ब्रेकिंग न्यूज़
लुगू पहाड़ की तलहटी में नक्सलियों ने दी फिर दस्तक         आज संपादक इवेंट मैनेजर है तो तब वो हुआ करता था बनिये का मुनीम या मंत्र पढ़ता पंडत....         किसी को होश नहीं कि वह किसे गाली दे रहा है...          जेवीएम विधायक प्रदीप यादव और बंधु तिर्की ने सोनिया गांधी और राहुल गांधी से की मुलाकात         नीतीश का दो टूक : प्रशांत किशोर और पवन वर्मा जिस पार्टी में जाना चाहे जाए, मेरी शुभकामना         लोहरदगा में कर्फ्यू :  CAA के समर्थन में निकाले गए जुलूस पर पथराव, कई लोग घायल         पेरियार विवाद : क्या तमिल सुपरस्टार रजनीकांत की बातें सही हैं जो उन्होंने कही थी ?         पत्‍थलगड़ी आंदोलन का विरोध करने पर हुए हत्‍याकांड की होगी एसआईटी जांच, सीएम हेमंत सोरेन दिए आदेश         एक ही रास्ता...         अब तानाजी के वीडियो में छेड़छाड़ कर पीएम मोदी को दिखाया शिवाजी         सरकार का नया दांव : जनसंख्या नियंत्रण कानून...         हम भारत के सामने बहुत छोटे हैं, बदला नहीं ले सकते : महातिर मोहम्मद         तीस साल बीतने के बावजूद कश्मीरी पंडितों की सुध लेने वाला कोई नहीं, सरकार की प्राथमिकता में कश्मीर के अन्य मुद्दे         हेमंत सोरेन को मिला 'चैम्पियन ऑफ चेंज' अवॉर्ड         जेपी नड्डा भाजपा के नए अध्यक्ष, मोदी बोले-स्कूटर पर साथ घूमे         नए दशक में देश के विकास में सबसे ज्यादा 10वीं-12वीं के छात्रों की होगी भूमिका : मोदी         CAA को लेकर केरल में राज्यपाल और राज्य सरकार में ठनी         इतिहास तो पूछेगा...         सेखुलरी माइंड गेम...         अफसरों की करतूत : पत्नियों की पिकनिक के लिए बंद किया पतरातू रिजाॅर्ट         गुरूवर रविंद्रनाथ टैगोर की मशहूर कविता "एकला चलो रे" की राह पर सपा प्रमुख अखिलेश यादव         पत्रकारिता में पद्मश्रियों और राज्यसभा की सांसदी के कलुष...         विकास का मॉडल देखना हो तो चीन को देखिए...         फरवरी में भारत आएंगे ट्रंप, अहमदाबाद में होगा 'हाउडी मोदी' जैसा कार्यक्रम         शर्मनाक : सीएम के आदेश के बावजूद सरकारी मदद पहुंचने से पहले मरीज की मौत         झारखण्ड मंत्रिमंडल लगभग तय ! अन्तिम मुहर लगनी बाकी         ऑस्ट्रेलिया का क्या होगा...         क्या चंद्रशेखर आजाद बसपा सुप्रीमो मायावती का विकल्प बन सकते हैं?         सबसे पहले जनसंख्या नियंत्रण कानून की मांग कीजिए...         जनता की सेवा करें विधायक : सोनिया गांधी         झाविमो कार्यसमिति घोषित : विधायक प्रदीप यादव एवं बंधु तिर्की को कमेटी में कोई पद नहीं        

जेण्डर डिस्फोरिया

Bhola Tiwari Jun 27, 2019, 7:51 AM IST टॉप न्यूज़
img

 एस डी ओझा

आईने में पुरुष को जब अपना दाढ़ी मूंछ युक्त चेहरा या स्त्री को अपना दाढ़ी मूंछ विहीन चेहरा पसंद न आए तो समझ लीजिए कि ऐसे पुरुष स्त्री जेण्डर डिस्फोरिया के शिकार हो गये हैं । ऐसा क्यों होता है ? क्योंकि जब पुरूष तन में स्त्री मन और स्त्री तन में पुरूष मन समा जाए तब जेण्डर डिस्फोरिया की आवक हो जाती है । इस तरह का विकार बच्चों मे ढाई तीन साल की उम्र से हीं आने लगता है । बच्चों को अपने से विपरीत जेण्डर की सोहबत अच्छी लगने लगती है । यदि बच्चा पुरुष जेण्डर का है तो उसे औरत जेण्डर के बच्चों का साथ अच्छा लगेगा । यही बात औरत जेण्डर के बच्चों के साथ होगी । उन्हें पुरुष जेण्डर के बच्चों की सोहबत अच्छी लगेगी । 

आम तौर पर किन्नर इस मनोविकार से ग्रसित होते हैं । 84% किन्नरों की कद काठी शकल सब पुरुषों से मिलती जुलती है । उनकी दाढ़ी मूछें भी होती हैं । आवाज भी पुरुषों जैसी मोटी होती है । इसके बावजूद वो अपने को स्त्री मानते हैं । उनके हाव भाव में स्त्रैण प्रवृति झलकती है । हालांकि किन्नर थर्ड जेण्डर में आते हैं , पर वे भी जेण्डर डिस्फोरिया के शिकार होते हैं । कुछ सालों पहले तक डी आई जी रैंक के एक पुलिस ऑफिसर जेण्डर आइडेण्टिटी डिसआर्डर ( जेण्डर डिस्फोरिया ) से पीड़ित थे । वे वर्दी में रहते हुए भी नाखूनों पर नेल पाॅलिश , होठों पर लिपिस्टिक और आंखों में काजल लगाते थे । वे काफी दिनों तक मीडिया के आंखों के तारे बने हुए थे । अब जब वे रिटायर्ड होकर घर बैठ गये हैं तो कोई उनकी खोज खबर नहीं लेता । मीडिया भी उनसे मुंह मोड़ चुका है ।

कुछ मरीज जन्म से हीं जेण्डर डिस्फोरिया से पीड़ित होते हैं । उन्हें अपनी वर्तमान शारीरिक संरचना पसंद तो होती है , पर वे रहना विपरीत लिंगियों की तरह रहना चाहते हैं । यही केस डी आई जी साहब का था । वे जन्म से हीं जेण्डर आइडेण्टिटी डिसआर्डर से जूझ रहे थे । कुछ लोग ऐसे लोगों को समलैंगिक समझने की भूल कर बैठते हैं । जब कि वास्तव में ऐसा नहीं होता । जेण्डर डिस्फोरिया के मरीज भी विषमलिंगी हीं होते हैं । कुछ मरीज बाद में बनते हैं । कई घरों में बेटों की चाह होती है । बेटा न होने पर बेटी का हीं लालन पालन बेटे की तरह किया जाने लगता है । उसे बेटे के पोशाक में रखा जाता है । ऐसे में उनमें पुरुष की प्रवृति पनपने लगती है । कई घरों में कई बेटियों के बाद बेटा पैदा होता है । वह बेटा अपनी बहनों के संग रहकर अपने अंदर औरतों के गुण विकसित कर लेता है । उसकी चाल ढाल अदा सब औरतों वाली हो जाती है ।

कुछेक घरों में पिता की मृत्यु के बाद कोई एक लड़की घर की जिम्मेदारी सम्भाल लेती है । जिम्मेदारी सम्भालते सम्भालते उसमें पुरुषोचित गुण उभरने लगते हैं और वह लड़की जेण्डर डिस्फोरिया की मरीज बन जाती है । कुछ लड़कियों का परवरिश भी लड़कों की तरह होती है । ऐसी लड़कियों की चाल ढाल सब लड़कों की तरह हीं हो जाती है । कुछेक घरों में जब लड़के हीं लड़के होते हैं तो मां बाप किसी एक लड़के को लड़की की तरह पालने लगते हैं । उसे लड़कियों के कपड़े पहनाते हैं । ऐसे में उस लड़के में स्त्रियोचित गुण आने लगते हैं । कई बार जैण्डर डिस्फोरिया पागलपन की वजह से भी होता है । ऐसे में पागलपन का इलाज किया जाना चाहिए । पागलपन का इलाज होने के बाद जेण्डर डिस्फोरिया स्वतः हीं ठीक हो जाती है ।

जेण्डर डिस्फोरिया के मरीज का इलाज शुरूआती दौर में आसानी से हो जाता है । उसे विहेवियर थेरेपी के साथ साथ मनोवैज्ञानिक काउंसलिंग भी की जाती है । लेकिन जब काफी समय निकल जाता है तो मामला पेचीदा होने लगता है । देर हो जाने के बाद जेण्डर डिस्फोरिया के मरीज वापस अपने जेण्डर में नहीं आ पाते । कई अपना सेक्स चेंज करा बैठते हैं और ताजिंदगी हारमोन के इंजेक्सन लेते रहते हैं । वे सर्जरी की लम्बी प्रक्रिया से गुजरते हैं । ऐसे लोगों का कभी मजाक नहीं बनाना चाहिए । वे भी हमारी आपकी तरह से इंसान हैं । उन्हें भी हमारी तरह हीं जीने का हक है । वे आपके प्यार के मुंतजिर हैं । उन्हें प्यार दीजिए । जीने दीजिए ।

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links