ब्रेकिंग न्यूज़
अनब्याही माँ : चपला के बहाने इतिहास को देखा          भारतीय पत्रकारिता को फफूंदी बनाने वाली पत्रकार यूनियनें..         ब्रिटेन और फ्रांस को पीछे छोड़ भारत बना दुनिया की पांचवीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था         ..विधायक बंधू तिर्की और प्रदीप यादव आज विधिवत कांग्रेस के हुए         मरता क्या नहीं करता !          14 साल बाद बाबूलाल मरांडी की घर वापसी, जोरदार स्वागत         जेवीएम प्रमुख बाबूलाल मरांडी भाजपा में हुए शामिल, अमित शाह ने माला पहनाकर स्वागत किया         भारत में महिला...भारत की जेलों में महिला....          अनब्याही माताएं : प्राण उसके साथ हर पल है,यादों में, ख्वाबों में         कराची में हिंदू लड़की को इंसाफ दिलाने के लिए सड़कों पर उतरे लोग         बेतला राष्ट्रीय उद्यान में गर्भवती मादा बाघ की मौत !अफसरों में हड़कंप         बिहार की राजनीति में हलचल : शरद यादव की सक्रियता से लालू बेचैन          सीएम गहलोत की इच्छा, प्रियंका की हो राज्यसभा में एंट्री !         अनब्याही माताएं : गीता बिहार नहीं जायेगी          तेंतीस करोड़ देवी-देवताओं के देश में यही होना है...         केजरीवाल माँडल अपनाकर हीं सफलता प्राप्त कर सकतीं हैं ममता बनर्जी         28 फरवरी को रांची आएंगे राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद         सत्ता पर दबदबा रखनेवाले जूना पीठाधीश्वर आचार्य महामंडलेश्वर से लेकर तमाम शंकराचार्यों की जमात कहां हैं?          यही प्रथा विदेशों में भी....         इतिहास, शिक्षा, साहित्य और मीडिया..         जालसाजी : विधायक ममता देवी के नाम पर जालसाज व्यक्ति कर रहा था शराब माफिया की पैरवी         वार्ड पार्षदों ने नप अध्यक्ष के द्वारा मनमानी किए जाने की शिकायत उपायुक्त से की         पुलवामा हमले की बरसी पर इमोशनल हुआ बॉलीवुड, सितारों ने ऐसे दी शहीदों को श्रद्धांजलि         बड़ी खबर : प्रदीप यादव के कांग्रेस में शामिल होते ही झारखंड की सरकार गिरा देंगे : निशिकांत         क्या सरदार पटेल को नेहरू ने अपनी मंत्रिमंडल में मंत्री बनाने से मना कर दिया था?एक पड़ताल         वैलेंटाइन गर्ल की याद !         राजनीति में अपराधियों की एंट्री पर सुप्रीमकोर्ट सख्त, चुनाव आयोग और याचिकाकर्ता को दिये जरूरी निर्देश         राजनीतिक पार्टियों को सुप्रीम कोर्ट का.निर्देश : उम्मीदवारों का क्रिमिनल रेकॉर्ड जनता से साझा करें         सभ्य समाज के मुँह पर तमाचा है दिल्ली की "गार्गी काँलेज" और "लेडी श्रीराम काँलेज" जैसी घटनाएं         पूर्वजो के शब्द बनते ये देशज शब्द         हिंदी पत्रकारिता में सॉफ्ट हिंदुत्व और संतों में लीन सम्पादक..         कांग्रेस में घमासान : प्रदेश कांग्रेस कमेटियों को अपनी दुकान बंद कर देना चाहिए : शर्मिष्ठा मुखर्जी          एलपीजी सिलेंडर में बड़ा इजाफा : बिना सब्सिडी वाला एलपीजी सिलेंडर 144.5 रुपए महंगा        

सीमा परिहार - गरीबी में पलती जिंदगी

Bhola Tiwari Jun 23, 2019, 6:17 AM IST टॉप न्यूज़
img

एस डी ओझा

उस दिन मूसलाधार बारिश हो रही थी । 13 साल की सीमा परिहार अपने माता पिता और भाइयों के साथ छुपी हुई थी । घर टपक रहा था । तभी बाहर फायर की आवाज हुई । दरवाजा तोड़कर तीन चार डकैत घर के अंदर आ गये । घर में घुसते हीं उन्होंने सीमा परिहार को पकड़ा । माँ बाप और भाई डकैतों के सामने गिड़गिड़ाते रहे , पर उन्होंने सीमा परिहार को नहीं छोड़ा । उसी अंधेरी बरसाती रात में वे सीमा को 35 किलोमीटर दूर चम्बल की घाटी में दस्युराज लालाराम बागी के यहां ले गये । इस अपहरण का मास्टरमाइंड डकैत लालाराम ही था । बगैर शादी किए उसने सीमा परिहार को अपने साथ रख लिया । एक बेटा भी हुआ । वह बेटा आज बड़ा हो गया है । शायद ग्रेजुएशन कर रहा है । 

सीमा परिहार के पिता जब पुलिस में रपट लिखवाने पहुँचे थे तो पुलिस ने रपट नहीं लिखा । उल्टे उसके पिता को हीं जेल में डाल दिया । घर की कुर्की भी कर दी गयी । इन बातों का पता सीमा को चला तो उसका खून खौल उठा । उसने चम्बल के जालौन जिले के शिव मंदिर में जाकर अपनी पहली ट्रेनिंग ली । उसने पहले दुनाली से फिर 315 बोर के रायफल से फायर किया । लालाराम बागी के मुठभेड़ में मरने के बाद उसने निर्भय गुर्जर से शादी की । निर्भय गुर्जर की बुरी आदतों से तंग आकर सीमा परिहार ने उसे दल से भगा दिया । खुद दल का मुखिया बन बैठी । बाद में निर्भय गुर्जर भी पुलिस के हाथों मारा गया ।

सीमा परिहार ने स्वतंत्र रुप से डाके डालने शुरू कर दिए थे । वह बिल्कुल निर्भय होकर पुलिस थाने से हथियार छीनने लगी । सीमा को पुलिस के हथियारों पर भरोसा होता था । वह देसी हथियार नहीं चलाती थी । देसी हथियार कब दगा दे दे कहा नहीं जा सकता । ये हथियार कभी कभी अपने लोगों पर हीं चल जाते थे। पुलिस का शिकंजा उस पर कसता जा रहा था । एक दिन मजबूर होकर उसने साल 2000 में सरेंडर कर दिया था । उस पर मुकदमा चला । जेल हुई । 2004 में उसकी जेल से रिहाई हो गयी थी ।

सीमा परिहार की सरेंडर की शर्त थी कि सरेंडर के बदले उसके भाइयों को सरकारी नौकरी दी जाय । सरकार ने सरकारी नौकरी नहीं दी, बल्कि एक भाई को एनकांऊटर में मरवा दिया । सीमा परिहार उसकी लाश घर ले आई । एक बार फिर उसका खून खौला था । वह फिर से चम्बल के बीहड़ों में जाने के लिए सोचने लगी थी, पर अपने बेटे के कैरियर और मृत भाई के मासूम बच्चे को देखकर उसने इरादा बदल दिया । सीमा परिहार ने फिल्म वूंडेड में काम किया था । वह बिग बाॅस के घर में भी रही थी । इनसे जो पैसे मिले उनसे सबसे पहले सीमा ने सारा कर्जा उतारा । कुछ बचे पैसों को भरण पोषण के लिए रखा । इस समय वह अपने भाई के साथ दीमक से भरे एक घर में रह रही है ।

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links