ब्रेकिंग न्यूज़
BIG NEWS : पाकिस्तान के पूर्व पीएम यूसुफ़ रज़ा गिलानी की जीत से डरे इमरान खान करेंगे विश्वासमत का सामना, विपक्ष ने मांगा इस्तीफा         BIG NEWS : भाजपा ने खेला बड़ा दांव, 'मेट्रो मैन' को बनाया यहां का मुख्यमंत्री उम्मीदवार, जानिए कौन है ये         परिसीमन आयोग का कार्यकाल एक साल के लिए बढ़ा, केंद्र सरकार ने अधिसूचना की जारी         BIG NEWS : चाईबासा में नक्सली हमला, विस्फोट में तीन जवान शहीद, दो घायल         BIG NEWS : मोबाइल फोन से बहरेपन के शिकार हो रहे हैं देश के लोग, लगातार बढ़ रही है इनकी संख्या         BIG NEWS : पश्चिम सिंहभूम में आईईडी बम धमाका, दो जवान शहीद, तीन घायल, एयरलिफ्ट से भेजे गए रांची         BIG NEWS : राहुल गांधी ने पाकिस्तानी मदरसों से की RSS की तुलना, सोशल मीडिया पर यूजर्स ने जमकर लगाई लताड़, बताया ‘मूर्ख’         BIG NEWS : जम्मू कश्मीर में अवैध रूप से रहने वाले रोहिंग्या मुसलमानों को वापस भेजने की कवायद तेज, सभी जिलों में सत्यापन का काम जारी         BIG NEWS : चीनी साइबर हमले का मतलब एक कोड से हैकर के इशारों पर नाचने लगता है सिस्टम         BIG NEWS : भारत के पीछे हटते ही पाकिस्तान को मिला खजाना भरने का मौका !         महाशिवरात्रि: पूरे साल पूजा का फल देता है इस दिन का उपवास         BIG NEWS : सिंध विधानसभा में पीएम इमरान खान की पार्टी के विधायकों ने की मारपीट, कई विधायक जख्मी         झारखंड बजट : जो आपके लिए जानना बेहद जरूरी है बजट की 10 बड़ी बातें         BIG NEWS : मनरेगा मजदूरी 194 से बढ़ाकर 225 रुपये, मजदूरों और किसानों पर फोकस, जानें बजट की बड़ी बातें...         BIG NEWS : इसलिए भट्ठी की तरह तपी फरवरी क्योंकि ठंड को खा गया “ला नीनो”         BIG NEWS : अवंतीपोरा में मिला सक्रिय आतंकी ठिकाना, सुरक्षाबलों ने किया ध्वस्त         BIG NEWS : NIA को सौंपी गई लश्कर-ए-मुस्तफा के सरगना हिदायतुल्लाह मलिक केस की जांच, टीम जल्द करेगी पूछताछ         BIG NEWS : महबूबा मुफ्ती ने पासपोर्ट वेरिफिकेशन के लिए किया हाईकोर्ट का रुख, कहा – “कोर्ट से मदद की आस”         BIG NEWS : पाकिस्तान को चीन से खैरात में मिली कोविड-19 टीके की दूसरी खेप मिली, लेकिन पाकिस्तानी नागरिक चीनी वैक्सीनेशन के खिलाफ         BIG NEWS : “भारतीय सेना की कार्रवाई से डरे आतंकवादी, लॉन्च पैड पर बचे सिर्फ 108 आतंकी” – मीडिया रिपोर्ट         BIG NEWS : सेना की मदद से मेधावी छात्रों को मिल रही फ्री कोचिंग, श्रीनगर में ‘सुपर 30' की क्लास शुरू         BIG NEWS : मुकेश अंबानी दुनिया के 8वें सबसे अमीर शख्स, एलन मस्क टॉप पर         BIG NEWS : कांग्रेस में घमासान, आनंद शर्मा के बोल पर रंजन हो गए "अधीर", बोले- बंगाल में इन्हें कौन जानता          BIG NEWS : गुलाम नबी आजाद ने की पीएम नरेंद्र मोदी की तारीफ, तो नाराज कांग्रेसियों ने जलाया अपने ही नेता गुलाम नबी का पुतला         BIG NEWS : वैक्सीन चुराने की फिराक में चीनी हैकर्स ने भारतीय वैक्सीन निर्माताओं पर किए साइबर अटैक         BIG NEWS : ग्लोबल बायो इंडिया में स्टार्टअप्स पेश करेंगे नवाचारों का खाका, बताएंगे कैसे आगे बढ़ेगा देश         BIG STORY : ये हैं भारत के सबसे बड़े तुनक मिजाज प्रधानमंत्री जिनकी गलती से रॉ के जासूसों को मिली मौत की सजा         BIG NEWS : कश्मीर में 11 महीने बाद खुले 9वीं से 12वीं कक्षा तक के स्कूल, खुश दिखे छात्र         BIG NEWS : त्राल में सुरक्षाबलों को मिली बड़ी कामयाबी, जैश-ए-मोहम्मद का आतंकी ग्रेनेड के साथ गिरफ्तार         BIG NEWS : रांची में आज सिर्फ सुजाता सिनेमा का उठेगा पर्दा, काॅलेज, काेचिंग और पार्क भी खुलेंगे         BIG NEWS : पीएम मोदी ने ली कोरोना वैक्सीन की पहली डोज, एम्स में आज सुबह लगवाया टीका         BIG STORY : इसलिए म्यान में वापस जाने को तैयार नहीं है कांग्रेस की 23 तलवारें !         BIG NEWS : जम्मू में बनेगा प्रदेश का पहला तारामंडल, केंद्र सरकार ने 1 करोड़ 20 लाख रुपये के प्रोजेक्ट को दी मंजूरी         श्रीनगर आतंकी हमले में घायल कृष्णा ढाबा मालिक के बेटे की मौत, पूर्व डिप्टी सीएम ने कहा – “फिर से दहशत का माहौल पैदा करने की कोशिश में आतंकी संगठन”         BIG NEWS : “अनुच्छेद 370 की बहाली के लिए जम्मू कश्मीर के लोग किसानों की तरह करें आंदोलन”: महबूबा मुफ्ती         BIG NEWS : "भगवा कांग्रेस" बनाम राहुल कांग्रेस के बीच खुली जंग, पांच राज्यों के चुनाव नतीजे तय करेंगे भगवा पगड़ी का भविष्य         BIG NEWS : प्राइवेट अस्पताल में सिर्फ 250 रुपये में लग सकता है कोरोना का टीका!         BIG NEWS : कांग्रेस में रार, वंशवाद के खिलाफ व आंतरिक लोकतंत्र बहाली पर होगा प्रहार         करोडपति बनाकर मधुमक्खियों ने रखी मीठी क्रांति की नींव         BIG NEWS : दुनिया के बच्चे हर साल खरीदते हैं सौ बिलियन डालर के खिलौने         BIG NEWS : कश्मीरी एक्टिविस्ट की हत्या की साजिश रचने के आरोप में दो सुपारी किलर गिरफ्तार, पाकिस्तान और दुबई से रची गई थी साजिश         BIG NEWS : दुनिया में बज रहा है भारत की कोरोना वैक्सीन का डंका, 31 देशों को भेजे 3.61 करोड़ टीके         BIG NEWS : कांग्रेस पार्टी कमजोर होती दिख रही, इसलिए यहां इकट्ठा हुए हम : कपिल सिब्बल         BIG NEWS : अरब सागर से बंगाल की खाड़ी तक 2 मार्च से होगा भीषण चुनावी युद्ध, क्षेत्रीय दलों से टकराएगी भारत की सबसे बड़ी चुनावी सेना          गुनहगारों के टॉर्च की रोशनी में दिल्ली दंगा         BIG NEWS : चुनाव तारीखों के एलान के बाद कोलकाता में बवाल, BJP के चुनावी रथों में तोड़फोड़         शनिवार को कांग्रेस में क्या होने वाला है !         BIG NEWS : भारत-पाकिस्तान के बीच सीजफायर समझौते के पालन पर बनी सहमति का अमेरिका ने किया स्वागत, कहा- शांति की दिशा में सकारात्मक कदम         BIG NEWS : पश्चिम बंगाल, असम समेत पांच राज्यों में चुनाव की तारीख का आज हो सकता है एलान         BIG NEWS : सोशल मीडिया को बताना होगा किसने की पहली पोस्ट, 24 घंटे में दर्ज करनी होगी शिकायत         BIG NEWS : भगोड़े नीरव मोदी की होगी भारत वापसी, ब्रिटेन की अदालत से प्रत्यर्पण की इजाजत         BIG NEWS : इमरान खान को बड़ा झटका, FATF की ग्रे लिस्ट में ही बना रहेगा पाकिस्तान        

शेख अब्दुल्ला एक विवादित हस्ती

Bhola Tiwari Feb 23, 2021, 9:45 AM IST टॉप न्यूज़
img

मनमोहन शर्मा

नई दिल्ली : जम्मू कश्मीर के पूर्व प्रधानमंत्री शेख मोहम्मद अब्दुल्ला देश के सबसे विवादित नेताओं में से एक हैं। कहा जाता है कि उन्होंने अपनी जीवन की शुरुआत ब्रिटिश सरकार के एक भेदिये के रूप में की थी। शेख साहब बेहद महत्वाकांक्षी थे। उनके दिमाग में रियासत कश्मीर के सुल्तान बनने का जो भूत सवार हुआ था वह उनके अंतिम दिनों उनके दिमाग से नहीं निकला।

शेख साहब से मेरा संबंध एक दशक से भी अधिक समय तक रहा है। अजीब बात यह है कि वे भारत में तो सेकुलरवादी होने का नकाब ओढ़े रहते थे, मगर जैसे ही अपनी रियासत में कदम रखते उनका कट्टरवादी इस्लामी चेहरा फोरन बेनकाब हो जाता। कश्मीर घाटी में या मुसलमानों के सम्मेलन में उनका भाषण कुरान के आयतों से शुरू होता था और कुरान के आयतों पर ही खत्म होता था। उनके एक-एक शब्द में इस्लामिक अतिवाद भरा होता था। जब मैंने शेख साहब से इस संबंध में पूछा तो वे मुस्कुराकर बात को टाल गए। सेकुलरिज्म का नकाब ओढ़ने वाले शेख साहब जम्मू-कश्मीर के ओकाफ के कई दशकों तक अध्यक्ष रहे। उनका स्वभाव तानाशाही था और वे अपने किसी भी विरोधी को सहन करने को नहीं तैयार होते थे। उनके कोपभाजन के अनेक शिकार बने चाहे हिन्दू हो या मुसलमान। मैं आजतक यह नहीं समझ सका कि उनके पास जादू की कौन सी ऐसी छड़ी थी जो कि वे पंडित जवाहरलाल नेहरू को अपने मायाजाल में फंसा लेते थे। 1964 में बंबई से प्रकाशित होने वाले विख्यात समाचारपत्र साप्ताहिक बिलिट्स ने उनपर ब्रिटिश सरकार के गुप्तचर होने का जो आरोप लगाया था उसका उन्होंने कभी खंडन नहीं किया। 

बड़ी अजीब बात है कि देश के लगभग सभी अतिवादी मुस्लिम नेताओं के पूर्वज हिन्दू थे। चाहे वे एम.ए. जिन्ना हों या डाॅ. इकबाल या फिर शेख अब्दुल्ला सभी घोर हिन्दू विरोधी थे। शेख साहब ने खुद स्वीकार किया है कि उनके दादा रघु राम कौल कश्मीरी ब्राह्मण थे। उनके पिता ने युवावस्था में इस्लाम धर्म स्वीकार किया था।

यह भी आरोप लगाया जाता है कि अंग्रेजों के इशारे पर जम्मू-कश्मीर के डोगरा शासक महाराजा हरि सिंह को परेशान करने के लिए शेख अब्दुल्ला, मीरवाज युसूफ शाह, सरदार इब्राहिम और गुलाम अब्बास ने मुस्लिम कांफ्रेंस का गठन किया था जिसका लक्ष्य रियासत में मुस्लिम हुकूमत कायम करना था। कहा जाता है कि जिन्ना की नजर रियासत जम्मू-कश्मीर पर काफी दिनों से लगी हुई थी। उन्होंने इस रियासत को हड़पने के लिए राज्य के मुस्लिम नेताओं से संपर्क साधा। शेख के दिमाग में रियासत का मुस्लिम सुल्तान बनने का भूत सवार था। जबकि जिन्ना जम्मू-कश्मीर को हर कीमत पर पाकिस्तान का हिस्सा बनाना चाहते थे इसलिए उनकी शेख से पट न सकी। शेख ने कम्युनिस्ट नेता बाबा बी.पी.एल. बेदी और एस.एम. अशरफ के सहयोग से नेहरू से संपर्क साधा। कम्युनिस्टों के मशवरे पर उन्होंने अपने संगठन का नाम बदलकर नेशनल कांफ्रेंस रख दिया और नया कश्मीर की कल्पना जनता के सामने रखी। कहा जाता है कि शेख अब्दुल्ला की लीडरी को चमकाने में ब्रिटिश स्टेट विभाग ने उन्हें दिल खोलकर आर्थिक और हर तरह की सहायता दी ताकि वह कश्मीरी मुसलमानों में अपनी लीडरी को स्थापित कर सकें।

यह भी कहा जाता है कि उनका विवाह अकबर जहां बेगम से करवाने में भी ब्रिटिश गुप्तचर विभाग की महत्वपूर्ण भूमिका थी। अकबर जहां बेगम उस समय के अरबपति होटल मालिक स्विस नागरिक हेरी नीडोज़ की पुत्री थी। शेख साहब अपनी पत्नी के इशारों पर नाचा करते थे। इसका मुझे व्यक्तिगत रूप से कई बार प्रत्यक्ष रूप से अनुभव भी हुआ।

भारतीय गुप्तचर विभाग को इस बात की 1950 से ही जानकारी थी कि शेख अब्दुल्ला अमेरिकी और ब्रिटिश गुप्तचर एजेंसियों के संपर्क में हैं। इस संदर्भ में तात्कालीन प्रधानमंत्री पंडित नेहरू को अनेक बार ठोस प्रमाण भी उपलब्ध कराए गए थे मगर वे शेख के मोहपाश में इतने उलझे हुए थे कि जो भी अधिकारी शेख के खिलाफ एक शब्द बोलता उसे ही नेहरूजी डांट दिया करते थे। गुप्तचर ब्यूरो के तात्कालीन प्रमुख बी.एन. मलिक ने अपनी पुस्तक नेहरू के साथ मेरे दिन में यह रहस्योदघाटन किया है कि शेख अब्दुल्ला से जून 1953 में अमेरिकी गुप्तचर विभाग के दो प्रमुख अधिकारियों ने श्रीनगर में लम्बी बैठक की थी जिसमें यह तय किया गया था कि शेख साहब 15 अगस्त 1953 को आजाद कश्मीर की घोषणा कर देंगे। इस नए राष्ट्र को ब्रिटेन, अमेरिका, फ्रांस आदि पांच पश्चिमी देश फोरन मान्यता प्रदान कर देंगे और इस नए राष्ट्र की रक्षा के लिए पाकिस्तान और विदेशी सेनाएं कश्मीर घाटी में घूस जाएंगी। इस रिपोर्ट के बाद रफी अहमद किदवई के दबाव पर नेहरू को शेख अब्दुल्ला को बर्खास्त करके उन्हें फोरन कैद करने का निर्देश सेना को देना पड़ा। शेख अब्दुल्ला के खिलाफ कश्मीर साजिश केस चलाया गया, वर्षों वे जेल में बंद रहे। फिर अचानक प्रधानमंत्री नेहरू ने यह मुकदमा वापस ले लिया। सबसे रोचक बात यह है कि 1962 के भारत-चीन युद्ध के बाद पंडित नेहरू ने पाकिस्तान के साथ मैत्री संबंध स्थापित करने के लिए शेख अब्दुल्ला का खुलकर इस्तेमाल किया। उन्हें विशेष दूत के रूप में पाकिस्तान जनरल अयूब से समझौते की वार्ता चलाने के लिए भेजा गया। यह बातचीत गुप्तरूप से चल ही रही थी कि अचानक पंडित नेहरू का निधन हो गया। पंडित नेहरू के निधन के समय शेख पाकिस्तान में थे। अपने मित्र की मृत्यु का समाचार सुनते ही वे एक विशेष विमान द्वारा जनरल अयूब और उसके विदेश मंत्री जेड.ए. भुट्टो के साथ फोरन दिल्ली पहुंचे।

मैंने तीन मूर्ति हाउस में पंडित नेहरू के शव के पास शेख को बच्चों की तरह बिलखते हुए अपनी आंखों से देखा है। शेख को ज्योतिष और रमल (अरबी ज्योतिष विद्या) पर बेहद आस्था थी। मुझे याद है कि एक बार मैं उनके साथ बस्ती निजामुद्दीन में रमल विद्या के एक माहिर के साथ मिलने के लिए गया था। इस मुस्लिम ज्योतिषी ने शेख के पुनः सत्ता में आने के बारे में जो भविष्यवाणी की थी वह बाद में सही साबित हुई। इस बात से इनकार नहीं किया जा सकता कि शेख का व्यक्तित्व काफी मोहक था और वे अपने व्यक्तित्व के जाल में अच्छे-अच्छों को फंसा लेते थे। नेहरू उनके इशारों पर कठपुतली की भांति चलते थे। शेख जो चाहते वही करवा लेते थे। इंदिरा गांधी के साथ भी उनके संबंध काफी घनिष्ठ थे और वे उन्हें ‘इन्दू बेटी’ कहा करते थे।

देश के खरबपति पूंजीपति अम्बालाल साराभाई की पुत्री मृदुला साराभाई भी शेख के बेहद नजदीक थी। शेख के चक्कर ने उसने नेहरू के साथ अपनी घनिष्ठ मित्रता तक कुर्बान कर दी। शेख के बुरे दिनों में साराभाई ने उनके परिवार पर दोनों हाथों से दौलत लूटाई। नेहरू की वह कोपभाजन बनी और कई साल तक वह जेल में भी बंद रहीं। कहा जाता है कि किसी जमाने में मृदुला साराभाई नेहरू के बेहद करीब थीं।

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links