ब्रेकिंग न्यूज़
दिमाग में गोबर, देह पर गेरुआ!          त्राल में सुरक्षाबलों ने तीन आतंकियों को मार गिराया         CAA-NRC-NPR के समर्थन में रिटायर्ड जज और ब्यूरोक्रेट्स ने राष्ट्रपति को लिखा पत्र         अनब्याही माँ : चपला के बहाने इतिहास को देखा          भारतीय पत्रकारिता को फफूंदी बनाने वाली पत्रकार यूनियनें..         ब्रिटेन और फ्रांस को पीछे छोड़ भारत बना दुनिया की पांचवीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था         ..विधायक बंधू तिर्की और प्रदीप यादव आज विधिवत कांग्रेस के हुए         मरता क्या नहीं करता !          14 साल बाद बाबूलाल मरांडी की घर वापसी, जोरदार स्वागत         जेवीएम प्रमुख बाबूलाल मरांडी भाजपा में हुए शामिल, अमित शाह ने माला पहनाकर स्वागत किया         भारत में महिला...भारत की जेलों में महिला....          अनब्याही माताएं : प्राण उसके साथ हर पल है,यादों में, ख्वाबों में         कराची में हिंदू लड़की को इंसाफ दिलाने के लिए सड़कों पर उतरे लोग         बेतला राष्ट्रीय उद्यान में गर्भवती मादा बाघ की मौत !अफसरों में हड़कंप         बिहार की राजनीति में हलचल : शरद यादव की सक्रियता से लालू बेचैन          सीएम गहलोत की इच्छा, प्रियंका की हो राज्यसभा में एंट्री !         अनब्याही माताएं : गीता बिहार नहीं जायेगी          तेंतीस करोड़ देवी-देवताओं के देश में यही होना है...         केजरीवाल माँडल अपनाकर हीं सफलता प्राप्त कर सकतीं हैं ममता बनर्जी         28 फरवरी को रांची आएंगे राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद         सत्ता पर दबदबा रखनेवाले जूना पीठाधीश्वर आचार्य महामंडलेश्वर से लेकर तमाम शंकराचार्यों की जमात कहां हैं?          यही प्रथा विदेशों में भी....         इतिहास, शिक्षा, साहित्य और मीडिया..         जालसाजी : विधायक ममता देवी के नाम पर जालसाज व्यक्ति कर रहा था शराब माफिया की पैरवी         वार्ड पार्षदों ने नप अध्यक्ष के द्वारा मनमानी किए जाने की शिकायत उपायुक्त से की         पुलवामा हमले की बरसी पर इमोशनल हुआ बॉलीवुड, सितारों ने ऐसे दी शहीदों को श्रद्धांजलि         बड़ी खबर : प्रदीप यादव के कांग्रेस में शामिल होते ही झारखंड की सरकार गिरा देंगे : निशिकांत         क्या सरदार पटेल को नेहरू ने अपनी मंत्रिमंडल में मंत्री बनाने से मना कर दिया था?एक पड़ताल         वैलेंटाइन गर्ल की याद !         राजनीति में अपराधियों की एंट्री पर सुप्रीमकोर्ट सख्त, चुनाव आयोग और याचिकाकर्ता को दिये जरूरी निर्देश         राजनीतिक पार्टियों को सुप्रीम कोर्ट का.निर्देश : उम्मीदवारों का क्रिमिनल रेकॉर्ड जनता से साझा करें         सभ्य समाज के मुँह पर तमाचा है दिल्ली की "गार्गी काँलेज" और "लेडी श्रीराम काँलेज" जैसी घटनाएं         पूर्वजो के शब्द बनते ये देशज शब्द        

इस धरती पर हक सबका है

Bhola Tiwari Jun 15, 2019, 9:46 AM IST टॉप न्यूज़
img

एस डी ओझा

इथोपिया अफ्रीका का दूसरा सबसे जनसंख्या वाला देश है. इस देश की साहित्यिक भाषा गीज कहलाती है. ईसाई धर्म के प्रादुर्भाव से पहले यहां के लोग प्रकृति पूजक थे. इथोपिया में ज्यादातर ईसाई मतावलम्बी हैं. कुछ मुस्लिम हैं, जो अरब से आए थे और ज्यादातर यहीं कन्वर्ट हुए. हिन्दू बहुत थोड़े हैं लगभग 0.2% ,जो ब्रह्मभट्ट कहलाते हैं. ब्रह्मभट्ट कहां से और कैसे आए -वह अतीत के गर्भ में है. यहां साहित्य के नाम पर बाईबिल है, जो कि गीज भाषा में लिखा हुआ है.

इथोपिया में तकरीबन 80 जनजातियां हैं, जिनमें से एक सूरी जनजाति है. सूरी जनजातियों की कुछ अनोखी दर्दनाक परम्पराएँ हैं. इस जनजाति की लड़कियों के बड़े होने पर उनके सामने के नीचे वाले दांत तोड़ दिए जाते हैं.निचले होंठ को काटकर उसे ठुड्डी के नीचे पहुंचा दिया जाता है. ये सब औरत के सुन्दरता को निखारने के नाम पर किया जाता है. किसी किसी औरत के होंठों में प्लेट फिट कर दी जाती है. प्लेट जितनी बड़ी होगी, उसी के हिसाब से दहेज में गायें मिलेगीं. इसलिए लड़की का बाप बड़ा से बड़ा प्लेट होंठों में समायोजित करने की कोशिश करता है. दहेज किसे मिले, पीड़ा कौन सहे ?

इथोपिया में मशीनी खेती होती है. भारत एक कृषि प्रधान देश है .इसलिए भारत के किसानों को वहां की सरकार ने कृषि के लिए आमंत्रित किया है. वे भारतीय कृषकों से उनके अनुभव का लाभ उठाना चाहते हैं. यह घोषणा वहां के कृषि मंत्री ने 2012 में की थी. अब तक पता नहीं कि कितने किसान अपने बहुमूल्य सुझाव लेकर वहां पहुंचे?

यह सर्व विदित है कि आदि मानव की उत्पति अफ्रीका में हुई थी. अफ्रीका से हीं हर जगह मानव की खेप पहुंची. इथोपिया में 28 लाख पुराना मानव जीवाश्म मिला है,जो इस बात का हीं द्दोतक है कि मानव की उत्पति व विकास की कहानी की शुरूआत अफ्रीका से हीं हुई थी.

इथोपिया का राष्ट्रीय दिवस 28 मई को मनाया जाता है. इस अवसर पर राष्ट्रपति महामहिम प्रणव मुखर्जी ने कहा है -" इथोपिया से भारत का मजबूत सम्बन्ध आपसी सम्मान और सूझ बूझ पर आधारित है. " दुनियां का सबसे पांचवा गरीब देश है इथोपिया. गरीबी की वजह से यहां के लोग मात्र 1850 कैलोरी हीं रोजाना ग्रहण कर पाते हैं, जबकि मानक के अनुसार औरत को 2000 और पुरूष को 2400 कैलोरी रोजाना ग्रहण करना नितान्त आवश्यक है.

इथोपिया में मनपसंद लड़की से शादी करने के लिए आपस में लट्ठबाजी होती है. जो जीता वही सिकंदर. दुल्हन उसकी, जिसकी ताकत सर चढ़कर बोले. इसमें दुल्हन की इच्छा अनिच्छा का सवाल हीं नहीं पैदा होता है. इथोपियाई लोग बहुत कम उम्र में गार्हस्थ जीवन में प्रवेश कर जाते हैं. 49% लड़कियां 18 साल से कम उम्र में विवाह की बलिवेदी पर चढ़ जाती हैं. यहां हर पांच में से एक लड़की की शादी कम उम्र में कर दी जाती है. 

इथोपिया के लोग फुटबाल व बास्केट बाल के दीवाने हैं. यहां "बुहे "उत्सव बड़े पैमाने पर मनाया जाता है. "बुहे "उत्सव मनाने के लिए घर घर जाकर ब्रेड मांगना पड़ता है. जुड़वे बच्चा पैदा होना यहां अपशकुन माना जाता है. अलग अलग तरीके से यहां काफी बनाई जाती है. यह बनाने वाले पर निर्भर करता है कि किस तरह की वह काफी बना सकता है.पसंद पीने वाली की भी पूछनी पड़ती है. किसी किसी काफी के बनाने में समय एक घंटा भी लग सकता है. 

इथोपिया में फिल्म का मतलब होता है -मदर इंडिया. मदर इंडिया का क्रेज आज 60 साल के बाद भी वही है, जो 60 के दशक में था. हांलाकि शाहरूख व सलमान के दीवाने भी यहां मिल जाएंगे, पर इथोपियावासियों के लिए मदर इंडिया सदाबहार फिल्म है. यहां बीर जारा, कुछ कुछ होता है, करन अर्जुन फिल्में भी खूब चलीं हैं . ये फिल्में गाजी भाषा के सब टाइटल के साथ दिखाईं जाती हैं . वैसे सब टाइटल न दिखाएं तो भी इथोपिया के लोग इन फिल्मों को देखेंगे, क्योंकि इनके वो दीवाने जो ठहरे. 

दो बार का अकाल झेल चुका इथोपिया करोड़ों मौतों का गवाह है. भूमध्य क्षेत्र के समुद्र के तापमान और वायुमंडलीय दबाव की परिस्थितियों में आए बदलाव के कारण इस साल भी करोड़ों इथोपियाई लोगों पर दुर्भिक्ष का संकट आसन्न है. उसके बाद होगा बचाव अभियान. राशन, कपड़े, दवाईयां बाटी जाएंगी. राहत शिविरों की तरफ जाता हुआ सूखी हड्डियों वाले बच्चे पर गिद्ध ललचाई दृष्टि से देखेगा और मीडिया उसका फोटो उतार बेपनाह पैसा कमाएगी. 

हम जिस आदम के बेटे हैं,

यह उस आदम का बेटा है.

कुछ पूरब पश्चिम का फर्क नहीं,

इस धरती पर हक सबका है.

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links