ब्रेकिंग न्यूज़
BIG NEWS : पाकिस्तान में अलग सिंधुदेश बनाने की मांग तेज, पीएम नरेंद्र मोदी की तस्वीर लेकर सड़क पर उतरे प्रर्दशनकारी         BIG NEWS : औरंगाबाद शहर का नाम बदलने को लेकर शिवसेना और कांग्रेस आमने-सामने         BIG NEWS : किसान आंदोलन, सुप्रीम कोर्ट में आज की सुनवाई पर नजर         BIG NEWS : पीएम मोदी ने देश के विभिन्‍न हिस्‍सों से केवड़िया को जोड़ने वाली 8 ट्रेनों को दिखाई हरी झंडी         BIG NEWS : जम्मू कश्मीर में भटके युवाओं को वापसी का मौका दे रही है सेना, बीते 6 माह में 17 आतंकियों ने किया सरेंडर - लेफ्टिनेंट जनरल बीएस राजू         BIG NEWS : सोपोर में फर्जी लश्कर-ए-तैयबा मॉड्यूल का भंडाफोड़, इमाम समेत तीन गिरफ्तार         BIG NEWS : त्राल में आतंकियों के 5 मददगार गिरफ्तार, चिपकाए थे धमकी भरे पोस्टर         BIG NEWS : भर आई पीएम मोदी की आंखें, सैकड़ों साथी घर लौटकर नहीं आए, आज कोरोना से निपटने में देश सक्षम         हार्वर्ड ने बुलाया नहीं और एनडीटीवी ने पट नहीं खोला ...         BIG NEWS : जम्मू कश्मीर में कोरोना के खिलाफ टीकाकरण की हुई शुरुआत, 100 स्वास्थ्य कर्मियों को लगी वैक्सीन         BIG NEWS : घाटी में आतंक के खिलाफ कार्रवाई जारी, कुपवाड़ा में एक सक्रिय आतंकी ठिकाना ध्वस्त, हथियार बरामद         नया भारत आर्य-अनार्य की संघर्ष भूमि न बने ...         भाजपा और ओवैसी दोनो के चारों हाथों में लड्डू..         BIG NEWS : बवाल के बाद होश में आया व्हाट्सएप, प्राइवेसी पॉलिसी अपडेट को किया स्थगित         BIG NEWS : देशभर में आज से लगेगा कोरोना का टीका         किसान आंदोलन और राहुल गांधी         BIG NEWS : पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव के पहले मनोवैज्ञानिक बढ़त हासिल कर ली है भाजपा ने         BIG NEWS : सेना दिवस पर सेनाध्यक्ष एमएम नरवणे ने कहा – “जवानों का बलिदान हमेशा याद रखा जाएगा”         BIG NEWS : चीन को लगा बड़ा झटका, अमेरिका ने Xiaomi समेत 9 चीनी कंपनियों को किया ब्लैक लिस्ट         BIG NEWS : पाकिस्तान की बेइज्जती, मलेशिया ने कर्ज ना चुकाने पर विमान जब्त कर यात्रियों को उतारा         BIG NEWS : जम्मू-कश्मीर में 270 से अधिक आतंकवादी अब भी सक्रिय, कार्रवाई जारी         BIG NEWS : कोरोना वायरस की उत्पत्ति का पता लगाने के लिए चीन पहुंची WHO की टीम, वुहान शहर से शुरू की जांच         सुप्रीमकोर्ट के निर्णय से क्यों असहमत हैं "अन्नदाता"?         BIG NEWS : कठुआ में अंतरराष्ट्रीय बॉर्डर पर BSF को फिर मिली सुरंग, घुसपैठ के लिए इस्तेमाल करते थे आतंकी         BIG NEWS : श्रीनगर में लश्कर-ए-तैयबा के 2 आतंकी सहयोगी गिरफ्तार, हथियार बरामद         BIG NEWS : कनाडा के MP ने पीएम नरेंद्र मोदी की तारीफ, कहा – भारत सरकार द्वारा कश्मीरी पंडितों की घर वापसी की योजना सराहनीय कदम         BIG NEWS : भारत बायोटेक की कोवैक्सिन की भी डिलीवरी शुरू, रांची समेत 11 शहरों में पहली खेप भेजी         BIG NEWS : जम्मू कश्मीर में पुलिस की बड़ी कार्रवाई, साइबर क्राइम के आरोप में 23 गिरफ्तार         BIG NEWS : महबूबा मुफ्ती ने फिर अलापा अनुच्छेद 370 का राग, कहा – “गुपकार गठबंधन छोटे चुनावी फायदों के लिए नहीं बल्कि जम्मू कश्मीर के विशेष दर्जे के लिए है”         सुप्रीम कोर्ट के प्रस्ताव को सरकार मानेगी, तो किसान क्या करेंगे ?         BIG NEWS : ट्रांजिट रिमांड पर भेजे गये पीडीपी नेता वहीद पारा और मुख्तियार अहमद , पूछताछ जारी         BIG NEWS : पाकिस्तान और चीन देश के लिए सबसे बड़ा खतरा, हर खतरे से निपटने के लिए सेना तैयार – सेना प्रमुख एमएम नरवणे         BIG NEWS : सुप्रीम कोर्ट ने तीनों कृषि कानूनों के अमल पर लगाई रोक, चार सदस्यों की बनाई कमेटी         BIG NEWS : रुबिया सईद अपहरण मामले में यासीन मलिक समेत नौ को आरोपी बनाया         BIG NEWS : कोरोना वैक्सीन सीरम इंस्टीट्यूट पुणे से रवाना         BIG NEWS : लद्दाख की भीषण ठंड थर थर कांपने लगे चीनी सैनिक, 10 हजार सैनिकों को LAC से हटाया         अच्छा सुनिए !         BIG NEWS : भूकंप के झटकों से हिली जम्मू-कश्मीर की धरती, रिक्टर पैमाने पर तीव्रता 5.1, सहम उठे लोग         BIG NEWS : झारखंड में बर्ड फ्लू ! कागजी घोड़ा दौड़ा रही है झारखंड की सरकार         BIG NEWS : PM मोदी ने मुख्यमंत्रियों से कहा, हमारी वैक्सीन दुनिया में सबसे किफायती         BIG NEWS : किसान आंदोलन पर केंद्र के रवैये से सुप्रीम कोर्ट 'निराश', कहा- आप कानून होल्ड करेंगे या हम करें ?         BIG NEWS : किसानों के मुद्दे पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई, क्या है पूरा मामला        

गङ्गा माई के ऊँची अररिया...

Bhola Tiwari Jan 14, 2021, 9:10 AM IST कॉलमलिस्ट
img


सर्वेश तिवारी श्रीमुख

गोपालगंज : गङ्गा! वही ममतामयी माता जिनके आगे माथा पटक कर भारत की अपढ़ आस्थावान माताएं युगों युगों तक सन्तान मांगती रही हैं। सन्तान ही क्यों, सुख समृद्धि घर-वर सबकुछ... गङ्गा से भारत का सबसे बड़ा परिचय सर्वफलप्रदायिनी माता के रूप में है।

   सरस्वती के तट पट बसी संस्कृति जब नदी के सूखने पर पूर्व की ओर पलायित हुई तो कोसों चलने के बाद जीवन का एक निर्मल स्रोत दिखा। दरिद्रता, भूख और मृत्यु से हार कर भागती संस्कृति एकाएक जी उठी और भीड़ के मुँह से समवेत स्वर निकला, माँ... आँखों में उतर आए जल के साथ उस भीड़ ने नतमस्तक हो कर प्रणाम किया, और नाम दिया गङ्गा... गङ्गा मइया...

     जब किसी बच्चे से कोई गलती हो जाय और वह माँ के आँचल में छिप कर उससे बता दे तो उसे लगता है कि अब माँ बचा लेगी। वह मुक्त हो जाता है। गङ्गा में पाप धोने की अवधारणा के पीछे भी शायद यही तर्क रहा होगा। गङ्गा पूरी सभ्यता की माँ है। उस माँ की गोद मे खड़े हो कर बेटा अपनी गलतियों को स्वीकार कर ले और सच्चे हृदय से प्रायश्चित कर ले तो मुक्त हो ही जायेगा। कम से कम मन को तो शान्ति मिल ही जाएगी।

     जाने कितनी पीढ़ियों ने गङ्गा के जल में अपने अपराध धोए हैं। जीवन के साथ भी, जीवन के बाद भी... जाने कितनी पीढ़ियों की अस्थियां संग्रहित हैं उस पवित्र गोद में... मेरे बाबा कहते थे, गङ्गा में अस्थि विसर्जन का एक लाभ यह भी है कि मृत्यु के बाद भी मां की गोद मिल जाती है। साथ ही साथ मृत्यु के बाद व्यक्ति का अवशेष अपने समस्त पूर्वजों से अवशेषों से मिल जाता है, और उसके बच्चे भी अपने समस्त पूर्वजों को एक ही साथ महसूस कर लेते हैं। कभी गङ्गा स्नान को जाइये तो उस अथाह जलधारा को इस दृष्टि से भी देखिये कि उसकी गोद में आपके समस्त पूर्वजों की अस्थियां हैं। मैं जानता हूँ, आप रो उठेंगे।

      गङ्गा की गोद में केवल जल नहीं, धर्म बहता है। सम्पूर्ण सनातन बहता है, पूरा भारत बहता है। गङ्गा को प्रणाम करना सम्पूर्ण सनातन को प्रणाम करना है।

      गङ्गा मैया भारत के समस्त दुख-सुख की एकमात्र साक्षी हैं। उन्होंने अपने तट पर विश्व के कल्याण के लिए तपस्या करते सन्तों को भी देखा है, और अपने जल में तलवारों का खून साफ करते अरबी लुटेरों को भी... गङ्गा ने विश्वनाथ मंदिर को तोड़ती डायन रजिया सुल्तान को भी देखा है, और मन्दिर निर्माण करने वाली महारानी अहिल्याबाई होलकर को भी... वो सब जानती हैं। तभी तो पूरी सभ्यता की माँ हैं...


      कभी बनारस में गङ्गा मइया के तट पर बैठ कर पण्डितराज जगन्नाथ शास्त्री ने गङ्गा की सबसे सुंदर स्तुति लिखी थी, गंगालहरी... मैं संस्कृत नहीं समझ पाता, पर मेरी मातृभाषा भोजपुरी में हजारों वर्षों से माताएं गङ्गा मइया के गीत गाती रही हैं। गंगालहरी और उन लोकगीतों की भाषा और शैली में भले अंतर हो, पर उनके रचनाकारों की आस्था और भावनाओं में कोई अंतर नहीं होगा... गङ्गा को सबने अपनी माँ की तरह ही पूजा होगा।

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links