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links