ब्रेकिंग न्यूज़
खून बेच कर हेरोइन का धुआं उड़ाते हैं गढ़वा के युवा         कब होगी जनादेश से जड़ों की तलाश          'नसबंदी का टारगेट', विवाद के बाद कमलनाथ सरकार ने वापस लिया सर्कुलर         पीढ़ियॉं तो पूछेंगी ही कि गाजी का अर्थ क्या होता है?         मातृ सदन की गंगा !         ओवैसी की सभा में महिला ने पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे लगाए         एक बार फिर चर्चा में हैं सामाजिक कार्यकर्ता "तीस्ता सीतलवाड़",शाहीनबाग में उन्हें औरतों को सिखाते हुए देखा गया         कनपुरिया गंगा, कनपुरिया गुटखा, डबल हाथरस का मिष्ठान और हरजाई माशूका सी साबरमती एक्सप्रेस..         शाहीन बाग में वार्ता विफल : जिस दिन नागरिकता कानून हटाने का एलान होगा, हम उस दिन रास्ता खाली कर देंगे         फ्रांस में विदेशी इमामों और मुस्लिम टीचर्स पर प्रतिबंध         'राष्ट्रवाद' शब्द में हिटलर की झलक, भारत कर सकता है दुनिया की अगुवाई : मोहन भागवत         आतंकवाद के खिलाफ चीन ने पाकिस्तान का साथ छोड़ा         दिमाग में गोबर, देह पर गेरुआ!          त्राल में सुरक्षाबलों ने तीन आतंकियों को मार गिराया         CAA-NRC-NPR के समर्थन में रिटायर्ड जज और ब्यूरोक्रेट्स ने राष्ट्रपति को लिखा पत्र         अनब्याही माँ : चपला के बहाने इतिहास को देखा          भारतीय पत्रकारिता को फफूंदी बनाने वाली पत्रकार यूनियनें..         ब्रिटेन और फ्रांस को पीछे छोड़ भारत बना दुनिया की पांचवीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था         ..विधायक बंधू तिर्की और प्रदीप यादव आज विधिवत कांग्रेस के हुए         मरता क्या नहीं करता !          14 साल बाद बाबूलाल मरांडी की घर वापसी, जोरदार स्वागत         जेवीएम प्रमुख बाबूलाल मरांडी भाजपा में हुए शामिल, अमित शाह ने माला पहनाकर स्वागत किया         भारत में महिला...भारत की जेलों में महिला....          अनब्याही माताएं : प्राण उसके साथ हर पल है,यादों में, ख्वाबों में         कराची में हिंदू लड़की को इंसाफ दिलाने के लिए सड़कों पर उतरे लोग         बेतला राष्ट्रीय उद्यान में गर्भवती मादा बाघ की मौत !अफसरों में हड़कंप         बिहार की राजनीति में हलचल : शरद यादव की सक्रियता से लालू बेचैन          सीएम गहलोत की इच्छा, प्रियंका की हो राज्यसभा में एंट्री !         अनब्याही माताएं : गीता बिहार नहीं जायेगी          तेंतीस करोड़ देवी-देवताओं के देश में यही होना है...         केजरीवाल माँडल अपनाकर हीं सफलता प्राप्त कर सकतीं हैं ममता बनर्जी         28 फरवरी को रांची आएंगे राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद         सत्ता पर दबदबा रखनेवाले जूना पीठाधीश्वर आचार्य महामंडलेश्वर से लेकर तमाम शंकराचार्यों की जमात कहां हैं?         

अघोरी दुनियां , मस्त मगन दुनियां

Bhola Tiwari Jun 27, 2019, 8:04 AM IST टॉप न्यूज़
img

एस डी ओझा

नरमुण्ड गले में पहने, कानों में कुंडल, एक हाथ में चिमटा व दुसरे में कमंडल, पूरे शरीर पर राख पोते हुए अघोरी की यही पहचान है. अघोरी की आंखें लाल, पर वाणी संयमित होती है. गले में काले ऊन के धागे में पिरोया हुआ सिंघ होता है, जिसे "सिंघी सेली " कहते हैं. ये तीन तरह की साधना करते हैं -शिव साधना, शव साधना और श्मशान साधना. शिव व शव साधना को मुर्दे पर खड़े हो कर सिद्धि की जाती है. इसके पीछे पार्वती का शिव के ऊपर पैर रखने वाली बात इनके मन में रहती होगी. श्मशान साधना में सिद्धि कराने वाले परिवार को भी शामिल किया जाता है.

अघोर का मतलब होता है, जो घोर नहीं है. अघोरी भी सरल हृदय होते हैं. ये किसी से कुछ नहीं मांगते. अघोरी तभी नजर आते हैं, जब ये श्मसान में साधना के लिए जा रहे हों या श्मसान से साधना कर आ रहे हों. कुम्भ मेले में भी ये नजर आते हैं. अघोरियों के चार प्रमुख शक्तिपीठ हैं - तारा पीठ, कामाख्या पीठ, त्रयंबकेश्वर और उज्जैन पीठ. पाकिस्तान के बलूचिस्तान में हिंगलाज धाम अघोरियों की तपस्थली रही है. इसके अतिरिक्त चित्रकूट ( उत्तर प्रदेश) , काली मठ (नैनी ताल) , काली घाट (कोलकाता) आदि भी अघोरियों के सिद्धि केन्द्र रहे हैं. वैसे कामख्या का हीं तंत्र विधि पूरे भारत में फैली हुई है. इनका मूल मंत्र है -

ऊं अघोरेभ्यं अघोरेभ्यं नमः ।

शिव की नगरी वाराणसी में भी अनेकों अघोरियों ने साधना की है. वाराणसी के बाबा कीनाराम इनके आदर्श रहे हैं. बाबा ने अघोर तंत्र पर एक पुस्तक "विवेकासार " लिखी है. गुजरात के जूनागढ़ का गिरनार पर्वत भी अघोरियों की साधनास्थली रही है. वौद्ध धर्म की एक शाखा बज्रयान भी अघोर तंत्र में सिद्धहस्त थी. आजकल अमेरिका में भी एक सोनाश्रम खुला है, जहां अघोर तंत्र पर शोध किया जा रहा है  

अघोरी या औघड़ सम्प्रदाय के लोग एक अजूबे से कम नहीं हैं. इन्हें आप किसी बीराने, किसी श्मशान या कुम्भ मेले में हीं देख सकते हैं. अघोरी आम जनता से दूर रहते हैं. बहुत जरूरी होने पर हीं ये बात करते हैं. विशेष मंत्र के जरिए मृतात्मा को बुलाते हैं और उससे बात करते हैं. मंत्र साधना से श्मशान साधने में एक सप्ताह का वक्त लग जाता है. अघोर विद्या सबसे कठिन पर तुरन्त फलित होने वाली विद्या है, जिसके लिए माया मोह का त्याग करना आवश्यक है. अच्छा अघोरी वही होता है, जो अच्छा -बुरा,राग -द्वेष ,प्रेम -घृणा आदि सब से परे हो. अघोरी कुछ भी खाने से परहेज नहीं करते. मुर्दे का मांस भी ये खा जाते हैं. इसके पीछे इनकी यह लाजिक होती है कि ऐसा कर वे घृणा पर विजय पा रहे हैं. अघोरी रात को साधना, मांस मदिरा का सेवन करते हैं तो दिन को सोते हैं. इनका मानना है कि श्मशान में शिव का वास होता है. शिव की उपासना मोक्ष-मार्ग पर ले जाती है.

सभी तरह के वैराग्य धारण कर अंत में ये श्मशान से हिमालय की तरफ रूख करते हैं. दत्तात्रेय को ये अपना आदर्श मानते हैं और उनमें विष्णु व शिव का वास मानते हैं. हिमालय में जाकर ये दत्तात्रेय के सिद्धान्तों के आधार पर पंच तत्व में विलीन हो जाते हैं.

जमीन,आकाश में सब जगह शिव है, सत्य है.

विलीन हो जाते हैं पंच तत्व में जो चैतन्य है.

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links