ब्रेकिंग न्यूज़
हम छीन के लेंगे आजादी....         माल महाराज के मिर्जा खेले होली         भारत और अमेरिका में 3 अरब डॉलर का रक्षा समझौता         सीएए भारत का अंदरुनी मामला : डोनाल्‍ड ट्रंप         लड़खड़ाई धरती पर सम्भलकर आगे बढ़ गए हिम्मती लोग          शाहीन बाग : उपाय क्या है?          भारत में दक्षिणपंथी विमर्श एक चिंतनधारा कम प्रॉपेगेंडा ज्यादा          मिलकर करेंगे इस्लामी आतंकवाद का सफाया : ट्रंप         मोदी ट्रंप की यारी : भारत की तारीफ, आतंक पर PAK को नसीहत         भारत और अमेरिका रक्षा सौदे में बड़ा डील करेगा : डोनाल्ड ट्रंप         "एक्टिव फार्मास्युटिकल इनग्रेडिएंट"(एपीआई) के लिए पूरी तरह चीन पर निर्भर है भारत         कुछ ही देर में प्रेसिडेंट ट्रंप पहुंच रहे हैं इंडिया         अनब्याही माँ : चपला के बहाने इतिहास को देखा          संभलने का वक्त !          अनब्याही माताएं : नरमुंड दरवाजे पर टांगकर जश्न मनाया करते थे....         ताकि भाईचार हमेशा बनी रहे!          अब शत्रुघ्न सिन्हा पाकिस्तान के राष्ट्रपति से मिलकर कश्मीर मुद्दे पर सुर में सुर मिलाया         सुरक्षाबलों ने लश्कर-ए-तैयबा के दो आतंकियों को मार गिराया, सर्च ऑपरेशन जारी         खून बेच कर हेरोइन का धुआं उड़ाते हैं गढ़वा के युवा         कब होगी जनादेश से जड़ों की तलाश          'नसबंदी का टारगेट', विवाद के बाद कमलनाथ सरकार ने वापस लिया सर्कुलर         पीढ़ियॉं तो पूछेंगी ही कि गाजी का अर्थ क्या होता है?         मातृ सदन की गंगा !         ओवैसी की सभा में महिला ने पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे लगाए         एक बार फिर चर्चा में हैं सामाजिक कार्यकर्ता "तीस्ता सीतलवाड़",शाहीनबाग में उन्हें औरतों को सिखाते हुए देखा गया         कनपुरिया गंगा, कनपुरिया गुटखा, डबल हाथरस का मिष्ठान और हरजाई माशूका सी साबरमती एक्सप्रेस..         शाहीन बाग में वार्ता विफल : जिस दिन नागरिकता कानून हटाने का एलान होगा, हम उस दिन रास्ता खाली कर देंगे         फ्रांस में विदेशी इमामों और मुस्लिम टीचर्स पर प्रतिबंध         'राष्ट्रवाद' शब्द में हिटलर की झलक, भारत कर सकता है दुनिया की अगुवाई : मोहन भागवत         आतंकवाद के खिलाफ चीन ने पाकिस्तान का साथ छोड़ा         दिमाग में गोबर, देह पर गेरुआ!          त्राल में सुरक्षाबलों ने तीन आतंकियों को मार गिराया         CAA-NRC-NPR के समर्थन में रिटायर्ड जज और ब्यूरोक्रेट्स ने राष्ट्रपति को लिखा पत्र         अनब्याही माँ : चपला के बहाने इतिहास को देखा          भारतीय पत्रकारिता को फफूंदी बनाने वाली पत्रकार यूनियनें..         ब्रिटेन और फ्रांस को पीछे छोड़ भारत बना दुनिया की पांचवीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था        

कोई चारासाज होता , कोई गमगुसार होता

Bhola Tiwari Jun 23, 2019, 12:23 PM IST टॉप न्यूज़
img

एस डी ओझा

दिल्ली जयपुर स्थित हाई वे पर बहरोर के रहने वाले थे धर्मचंद जैन . वे गुजरात से आकर यहां बस गये थे . उनका सूदी किश्ती का कारोबार था . उनकी 9 संतानों में से पांचवीं संतान थे नेमिचंद जैन .यही नेमिचंद जैन बाद में चंद्रास्वामी के नाम से मशहूर हुए थे . उनकी पढ़ाई लिखाई नाम मात्र की हुई थी . बचपन से उनका झुकाव तंत्र साथना की तरफ था . 16 साल की उम्र से वे तांत्रिक कहलाने लगे थे. सबसे पहले वे जैन सन्यासी महोपाध्याय अमर मुनि के सम्पर्क में आए . उनसे दीक्षा लेकर 26 साल की उम्र में उन्होंने अपनी जिंदगी का पहला महा अनुष्ठान कराया था , जिसमें देश विदेश के बहुत से लोग शामिल हुए . उनको भविष्य वक्ता के तौर पर भी जाना जाता है . उन्होंने प्रसिद्ध ज्योतिषि रामरुप गुप्त से बकायदा इसकी तालीम ली थी .

उनका परिचय आंध्र प्रदेश के मुख्य मंत्री पी वी नरसिम्हा राव के साथ किसी धार्मिक सम्मेलन में हुआ था . यह परिचय पी वी नरसिम्हा राव के प्रधान मंत्री बनने तक जारी रहा . वे प्रधान मंत्री राव से बगैर अप्वाइंटमेंट के मिलते थे. यही हाल उनका थोड़े दिनों के लिए बने प्रधान मंत्री चंद्रशेखर के साथ भी रहा . इसके बाद से नेमिचंद जैन से चंद्रास्वामी बने और भी विख्यात हो गये . उन्हें दूसरों का दिमाग जीतने में गजब का हुनर हासिल था. उनका सम्पर्क देश विदेश के ताकतवर राष्ट्राध्यक्षों से होने लगा. उनसे मिलने के लिए शासनाध्यक्ष अपना निजी विमान भेजने लगे. ब्रिटेन की प्रधान मंत्री मार्गरेट थैचर , ब्रूनेई के सुल्तान , बहरीन के शासक , जायर के राष्ट्राध्यक्ष उनके मुरीद बन बैठे . चंद्रास्वामी ने तंत्र विद्या से मार्गरेट थैचर को ब्रिटेन की प्रधान मंत्री बनने की भविष्य वाणी की थी . यही नहीं उन्होंने प्रधान मंत्री के रुप में उनका 11 साल का कार्यकाल भी बता दिया था . हाली वुड अभिनेत्री एलिजाबेथ भी उनकी भक्त थीं .

सऊदी अरब के हथियार व्यापारी अदनान खाशोगी से भी उनके मैत्रीपूर्ण सम्बंध थे . चंद्रास्वामी ने भारत और अदनान खाशोगी के मध्य हथियारों की खरीद फरोख्त में एक मध्यस्थ की भूमिका निभायी थी . कहते हैं कि राॅ के एजेंट के तौर पर भी उन्होंने काम किया था . सभी राजनीतिक पार्टियों में उनकी पैठ थी . राम मंदिर मुद्दे पर उन्होंने सभी राजनीतिक पार्टियों के बीच मध्यस्थता की थी . उनकी मां की मृत्यु भोज में सभी रीजनीतिक दल के लोग शामिल हुए थे . तकरीबन 50 हजार के करीब लोग एकत्र हुए थे , जिनमें राजनीतिक , फिल्मी कलाकार , चित्रकार व आम जन सभी थे . 1993 में चंद्रास्वामी ने एक वृहत्तर अनुष्ठान का आयोजन किया था , जिसमें बड़ी संख्या में विदेशी सन्यासियों ने भी शिरकत की थी ,जो समारोह में वोदका पीकर झूम रहे थे. 

1982 में मिस इंडिया रह चुकीं पामेला बोर्डेस ने चंद्रास्वामी पर अदनान खाशोगी के साथ मिलकर अपना यौनिक शोषण करने का आरोप भी लगाया था .अचार किंग लक्खू भाई पाठक ने प्रधान मंत्री पी वी नरसिम्हा राव के नाम से चंद्रास्वामी पर करोड़ों की ठगी का आरोप भी लगाया था. उन पर प्रधान मंत्री राजीव गांधी की हत्या के षड्यंत्र में शामिल होने का भी आरोप था. उनका सम्बंध कुख्यात डाॅन दाऊद इब्राहिम से जोड़ा गया. हथियारों की दलाली , हवाला कारोबार , विदेशी मुद्रा अधिनियम के उल्लंघन जैसे बड़े आरोप भी उन पर लगे .

लम्बी दाढ़ी , गले में रुद्राक्ष की माला , ललाट पर चंदन व पीत वस्त्र धारण करने वाले चंद्रास्वामी के बुरे दिन सन् 1996 से आने शुरू हो गये .उन पर कई मुकदमे दायर हुए . उन्हें तिहाड़ जेल जाना पड़ा . फर्श से उठकर अर्श पर पहुंचने वाले चंद्रास्वामी पुन: फर्श पर आ गये . उन्हें जेल से अदालत ले जाने वाली गाड़ी में चोर उच्चके , उठाईगीर , जेबकतरे जैसे अपराधी भी होते थे ; जो पूरे रास्ते उनकी दाढ़ी खींचते , उन्हें कोचते व गरियाते हुए जाते . चंद्रास्वामी ने सपने में भी सोचा नहीं होगा कि एक दिन यह भी उनकी जिंदगी का हिस्सा होगा . 

दिल्ली के अपोलो अस्पताल में 69 वर्षीय गम्भीर रुप से बीमार चंद्रास्वामी दो सप्ताह से एडमिट थे . कभी उनको हाथों हाथ लेने वाली मीडिया ने इस बावत कोई खबर नहीं दी. दुनियां को तब पता चला जब 23 मई 2017 को उनकी मौत हो गयी. जाहिर सी बात है कि चंद्रास्वामी में उनकी टी आर पी बढ़ाने की अब कूवत नहीं रह गयी थी . आखिरी वक्त में चंद्रास्वामी निहायत अकेले पड़ गये थे . उनके दोस्तों ने हीं उनसे मुंह फेर लिया था .

ये कहां की दोस्ती है कि बने हैं दोस्त नासेह ,

कोई चारासाज होता , कोई गमगुसार होता .

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links