ब्रेकिंग न्यूज़
आशीर्वाद देना कृष्ण कि दुख आते रहें.....         राजा-महाराजा कैसे रख लेते थे कई पत्नियां, ये नुस्खे लेते थे काम         हंसना, गाना, नाचना, हुंकार और नमस्कार ही शिव पूजा की असली विधि         महाशिवरात्रि पर प्राकृतिक छिद्र वाला रूद्राक्ष धारण करने से नहीं रहता है धन-धान्य का अभाव         महाशिवरात्रि पर इस मंदिर में एक करोड़ पार कर जाएगी शिवलिंगों की संख्या क्योंकि दो लाख….         BIG NEWS : जम्मू कश्मीर सरकार का बड़ा फैसला, पुलिस आईजी और प्रशासनिक सचिवों के बराबर होगा डीडीसी अध्यक्षों का कद         BIG NEWS : POK और गिलगित बल्तिस्तान पर 1947 से पाकिस्तान का अवैध कब्जा : शौकत अली कश्मीरी         उत्तर प्रदेश में पकड़ा गया मुर्दों को लूटने वाला गिरोह, हजारों मुर्दों को लूट चुका है         BIG NEWS : बिहार के खगड़िया में सरकारी स्कूल की दीवार ढही, 10 से ज्यादा लोग दबे, अब तक छह की मौत         BIG NEWS : ममता को बड़ा झटका, सरला मूर्मू समेत टीएमसी के पांच विधायक भाजपा में शामिल         BIG NEWS : अपनी पार्टी के अध्यक्ष अल्ताफ बुखारी ने माना – “वह चाहकर भी अनुच्छेद 370 और 35 ए को बहाल नहीं कर सकते हैं”         BIG NEWS : रांची में मॉब लिंचिंग         BIG NEWS : एंटीलिया मामले की जांच करेगी NIA, विस्फोटकों से भरी वाहन खड़ी मिली थी         GOOD NEWS : अनंतनाग में सालों पहले आतंकियों ने जिस बस स्टैंड को जलाया था, सेना ने उसे बनाया स्ट्रीट लाइब्रेरी         सबूत नहीं होने के बावजूद गधों को क्यों खा रहा है आंध्र प्रदेश ? ये है इस सवाल का जवाब         BIG NEWS : ऐसी है भारत के आराध्य की महिमा: उत्तर ही नहीं पूर्वोत्तर और दक्षिण भारत से भी छप्पर फाड़ दान मिला         शिवलिंग पर सिर्फ जल चढ़ाने से इसलिए प्रसन्न हो जाते हैं शिव         महाशिवरात्रि विशेष: महादेव क्यों कहलाते हैं भगवान शिव, ये है इसका जवाब         शिवलिंग की आकृति का गलत अर्थ निकालने वालों की आंखें खोल देगा ये राज         BIG NEWS : कश्मीरी युवाओं को आतंकी बनाने वाला प्रोफेसर गिरफ्तार         BIG NEWS : पीएम नरेंद्र मोदी ने 7,500वें जन औषधि केंद्र का किया उद्घाटन, कहा –“गरीबों को सस्ती दवा के साथ-साथ युवाओं को मिला रोजगार का अवसर”         BIG NEWS : चौतरफा दबाव में इमरान खान, कहा- पाकिस्तान में निष्पक्ष चुनाव कराने के लिए EVM की शुरुआत करेगी सरकार         मोदी का ऐलान, इस बार जोर से छाप, TMC साफ         BIG NEWS : पीएम नरेंद्र मोदी ने भरी हुंकार- अब होगा ‘असल पोरिवर्तन’         BIG NEWS : कोलकाता के ब्रिगेड ग्राउंड में खेला होबे         BIG NEWS : जम्मू कश्मीर में रोहिंग्याओं के खिलाफ अब तक की सबसे बड़ी कार्रवाई, करीब 155 अवैध रोहिंग्याओं को किया गया जेल में शिफ्ट         BIG NEWS : जम्मू कश्मीर में आतंकियों को हथियार मुहैया कराने पहुंचे यूपी के दो युवक गिरफ्तार, पूछताछ जारी         BIG NEWS : पाकिस्तान में हिंदू परिवार के पांच लोगों की गला रेतकर निर्मम हत्या, घर के अंदर मिली लाशें         BIG NEWS : POK के सियासी दलों ने किया बड़ा ऐलान, कहा- “हमें पाकिस्तान के साथ नहीं रहना, हम पीओके निवासी भारत में होंगे शामिल”         BIG NEWS : IIT जम्मू ने सेना की उत्तरी कमान और उच्च शिक्षा विभाग के साथ किया समझौता, सैन्य ताकत बढ़ाने के लिए होगा नए तकनीक का इस्तेमाल         BIG NEWS : अंबानी के घर के बाहर कार में विस्फोटक : दाल में कुछ काला है         BIG NEWS : रियासी में गिरफ्तार आतंकवादी ने किया खुलासा, सुरक्षाबलों ने हथियारों का जखीरा किया बरामद         BIG NEWS : महबूबा मुफ्ती को ED ने मनी लॉन्ड्रिंग मामले में भेजा समन, 15 मार्च को होगी पूछताछ         अंबानी धमकी मामले में आया नया ट्विस्ट : जिस स्कार्पियो में रखा था विस्फोटक, उस गाड़ी के मालिक की मिली लाश         CBSE Exam Date Sheet 2021: 10वीं और 12वीं क्लास की परीक्षा कार्यक्रम में हुआ बदलाव, ये है नया शेड्यूल          BIG NEWS : टीएमसी ने 291 उम्मीदवारों की लिस्ट जारी की, ममता बनर्जी नंदीग्राम सीट से लड़ेंगी चुनाव         BIG NEWS : जम्मू कश्मीर के नए सरकारी कर्मचारियों को निर्देश, वेतन-भत्ते पाने से पहले सीआईडी से मंजूरी लेना अनिवार्य         BIG NEWS : अमेरिका ने LOC के जरिए आतंकवादियों के घुसपैठ के प्रयासों की निंदा, कहा – “संघर्ष विराम समझौते का पालन होना सराहनीय”         BIG NEWS : कुपवाड़ा में पुलिस के जवानों पर ग्रेनेड हमला, सर्च ऑपरेशन जारी         दुआओं में याद रखना         BIG NEWS : बंगाल में पीएम मोदी की रैली में शामिल हो सकते हैं सौरभ गांगुली !         BIG NEWS : सेना ने सोपोर में शुरू किया सामुदायिक रेडियो स्टेशन, लेफ्टिनेंट जनरल बीएस राजू ने कहा – “यह रेडियो स्टेशन शांति और विकास के लिए समर्पित”         कहां जाते हैं 1200 करोड़ अमेरिकी डॉलर के फूल, जानिए इस सवाल का जवाब         महाशिवरात्रि विशेष: डमरू की कर्णभेदी ध्वनि से नचाते हैं संसार, इसलिए कहलाते हैं नटराज         BIG NEWS : पाकिस्तान के पूर्व पीएम यूसुफ़ रज़ा गिलानी की जीत से डरे इमरान खान करेंगे विश्वासमत का सामना, विपक्ष ने मांगा इस्तीफा         BIG NEWS : भाजपा ने खेला बड़ा दांव, 'मेट्रो मैन' को बनाया यहां का मुख्यमंत्री उम्मीदवार, जानिए कौन है ये         परिसीमन आयोग का कार्यकाल एक साल के लिए बढ़ा, केंद्र सरकार ने अधिसूचना की जारी         BIG NEWS : चाईबासा में नक्सली हमला, विस्फोट में तीन जवान शहीद, दो घायल         BIG NEWS : मोबाइल फोन से बहरेपन के शिकार हो रहे हैं देश के लोग, लगातार बढ़ रही है इनकी संख्या         BIG NEWS : पश्चिम सिंहभूम में आईईडी बम धमाका, दो जवान शहीद, तीन घायल, एयरलिफ्ट से भेजे गए रांची         BIG NEWS : राहुल गांधी ने पाकिस्तानी मदरसों से की RSS की तुलना, सोशल मीडिया पर यूजर्स ने जमकर लगाई लताड़, बताया ‘मूर्ख’         BIG NEWS : जम्मू कश्मीर में अवैध रूप से रहने वाले रोहिंग्या मुसलमानों को वापस भेजने की कवायद तेज, सभी जिलों में सत्यापन का काम जारी         BIG NEWS : चीनी साइबर हमले का मतलब एक कोड से हैकर के इशारों पर नाचने लगता है सिस्टम         BIG NEWS : भारत के पीछे हटते ही पाकिस्तान को मिला खजाना भरने का मौका !         महाशिवरात्रि: पूरे साल पूजा का फल देता है इस दिन का उपवास         BIG NEWS : सिंध विधानसभा में पीएम इमरान खान की पार्टी के विधायकों ने की मारपीट, कई विधायक जख्मी         झारखंड बजट : जो आपके लिए जानना बेहद जरूरी है बजट की 10 बड़ी बातें         BIG NEWS : मनरेगा मजदूरी 194 से बढ़ाकर 225 रुपये, मजदूरों और किसानों पर फोकस, जानें बजट की बड़ी बातें...         BIG NEWS : इसलिए भट्ठी की तरह तपी फरवरी क्योंकि ठंड को खा गया “ला नीनो”         BIG NEWS : अवंतीपोरा में मिला सक्रिय आतंकी ठिकाना, सुरक्षाबलों ने किया ध्वस्त        

नरपिशाच था युगांडा का तानाशाह ईदी अमीन

Bhola Tiwari Jan 25, 2021, 8:54 AM IST कॉलमलिस्ट
img


अजय श्रीवास्तव

नई दिल्ली : घटना 25 जनवरी 1971 की है,युगांडा के राष्ट्रपति मिल्टन ओबोटे राष्ट्रमंडल की बैठक में शामिल होने सिंगापुर गए हुए थे।इधर ओबोटे का खासमखास सेनाध्यक्ष ईदी अमीन तख्तापलट कर अपने आप को युगांडा का राष्ट्रपति घोषित कर दिया।ये पूरी कार्रवाई रक्तहीन थी क्योंकि मिल्टन ओबोटे ने जनता और सेना दोनों का विश्वास खो दिया था।पश्चिमी देश भी ओबोटे की नीतियों से नाराज थे और उनका सोवियत संघ के प्रति झुकाव भी अमेरिकी,ब्रिटेन,इजरायल आदि देशों को नाराज कर दिया था।युगांडा में तो सडकों पर जश्न मना और ईदी अमीन की जयजयकार होने लगी थी।ब्रिटेन ने तो ईदी अमीन के हाथों में सत्ता आने को यूं देखा जैसे युगांडा का निजाम दोबारा उनके हाथ में आ गया है।ईदी अमीन की सरकार को मान्यता देने में ब्रिटेन अव्वल था मगर कई अफ्रीकी देशों ने इस तख्तापलट का पुरजोर विरोध किया था।नये राष्ट्रपति ईदी अमीन का बकिंघम पैलेस में एक राजा की तरह स्वागत किया गया मगर थोड़े हीं दिनों में पश्चिम के देशों को ये एहसास हो गया कि उन्होंने गलत घोड़े पर दाव लगाया है।

आपको बता दें भारत की तरह युगांडा भी ब्रिटेन का एक उपनिवेश था।09 अक्टूबर 1962 को युगांडा एक स्वतंत्र देश बना।मिल्टन ओबोटे वहाँ के शासक बने मगर उनके कार्यकाल में युगांडा में भ्रष्टाचार अपने चरम पर पहुंच गया था।देश में अराजकता का माहौल था,तमाम कबीले को शिकायत थी कि उनके साथ भेदभाव हो रहा है,उनपर जुल्म किये जा रहे हैं।युगांडा में विभिन्न कबीलों के पास हीं सत्ता की चाभी रहती है,वे जिसे चाहते हैं वही राष्ट्रपति बनता है।ऐसा नहीं है कि ओबोटे को जनता के रोष का इल्म न था मगर अहंकार में मदमस्त तानाशाह राष्ट्रपति को अपने सेनाध्यक्ष ईदी अमीन पर पूरा विश्वास था।उन दिनों राष्ट्रपति के बाद सेनाध्यक्ष हीं सबसे ताकतवर माना जाता था।जनरल ईदी अमीन को उन्होंने हीं आगे बढ़ाया था।

नीम सनकी शासक ईदी अमीन का जन्मदिन सन् 1925 के आसपास कोबोको में हुआ था।वो इस्लाम को मानने वाले काकवा जनजाति से ताल्लुक रखते थे।कहा जाता हैं कि जब वो गोद में थे तभी उनके पिता ने उनकी माँ से ताल्लुकात खत्म कर लिये थे।वे बेहद कम पढे लिखे थे।साल 1946 के आसपास युगांडा में सेना में भर्ती का अभियान चलाया जा रहा था,कुछ लोगों का मानना है कि अमीन को उनकी डीलडौल को देखकर सेना में जबर्दस्ती भर्ती कराया गया।कम पढे लिखे होने के कारण उनकी नियुक्ति सहायक रसोइए के रूप में हुई।सन् 1959 में वे वारंट अधिकारी क्या बने फिर पीछे मुड़कर नहीं देखा।वे बेहतरीन बाँक्सर और तैराक थे।लगातार दस साल तक वे हैवीवेट बाँक्सिंग चैंपियन रहे थे।उन दिनों सेना में खेल को खूब प्रोत्साहित किया जाता था और वे नित्य नई ऊँचाइयों को छूने लगे थे।युगांडा की आजादी के बाद मिल्टन ओबोटे की नजर 6"4' लंबे और 125 किलो वजनवाले ईदी अमीन पर पडी और वे उन्हें आगे बढाते रहे और एक दिन उन्हें युगांडा का सेनाध्यक्ष नियुक्त कर दिया।

युगांडा का नया तानाशाह ईदी अमीन अपने पूर्वर्ती राष्ट्रपति मिल्टन ओबोटे से बहुत खूंखार था।उसने अपने विरोधियों को चिन्हित कर उनकी हत्या करवानी शुरू कर दी।एक अनुमान के मुताबिक उन्होंने तकरीबन छह लाख निर्दोष नागरिकों की बलि ली थी।उनके ऊपर मानव माँस का भक्षण करने के भी आरोप लगे थे।उन्हें मानव खून पीने की लत लग गई थी,ऐसा लोगों का मानना था।अमीन ने छह शादियां की और उनसे लगभग 45 बच्चे हुए।वो इतना बडा अय्याश था कि जो भी लडकी उसे पसंद आ जाती थी,उसे उसके हरम में शामिल कर लिया जाता था।

कहा जाता है कि जब वह सत्तारूढ़ हुआ तो लीबिया के तानाशाह कर्नल गद्दाफी ने उन्हें सलाह दी कि देश पर उनकी पकड़ तब मजबूत हो सकती है,जब वो उसकी अर्थव्यवस्था पर अपना पूरा नियंत्रण कर लें।उन्होंने एक सलाह और दे डाली की जिस तरह उन्होंने अपने देश से इटालियंस से पिंड छुड़ाया है,उसी तरह वो भी एशियाइयों से अपना पिंड छुडाएं।एक तानाशाह को दूसरे तानाशाह की बात जम गई और उसने 04 अगस्त,1972 को सैनिक अधिकारियों को संबोधित करते हुए कहा कि अल्लाह ने उनसे कहा है कि वो सारे एशियाइयों को युगांडा से तत्काल बाहर निकाल दें।उन्होंने आगे कहा कि एशियायी लोगों ने देश को लूटने का काम किया है,वे देश के मूल नागरिकों से मेलजोल नहीं रखते हैं।

युगांडा सरकार ने एक आदेश जारी कर संपूर्ण एशियायी लोगों को 90 दिन के अंदर देश से जाने को कह दिया और शर्त लगा दी कि कोई भी व्यक्ति अपने साथ केवल 55 पाउंड और 250 किलो सामान ले जा सकता है।इससे ज्यादा होने पर विधिक कार्रवाई कर सब कुछ जब्त कर लिया जाएगा।उन दिनों युगांडा में अधिकांश लोग भारतीय मूल के थे और वे गुजराती थी।

गौरतलब है कि 19 वीं सदी के आखिर में अंग्रेजों ने पूर्वी अफ्रीका के एक बड़े हिस्से पर अपना उपनिवेश कायम कर लिया था।युगांडा में प्राकृतिक संपदा की भरमार थी और अंग्रेज उसका दोहन करना चाहते थे।सन् 1800 में अंग्रेजों ने मोम्बासा से किसुम तक रेलवे लाइन डालने का विचार किया।रेललाइन के निर्माण से व्यवसाय में बहुत सहुलियत हो जाती।रेल लाइन निर्माण का ठेका गुजरात के बडे अनुभवी ठेकेदार अली भाई मुल्ला जीवणजी की कंपनी को दिया गया।अली भाई गुजरात से हजारों मजदूरों को लेकर युगांडा गए और बहुत से गरीब मजदूर रोजगार की लालच में वहीं बस गए।

गुजरात के लोगों के खून में बिजनेस होता है और थोड़े हीं दिनों में उन लोगों ने युगांडा में अपना व्यवसाय फैला लिया।हर क्षेत्र में गुजरातियों का बोलबाला था और बिजनेस की अपार संभावनाओं को देखकर उन्होंने अपने बहुत सारे रिश्तेदारों को भी वहाँ बुला लिया।इन एशियाइयों को अंग्रेजों का पूरा समर्थन मिला हुआ था।इन लोगों के स्कूल,पिक्चर हाँल और रेस्तरां अलग थे और वहाँ युगांडा के लोगों को जाने की मनाही थी।शाम के समय युगांडा के लोगों को बाजार घुमने की मनाही थी क्योंकि उस समय गोरे और भूरे साहब लोग बाजार घुमने निकलते थे।

अपने दंभ में मशगूल गुजरातियों ने कभी वहाँ के मूल वाशिंदों से मिलने जुलने की कोशिश नहीं की,यही वजह है कि वहाँ के लोग इन लोगों से नफरत करते थे।ईदी अमीन के इस निर्णय का वहाँ के लोगों ने दिल खोलकर स्वागत किया।युगांडा के 1% एशियायियों के पास 20% संपत्ति थी,जिससे वहाँ के लोग चिढ़ते थे।युगांडा के आजाद के बाद सभी एशियायियों को ये चिंता सताने लगी थी कि अब उनका भविष्य संदेह के घेरे में है।

तयशुदा समय पर एशियायी युगांडा छोड़कर जाने लगे।साठ हजार लोगों में से 29,000 लोगों ने ब्रिटेन में शरण ली।उनके पास ब्रिटिश पासपोर्ट थे और उन्होंने वहाँ व्यवसाय कर अपने आप को फिर से स्थापित कर लिया।लगभग 11000 लोग भारत लौट आएं,क्योंकि उनके पास ब्रिटिश पासपोर्ट नहीं था।युगांडा की अर्थव्यवस्था पहले से हीं चरमराई थी,एशियायियों के वापस आने से पूरी तरह बैठ गई।लोग खाने के लिए तरसने लगे थे।1979 में जनता के रोष को देखकर तंजानिया और अमीन विरोधी युगांडा सेना ने तानाशाह ईदी अमीन का तख्तापलट कर दिया।ईदी अमीन देश छोड़कर भाग गए और उन्होंने लीबिया में शरण ली।थोडे दिनों बाद ये खबर मिली की ईदी अमीन सऊदी अरब में बस गए हैं।गुमनामी की जिंदगी जी रहे तानाशाह ईदी अमीन की मृत्यु 2003 में 78 वर्ष की आयु में हो गई।

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links