ब्रेकिंग न्यूज़
BIGNEWS : “जस्टिस डिलेड बट डिलिवर्ड” फिल्म के निर्देशक ने कहा – “अनुच्छेद 370 के निरस्त होने के बाद जम्मू के दबे-कुचले लोगों को उनके अधिकार मिले”         BIG NEWS : आतंकी ठिकाना नष्ट, भारी मात्रा में गोला-बारूद बरामद         BIG NEWS : लालू से मिलने फिर रिम्स पहुंची राबड़ी और मीसा, दिल्ली या मुंबई शिफ्ट हो सकते हैं RJD सुप्रीमो         BIG NEWS : भारत ने भेजी वैक्सीन, ब्राजीली राष्ट्रपति ने संजीवनी ले जाते हनुमान जी की तस्वीर ट्वीट कर कहा धन्यवाद!         BIG NEWS : जम्मू-कश्मीर में 11 महीने बाद पहली फरवरी से खुलेंगे स्कूल         पीएम मोदी का बंगाल दौरा : पराक्रम दिवस के मौके पर बंगाल में नेताजी भवन जाएंगे प्रधानमंत्री; असम में 1.06 लाख लोगों को बांटेंगे जमीन का पट्टा         BIG NEWS : आर्थिक संकट से जूझ रहा पाकिस्तान, इमरान खान ने फिर लिया 416 हजार करोड़ रुपये का कर्ज         BIG NEWS : ममता बनर्जी के मंत्रिमंडल से एक और मंत्री ने दिया इस्तीफा         BIG NEWS : केंद्र सरकार और आंदोलनकारी किसानों के बीच वार्ता विफल, कृषि मंत्री बोले- जो प्रस्ताव दिया उससे बेहतर कुछ नहीं         भजन सम्राट नरेंद्र चंचल का निधन         BIG NEWS : किश्तवाड़ में पुलिस के जवानों पर ग्रेनेड हमला, सर्च ऑपरेशन जारी         BIG NEWS : जम्मू कश्मीर में निर्यात को बढ़ावा देने के लिए 33 सदस्यीय बोर्ड गठित, उपराज्यपाल मनोज सिन्हा होंगे चेयरमैन         BIG NEWS : UN में भारत ने उठाया ख़ैबर पख़्तूनख़्वा में मंदिर तोड़े जाने का मुद्दा, कहा - मूकदर्शक बनी रही पाकिस्तामन सरकार          और जिंदगी पर पर्दा गिर गया....         BIG NEWS : कृषि कानून स्थगन का प्रस्ताव किसानों ने किया खारिज, आज होगी 11वें दौर की वार्ता         BIG NEWS : लालू यादव की तबीयत बिगड़ी, फेफड़े में संक्रमण-निमोनिया         GOOD NEWS : भारत बायोटेक शुरू करेगा नाक से दी जाने वाली कोरोना वैक्सीन के ट्रायल्स         BIG NEWS : चीनी वैक्सीन ने काम नहीं किया तो पाकिस्तान को भी वैक्सीन भेजेगा भारत !          BIG NEWS : कोवीशील्ड का प्रोडक्शन पूरी तरह सेफ, सीरम की इमारत में दोबारा आग लगी, 5 मजदूरों के जले हुए शव मिले         BIG NEWS : पाकिस्तानी सेना ने पुंछ जिले में फिर की गोलाबारी, एक जवान शहीद         BIG NEWS : कोरोना वैक्सीन बनाने वाले प्लांट में आग, पुणे के सीरम इंस्टीट्यूट की लैब में भीषण आग लगी         BIG NEWS : शपथ लेते ही एक्शन में आए राष्ट्रपति, जलवायु परिवर्तन समझौते में फिर लेंगे हिस्सा         BIG NEWS : अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन की टीम में एक और कश्मीरी महिला को मिली जगह, श्रीनगर निवासी समीरा को मिला अहम पद         BIG NEWS : चीन और पाकिस्तान के खतरे से निपटने के लिए भारतीय सेना का आधुनिकीकरण जरूरी – लेफ्टिनेंट जनरल सीपी मोहंती         BIG NEWS : अमेरिका को मिला 46वां राष्ट्रपति, जो बाइडेन और कमला हैरिस ने ली शपथ         BIG NEWS : जम्मू कश्मीर में रेटले पावर प्रोजेक्ट को मिली मंजूरी, युवाओं को मिलेंगे रोजगार के अवसर - उपराज्यपाल मनोज सिन्हा         BIG NEWS : गृह राज्य मंत्री जी किशन रेड्डी से कश्मीरी हिंदुओं के प्रतिनिधिमंडल ने की मुलाकात, 1990 में हुये नरसंहार की जांच कराने की मांग         BIG NEWS : किसानों से बातचीत में झुकी सरकार, केंद्र डेढ़ साल तक कृषि कानून लागू नहीं करने को तैयार, किसान इस प्रस्ताव का जवाब 22 जनवरी को देंगे         BIG NEWS : अखनूर सेक्टर में सुरक्षाबलों ने आतंकी घुसपैठ की कोशिश को किया नाकाम, 4 जवान घायल         BIG NEWS : त्याग और बलिदान की मिसाल सिखों के 10वें गुरु गोबिंद सिंह, जिन्होंने खालसा पंथ की रखी नींव         BIG NEWS : अनंतनाग में जैश-ए-मोहम्मद के दो आतंकी गिरफ्तार, हथियार बरामद         BIG NEWS : बारामूला में कश्मीरी हिंदू कर्मचारियों के लिए 336 आवास बनाने की तैयारी शुरू, 7 सदस्यीय कमेटी का गठन         BIG NEWS : गुपकार गठबंधन में पड़ी फूट, सज्जाद लोन की पार्टी पीपुल्स कॉन्फ्रेंस गठबंधन से हुई अलग         BIG NEWS : चीन ने अरुणाचल प्रदेश में भारतीय सीमा के भीतर गांव बसा दिया         BIG NEWS : टीम इंडिया ने रचा इतिहास, भारत ने ऑस्ट्रेलिया को 3 विकेट से हराकर 2-1 से जीती सीरीज         BIG NEWS : एक कश्मीरी हिंदू ने 'विस्थापन दिवस' पर बयां किया दर्द, कहा - अपने घर कश्मीर लौटने की उम्मीद जगी है...         BIG NEWS : जम्मू कश्मीर में गणतंत्र दिवस पर आतंकी हमले की साजिश रच रहे हैं आतंकवादी – डीजीपी दिलबाग सिंह         BIG NEWS : गुजरात के सूरत में ट्रक ने 20 लोगों को कुचला, 13 की मौत         BIG NEWS : “तांडव” के डायरेक्टर अली अब्बास ने मांगी माफी, कहा- “किसी को आहत करने का नहीं था इरादा”         BIG NEWS : तांडव के खिलाफ लखनऊ में भी दर्ज हुआ केस, CM योगी के मीडिया सलाहकार बोले- जल्द सलाखों के पीछे होंगे आरोपी         BIG NEWS : पाकिस्तान में अलग सिंधुदेश बनाने की मांग तेज, पीएम नरेंद्र मोदी की तस्वीर लेकर सड़क पर उतरे प्रर्दशनकारी         BIG NEWS : औरंगाबाद शहर का नाम बदलने को लेकर शिवसेना और कांग्रेस आमने-सामने         BIG NEWS : किसान आंदोलन, सुप्रीम कोर्ट में आज की सुनवाई पर नजर         BIG NEWS : पीएम मोदी ने देश के विभिन्‍न हिस्‍सों से केवड़िया को जोड़ने वाली 8 ट्रेनों को दिखाई हरी झंडी        

कोई गाता मैं सो जाता ....

Bhola Tiwari Jan 13, 2021, 8:22 AM IST मनोरंजन
img


दिनेश श्रीनेत

नई दिल्ली : बहुत कम फिल्में, बहुत कम किताबें ऐसी होती हैं जो हमें मानवीय रिश्तों के सौंदर्य और गरिमा का अहसास करा पाती हैं। कुछ ऐसा जो मनुष्य होने की गरिमा से भरा हुआ हो। एक ऐसी कहानी जिसके ख़त्म होने पर हम खुद को थोड़ा बेहतर मनुष्य होने की तरफ पा सकें। रूसी लेखक तुर्गेनेव मुझे ऐसे रचनाकार और ह्रषिकेश मुखर्जी ऐसे ही निर्देशक लगते हैं। इन दोनों ने ही उदात्त सेल्फ डिस्ट्रक्टिव पात्रों की रचना की है। 

आम तौर पर हम सिनेमा और साहित्य में ऐसी प्रवृति किसी निजी दुःख, जो अक्सर असफल प्रेम होता है - की वजह से देखते आए हैं। देवदास एक ऐसा ही पात्र है। यहां तक कि समाज से रूमानी विद्रोह करने वाला 'प्यासा' फिल्म का नायक भी बुनियादी रूप से प्रेम में असफल एक इंसान है। ह्रषिकेश मुखर्जी के नायक अलग हैं, उनके भीतर खुद को तबाह करने की जिद है मगर एक स्वाभिमान भी है। यह उन्हें बाहर से तो जर्जर कर देता है मगर भीतर उस स्वाभिमान की लौ निष्कंप जलती रहती है। बल्कि समय के थपेड़ों के बीच उसका तेज और बढ़ता जाता है। 'आशीर्वाद' के अशोक कुमार, 'सत्यकाम' के धर्मेंद्र और 'आलाप' के अमिताभ बच्चन ऐसे ही नायक हैं। 

हमने अमिताभ का मुखर क्रोध बहुत सारी फिल्मों में देखा है मगर उनका बुझा हुआ गुस्सा- जो राख के भीतर दबा रह जाता है, अगर देखना हो तो 'आलाप' फिल्म देखनी चाहिए। इसके सिवा यह रिश्तों के सौंदर्य की फिल्म भी है। शास्त्रीय संगीत का विद्यार्थी आलोक प्रसाद (अमिताभ बच्चन) का पुराने समय की मशहूर गायिका सरजूबाई बनारसवाली (छाया देवी) से कोई रिश्ता नहीं होता। वे सिर्फ अपने संगीत प्रेम की वजह से उनके दरवाजे तक पहुँच जाते हैं और जब उनको यह पता लगता है कि उनके सख़्तमिजाज़ और अनुशासनप्रिय पिता (ओम प्रकाश) ने उन्हें बेघर कर दिया है तो विरोधस्वरूप वे उनके घर से निकलकर उसी शहर में तांगा चलाने लगते हैं। 

कहानी आगे बढ़ती जाती है। शहर में गाड़ियों और बसों के आने से अब कोई तांगे की सवारी पसंद नहीं करता। अमिताभ की आजीविका दिन प्रतिदिन घटती जा रही है। इस बीच सरजूबाई बनारस अपना ठिकाना खोजने चली जाती हैं। अपने दोस्त (असरानी) की बहन (रेखा) से आलोक को प्रेम हो जाता है और दोनों की शादी भी हो जाती है। दोनों का एक बेटा होता है मगर उनकी आर्थिक स्थिति बिगड़ती जाती है। अमिताभ तपेदिक का शिकार हो जाते हैं। फिल्म के इस हिस्से में सत्तर के दशक की तमाम सीमाओं के बावजूद अमिताभ का शानदार अभिनय देखने को मिलता है। 

ह्रषिकेश मुखर्जी ने इस फिल्म में कई सुंदर दृश्य रचे हैं। जैसे कि एक रात अमिताभ अपने ही पिता को तांगे से घर तक छोड़ते हैं। दोनों के ही भीतर अपना-अपना अहं है मगर वे भीतर-बाहर से टूट भी चुके हैं। इस बात को फिल्म कुछ ही संवादों के जरिए बड़ी खूबसूरती से बयान कर देती है। फिल्म में राही मासूम रज़ा ने कई जगह बहुत अच्छे संवाद लिखे हैं। ओम प्रकाश का संवाद "आदमी जिनके साथ जीना चाहता है, उनके बग़ैर भी जी सकता है..." या अमिताभ कहते हैं, "प्यार का मजा साथ मरने में नहीं, साथ जीने में है...", "अम्मा मुझसे यह लोरी सुनना चाहती थीं, मगर सुनने से पहले ही सो गईं..." या फिर जब संजीव कुमार ओम प्रकाश से कहते हैं "तुम बहुत ही बदनसीब आदमी त्रिलोकी प्रसाद, तुम्हें पता ही नहीं तुमने क्या खो दिया..." फिल्म के खत्म होने के बाद भी ये याद रह जाते हैं। 

इन सब बातों से बढ़कर यह फिल्म रिश्तों की खूबसूरती को सामने लाती है। पिता और बेटे के बीच अहंकार और करुणा से भरा रिश्ता तो पूरी फिल्म की बुनियाद है मगर इसके अलावा फिल्म में स्त्रियां अपने मोहक और न भूलाए जाने वाले किरदारों में मौजूद हैं। सरजूबाई का राजा बहादुर (संजीव कुमार) से अबोला रिश्ता जो सिर्फ प्रेम की परिधि में नहीं आता, सरजूबाई की सेवा करने के लिए अपना घर-बार छोड़कर उनके साथ बस जाने वाले महाराज दीनानाथ (मनमोहन कृष्ण) अमिताभ की भाभी (बंगाली अभिनेत्री लिली चक्रवर्ती) जो एक साथ हंसी-ठिठोली करने वाली दोस्त और देखभाल करने वाली मां- दोनों के रिश्तों को जीती है या फिर सुलक्षणा (फरीदा जलाल) जिसका अमिताभ से रिश्ता होने वाला होता है मगर वह बाद में उनकी आजीवन एक अच्छी दोस्त बन जाती है। 

यह फिल्म सामान्य तरीके से नहीं देखी जा सकेगी, तब शायद हम उसकी सुंदरता को पकड़ भी नहीं पाएंगे। हमें याद रखना होगा कि यह बिजनेस के लिहाज से अपने समय की बहुत बड़ी फ्लॉप थी। सन् 1977 में अमिताभ की जैसी 'एंग्री यंग मैन' की छवि बन चुकी थी उसके बिल्कुल विपरीत थी फिल्म। कहते हैं लोगों ने ह्रषिकेश मुखर्जी को सुझाव भी दिया कि अमिताभ से भजन न गवाए जाएं और उनके एक-दो फाइट सीन भी फिल्म में रखे जाएं मगर ह्रषि दा ने इनकार कर दिया। फिल्म में घटनाएं बहुत कम हैं जिसकी वजह से इसकी गति धीमी लगती है। बीच के हिस्से में फिल्म ठहरी हुई सी लगती है। पिता और बेटे के बीच तनाव है मगर द्वंद्व नहीं है। इसकी सुंदरता दरअसल एक गहरे नैतिक बोध में है, जिसे हम नायक के भीतर सतत देखते हैं। वह इस नैतिक बोध को किसी बोझ की तरह नहीं ढोता। यह जीवन का सहज स्वीकार किया जाने वाला पक्ष है। फिल्म एक बार भी इसे जस्टीफाइ नहीं करती है कि सरजूबाई के लिए अमिताभ ने इतना बड़ा फैसला क्यों ले लिया। आत्मा के भीतर यही नैतिक बोध जीवन को सौंदर्य देता है। इसे फिल्म के अंतिम दृश्य से भी समझा जा सकता है। 

फिल्म का अंतिम दृश्य मार्मिक है, जब पिता बने ओम प्रकाश सारा अहंकार छोड़कर काशी में बिस्तर पर पड़े बीमार अमिताभ से मिलते जाते हैं। ठीक उसी समय रेखा और अमिताभ का बेटा भजन गाना आरंभ करते हैं, "माता सरस्वती शारदा..."। यह दृश्य अद्भुत है। शय्या पर पड़े अमिताभ, साधारण से कपड़ों में उनकी पत्नी और बेटे के पास जैसे यही एक संपत्ति है- कला और ज्ञान की देवी सरस्वती का साथ। उनसे निःस्वार्थ प्रेम करने वाले कुछ दोस्तों का साथ- यही उनकी सारी कमजोरी और गरीबी के बीच कुल जमापूंजी और ताकत है। 

फिल्म के अंतिम हिस्से में ही हरिवंश राय बच्चन की एक कविता को जयदेव ने बहुत सुंदर ढंग से संगीतबद्ध किया है, जिसे सुनना सुखद है - 

कोई गाता मैं सो जाता 

संसृति के विस्तृत सागर पर

सपनों की नौका के अंदर

सुख-दुख की लहरों पर उठ-गिर बहता जाता मैं सो जाता

कोई गाता मैं सो जाता

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links