ब्रेकिंग न्यूज़
कब होगी जनादेश से जड़ों की तलाश          'नसबंदी का टारगेट', विवाद के बाद कमलनाथ सरकार ने वापस लिया सर्कुलर         पीढ़ियॉं तो पूछेंगी ही कि गाजी का अर्थ क्या होता है?         मातृ सदन की गंगा !         ओवैसी की सभा में महिला ने पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे लगाए         एक बार फिर चर्चा में हैं सामाजिक कार्यकर्ता "तीस्ता सीतलवाड़",शाहीनबाग में उन्हें औरतों को सिखाते हुए देखा गया         कनपुरिया गंगा, कनपुरिया गुटखा, डबल हाथरस का मिष्ठान और हरजाई माशूका सी साबरमती एक्सप्रेस..         शाहीन बाग में वार्ता विफल : जिस दिन नागरिकता कानून हटाने का एलान होगा, हम उस दिन रास्ता खाली कर देंगे         फ्रांस में विदेशी इमामों और मुस्लिम टीचर्स पर प्रतिबंध         'राष्ट्रवाद' शब्द में हिटलर की झलक, भारत कर सकता है दुनिया की अगुवाई : मोहन भागवत         आतंकवाद के खिलाफ चीन ने पाकिस्तान का साथ छोड़ा         दिमाग में गोबर, देह पर गेरुआ!          त्राल में सुरक्षाबलों ने तीन आतंकियों को मार गिराया         CAA-NRC-NPR के समर्थन में रिटायर्ड जज और ब्यूरोक्रेट्स ने राष्ट्रपति को लिखा पत्र         अनब्याही माँ : चपला के बहाने इतिहास को देखा          भारतीय पत्रकारिता को फफूंदी बनाने वाली पत्रकार यूनियनें..         ब्रिटेन और फ्रांस को पीछे छोड़ भारत बना दुनिया की पांचवीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था         ..विधायक बंधू तिर्की और प्रदीप यादव आज विधिवत कांग्रेस के हुए         मरता क्या नहीं करता !          14 साल बाद बाबूलाल मरांडी की घर वापसी, जोरदार स्वागत         जेवीएम प्रमुख बाबूलाल मरांडी भाजपा में हुए शामिल, अमित शाह ने माला पहनाकर स्वागत किया         भारत में महिला...भारत की जेलों में महिला....          अनब्याही माताएं : प्राण उसके साथ हर पल है,यादों में, ख्वाबों में         कराची में हिंदू लड़की को इंसाफ दिलाने के लिए सड़कों पर उतरे लोग         बेतला राष्ट्रीय उद्यान में गर्भवती मादा बाघ की मौत !अफसरों में हड़कंप         बिहार की राजनीति में हलचल : शरद यादव की सक्रियता से लालू बेचैन          सीएम गहलोत की इच्छा, प्रियंका की हो राज्यसभा में एंट्री !         अनब्याही माताएं : गीता बिहार नहीं जायेगी          तेंतीस करोड़ देवी-देवताओं के देश में यही होना है...         केजरीवाल माँडल अपनाकर हीं सफलता प्राप्त कर सकतीं हैं ममता बनर्जी         28 फरवरी को रांची आएंगे राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद         सत्ता पर दबदबा रखनेवाले जूना पीठाधीश्वर आचार्य महामंडलेश्वर से लेकर तमाम शंकराचार्यों की जमात कहां हैं?          यही प्रथा विदेशों में भी....        

और डॉलर बरसे तो क्या बात है !

Bhola Tiwari Jun 14, 2019, 6:18 AM IST टॉप न्यूज़
img

प्रवीण झा

(जाने माने चिकित्सक नार्वे)

मुझे भी औरों की तरह तलब हुई कि दुनिया का सबसे आरामदेह काम करूँ। जॉनी वाकर शराब की लॉन्चिंग में आरिफ जकारिया आए थे। उन्होंने कहा कि उनका परिवार शराब जाँचने में प्रवीण (expert) है। हालांकि वो अभिनेता भी थे, लेकिन वह और उनके भाई शराब चख कर बताते कि अच्छी है या बुरी। मुझे लगा कि यही काम करना चाहिए, फिर लोगों ने चेताया कि डॉक्टरी के साथ यह अंतर्द्वंद्व वाला कार्य है। 

अब एक परिजन चाय चखने का कार्य करते थे, वो भी बिहार में। दार्जिलिंग से चायपत्तियाँ आती, चख कर बताना होता, कैसी है। वृद्ध थे और चाय चखने में दक्ष। दशकों से चख रहे थे। उन्होंने पास किया तो पास, नहीं तो फ़ेल। हाल में पता लगा कि एक उससे भी बढ़िया नौकरी है बेड जाँचने की। उसमें गद्देदार बिस्तरों पर घंटों सोना है, और बताना है कैसा लगा? मतलब सुबह ऑफ़ीस आइए और घुलट-पुलट कर गद्दों पर सोइए। कभी इस गद्दे पर, कभी उस गद्दे पर।

एक कोरियन मित्र ने कहा कि उनके देश में विडियो गेम खेलना भी एक नौकरी है। सुबह से शाम तक बस खेलना है और जाँच करनी है कि खेल अच्छा है या नहीं। एक बंगाली दादा थे पुणे की ऑटोमोबाइल टेस्टिंग में। उनका (विभाग का) काम था भारत की तमाम नयी गाड़ीयों को तोड़ना। बड़ी-बड़ी मशीनों से गाड़ियाँ तोड़ते और देखते कि गाड़ी की बॉडी में दम कितना है। कहते कि उनको गाड़ियों को देखते ही तोड़ने की इच्छा होती है। गाड़ी के जल्लाद! वाह! 

खैर, सुना है दुनिया के सबसे आरामदेह कार्यों में स्वतंत्र लेखन भी है। लेकिन उसके लिए रस्किन बॉन्ड सरीखा लेखक हो कि पहाड़ों में बैठ चाय पीते कलम घसे, और डॉलर बरसे तो क्या बात है!

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links