ब्रेकिंग न्यूज़
अनब्याही माँ : चपला के बहाने इतिहास को देखा          भारतीय पत्रकारिता को फफूंदी बनाने वाली पत्रकार यूनियनें..         ब्रिटेन और फ्रांस को पीछे छोड़ भारत बना दुनिया की पांचवीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था         ..विधायक बंधू तिर्की और प्रदीप यादव आज विधिवत कांग्रेस के हुए         मरता क्या नहीं करता !          14 साल बाद बाबूलाल मरांडी की घर वापसी, जोरदार स्वागत         जेवीएम प्रमुख बाबूलाल मरांडी भाजपा में हुए शामिल, अमित शाह ने माला पहनाकर स्वागत किया         भारत में महिला...भारत की जेलों में महिला....          अनब्याही माताएं : प्राण उसके साथ हर पल है,यादों में, ख्वाबों में         कराची में हिंदू लड़की को इंसाफ दिलाने के लिए सड़कों पर उतरे लोग         बेतला राष्ट्रीय उद्यान में गर्भवती मादा बाघ की मौत !अफसरों में हड़कंप         बिहार की राजनीति में हलचल : शरद यादव की सक्रियता से लालू बेचैन          सीएम गहलोत की इच्छा, प्रियंका की हो राज्यसभा में एंट्री !         अनब्याही माताएं : गीता बिहार नहीं जायेगी          तेंतीस करोड़ देवी-देवताओं के देश में यही होना है...         केजरीवाल माँडल अपनाकर हीं सफलता प्राप्त कर सकतीं हैं ममता बनर्जी         28 फरवरी को रांची आएंगे राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद         सत्ता पर दबदबा रखनेवाले जूना पीठाधीश्वर आचार्य महामंडलेश्वर से लेकर तमाम शंकराचार्यों की जमात कहां हैं?          यही प्रथा विदेशों में भी....         इतिहास, शिक्षा, साहित्य और मीडिया..         जालसाजी : विधायक ममता देवी के नाम पर जालसाज व्यक्ति कर रहा था शराब माफिया की पैरवी         वार्ड पार्षदों ने नप अध्यक्ष के द्वारा मनमानी किए जाने की शिकायत उपायुक्त से की         पुलवामा हमले की बरसी पर इमोशनल हुआ बॉलीवुड, सितारों ने ऐसे दी शहीदों को श्रद्धांजलि         बड़ी खबर : प्रदीप यादव के कांग्रेस में शामिल होते ही झारखंड की सरकार गिरा देंगे : निशिकांत         क्या सरदार पटेल को नेहरू ने अपनी मंत्रिमंडल में मंत्री बनाने से मना कर दिया था?एक पड़ताल         वैलेंटाइन गर्ल की याद !         राजनीति में अपराधियों की एंट्री पर सुप्रीमकोर्ट सख्त, चुनाव आयोग और याचिकाकर्ता को दिये जरूरी निर्देश         राजनीतिक पार्टियों को सुप्रीम कोर्ट का.निर्देश : उम्मीदवारों का क्रिमिनल रेकॉर्ड जनता से साझा करें         सभ्य समाज के मुँह पर तमाचा है दिल्ली की "गार्गी काँलेज" और "लेडी श्रीराम काँलेज" जैसी घटनाएं         पूर्वजो के शब्द बनते ये देशज शब्द         हिंदी पत्रकारिता में सॉफ्ट हिंदुत्व और संतों में लीन सम्पादक..         कांग्रेस में घमासान : प्रदेश कांग्रेस कमेटियों को अपनी दुकान बंद कर देना चाहिए : शर्मिष्ठा मुखर्जी          एलपीजी सिलेंडर में बड़ा इजाफा : बिना सब्सिडी वाला एलपीजी सिलेंडर 144.5 रुपए महंगा        

ये विविध भारती है ,आकाश वाणी का पंचरंगी कार्यक्रम

Bhola Tiwari Jun 20, 2019, 5:22 AM IST टॉप न्यूज़
img

एस डी ओझा

यह उद्घोषणा शील कुमार ने की थी । तारीख थी 3 अक्टूबर 1957 । आज विविध भारती को शुरु हुए 60 साल से ऊपर हो गये हैं । 2007 में इस प्रसारण सेवा ने अपना स्वर्ण जयंती मनाया था । पहले हिन्दी फिल्मी गीत रेडियो सीलोन से हीं बजते थे । उस दौर में हर कोई रेडियो सीलोन हीं सुनता था । रेडियो सीलोन विज्ञापन कार्यक्रम प्रसारित करता था । इस तरह से देश का पैसा बाहर चला जाता था । आकाशवाणी से हिन्दी फिल्मी गीत प्रसारित नहीं होता था । कारण बताया जाता था कि हिन्दी फिल्मी गीत सुनकर देश के जवान विगड़ जाएंगे ।

आकाशवाणी के तत्कालीन निदेशक गिरिजा कुमारमाथुर ने रेडियो सीलोन का विकल्प चुनने की आवश्यकता बड़ी शिद्दत से महसूस की । उनकी राय थी कि फिल्मी गीत सुनने से यदि जवान विगड़ जाएंगे तो वे रेडियो सीलोन तो सुन हीं रहे हैं । बिगड़ना है तो वे उसे सुनकर भी बिगड़ जाएंगे । इस तरह से देश का पैसा विज्ञापन के रुप में बाहर जाना उचित नहीं है ।

गिरिजा कुमार माथुर ने हिन्दी फिल्मों के गीतकार पं नरेन्द्र शर्मा को आकाश वाणी का एक विज्ञापन सेवा केन्द्र खोलने को कहा । इसमें गोपाल दास , केशव पंडित और अन्य सहयोगी शामिल हुए थे । पंडित नरेंद्र शर्मा ने इस विज्ञापन सेवा केन्द्र का नाम विविध भारती रखा । उन्होंने विविध नाम अंग्रेजी के मिस्लेनियस से लिया था । आरम्भ में एक प्रसार गीत बना " नाच मयूरा नाच " । इसे लिखा था पं नरेन्द्र शर्मा ने । स्वर वद्ध किया अनिल विश्वास ने और गायक थे मन्ना डे । 

विविध भारती का प्रसारण वाक्य बना - ये विविध भारती है - आकाशवाणी का पंचरंगी कार्यक्रम । पंचरंगी मतलब पांच ललित कलाओं का समावेश से था । आरम्भ में जय माला और हवा महल दो कार्यक्रम बने । 

जय माला फौजी भाइयों का कार्यक्रम था । इसमें उनकी पसंद के गीत बजाए जाते थे । शनिवार को जय माला कार्यक्रम में फिल्मी दुनिया की कोई मशहूर हस्ती को बुलाया जाता था , जो अपनी पसंद के फिल्मी गीत सुनवाते थे । जयमाला प्रोग्राम की पहली फिल्मी हस्ती नर्गिस थी । रविवार को अब एक नया कार्यक्रम शुरु हुआ है - जय माला संदेश । इस कार्यक्रम में फौजी भाई विविध भारती के माध्यम से संदेश अपने घर भेजा करते हैं । 

हवा महल नाटक का प्रसारण करता था । रात के 9 बजे इसका प्रसारण होता था । हमलोग पौने आठ बजे रेडियो के इर्द गिर्द जमा हो जाते थे । अब इसका प्रसारण समय 8 बजे हो गया है । हवा महल के नाटकों में असरानी, ओम पुरी, अमरीश पुरी और ओम शिवपुरी , दीना पाठक और युनुस परवेज जैसै नामचीन कलाकार भाग लेते थे ।

1967 में विविध भारती को पूर्णरुपेण विज्ञापन सेवा केन्द्र बना दिया गया । एस कुमार्स का फिल्मी मुकदमा , विनाका गीत माला , सेरीडाॅन के साथी, इंस्पेक्टर ईगल आदि कार्यक्रम बहुत लोकप्रिय हुए थे । 1996 में पिटारा कार्यक्रम की शुरुआत हुई , जिसमें सेहतनामा , हेलो फरमाइश , फिल्मों सितारों से मुलाकात- सेल्यूलाइड के सितारे और सरगम के सितारे , यूथ एक्सप्रेस, उजाले उनकी यादों के , चूल्हा चौका, सोलह श्रृंगार और सखी सहेली आदि अनेक लोकप्रिय कार्यक्रम रखे गये । 

विविध भारती की लोकप्रियता आज भी कायम है । इसके कार्यक्रम भारत के दूर दराज इलाके में आज भी सुने जाते हैं । दूर दर्शन के आ जाने से इसकी लोक प्रियता में रत्ती भर भी फर्क नहीं आया है । इसके सुनने वाले दूरदर्शन वाले भी हैं । मैं अकसर रात को 10 बजे विविध भारती से प्रसारित छाया गीत सुनता हूँ ।

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links