ब्रेकिंग न्यूज़
BIGNEWS : “जस्टिस डिलेड बट डिलिवर्ड” फिल्म के निर्देशक ने कहा – “अनुच्छेद 370 के निरस्त होने के बाद जम्मू के दबे-कुचले लोगों को उनके अधिकार मिले”         BIG NEWS : आतंकी ठिकाना नष्ट, भारी मात्रा में गोला-बारूद बरामद         BIG NEWS : लालू से मिलने फिर रिम्स पहुंची राबड़ी और मीसा, दिल्ली या मुंबई शिफ्ट हो सकते हैं RJD सुप्रीमो         BIG NEWS : भारत ने भेजी वैक्सीन, ब्राजीली राष्ट्रपति ने संजीवनी ले जाते हनुमान जी की तस्वीर ट्वीट कर कहा धन्यवाद!         BIG NEWS : जम्मू-कश्मीर में 11 महीने बाद पहली फरवरी से खुलेंगे स्कूल         पीएम मोदी का बंगाल दौरा : पराक्रम दिवस के मौके पर बंगाल में नेताजी भवन जाएंगे प्रधानमंत्री; असम में 1.06 लाख लोगों को बांटेंगे जमीन का पट्टा         BIG NEWS : आर्थिक संकट से जूझ रहा पाकिस्तान, इमरान खान ने फिर लिया 416 हजार करोड़ रुपये का कर्ज         BIG NEWS : ममता बनर्जी के मंत्रिमंडल से एक और मंत्री ने दिया इस्तीफा         BIG NEWS : केंद्र सरकार और आंदोलनकारी किसानों के बीच वार्ता विफल, कृषि मंत्री बोले- जो प्रस्ताव दिया उससे बेहतर कुछ नहीं         भजन सम्राट नरेंद्र चंचल का निधन         BIG NEWS : किश्तवाड़ में पुलिस के जवानों पर ग्रेनेड हमला, सर्च ऑपरेशन जारी         BIG NEWS : जम्मू कश्मीर में निर्यात को बढ़ावा देने के लिए 33 सदस्यीय बोर्ड गठित, उपराज्यपाल मनोज सिन्हा होंगे चेयरमैन         BIG NEWS : UN में भारत ने उठाया ख़ैबर पख़्तूनख़्वा में मंदिर तोड़े जाने का मुद्दा, कहा - मूकदर्शक बनी रही पाकिस्तामन सरकार          और जिंदगी पर पर्दा गिर गया....         BIG NEWS : कृषि कानून स्थगन का प्रस्ताव किसानों ने किया खारिज, आज होगी 11वें दौर की वार्ता         BIG NEWS : लालू यादव की तबीयत बिगड़ी, फेफड़े में संक्रमण-निमोनिया         GOOD NEWS : भारत बायोटेक शुरू करेगा नाक से दी जाने वाली कोरोना वैक्सीन के ट्रायल्स         BIG NEWS : चीनी वैक्सीन ने काम नहीं किया तो पाकिस्तान को भी वैक्सीन भेजेगा भारत !          BIG NEWS : कोवीशील्ड का प्रोडक्शन पूरी तरह सेफ, सीरम की इमारत में दोबारा आग लगी, 5 मजदूरों के जले हुए शव मिले         BIG NEWS : पाकिस्तानी सेना ने पुंछ जिले में फिर की गोलाबारी, एक जवान शहीद         BIG NEWS : कोरोना वैक्सीन बनाने वाले प्लांट में आग, पुणे के सीरम इंस्टीट्यूट की लैब में भीषण आग लगी         BIG NEWS : शपथ लेते ही एक्शन में आए राष्ट्रपति, जलवायु परिवर्तन समझौते में फिर लेंगे हिस्सा         BIG NEWS : अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन की टीम में एक और कश्मीरी महिला को मिली जगह, श्रीनगर निवासी समीरा को मिला अहम पद         BIG NEWS : चीन और पाकिस्तान के खतरे से निपटने के लिए भारतीय सेना का आधुनिकीकरण जरूरी – लेफ्टिनेंट जनरल सीपी मोहंती         BIG NEWS : अमेरिका को मिला 46वां राष्ट्रपति, जो बाइडेन और कमला हैरिस ने ली शपथ         BIG NEWS : जम्मू कश्मीर में रेटले पावर प्रोजेक्ट को मिली मंजूरी, युवाओं को मिलेंगे रोजगार के अवसर - उपराज्यपाल मनोज सिन्हा         BIG NEWS : गृह राज्य मंत्री जी किशन रेड्डी से कश्मीरी हिंदुओं के प्रतिनिधिमंडल ने की मुलाकात, 1990 में हुये नरसंहार की जांच कराने की मांग         BIG NEWS : किसानों से बातचीत में झुकी सरकार, केंद्र डेढ़ साल तक कृषि कानून लागू नहीं करने को तैयार, किसान इस प्रस्ताव का जवाब 22 जनवरी को देंगे         BIG NEWS : अखनूर सेक्टर में सुरक्षाबलों ने आतंकी घुसपैठ की कोशिश को किया नाकाम, 4 जवान घायल         BIG NEWS : त्याग और बलिदान की मिसाल सिखों के 10वें गुरु गोबिंद सिंह, जिन्होंने खालसा पंथ की रखी नींव         BIG NEWS : अनंतनाग में जैश-ए-मोहम्मद के दो आतंकी गिरफ्तार, हथियार बरामद         BIG NEWS : बारामूला में कश्मीरी हिंदू कर्मचारियों के लिए 336 आवास बनाने की तैयारी शुरू, 7 सदस्यीय कमेटी का गठन         BIG NEWS : गुपकार गठबंधन में पड़ी फूट, सज्जाद लोन की पार्टी पीपुल्स कॉन्फ्रेंस गठबंधन से हुई अलग         BIG NEWS : चीन ने अरुणाचल प्रदेश में भारतीय सीमा के भीतर गांव बसा दिया         BIG NEWS : टीम इंडिया ने रचा इतिहास, भारत ने ऑस्ट्रेलिया को 3 विकेट से हराकर 2-1 से जीती सीरीज         BIG NEWS : एक कश्मीरी हिंदू ने 'विस्थापन दिवस' पर बयां किया दर्द, कहा - अपने घर कश्मीर लौटने की उम्मीद जगी है...         BIG NEWS : जम्मू कश्मीर में गणतंत्र दिवस पर आतंकी हमले की साजिश रच रहे हैं आतंकवादी – डीजीपी दिलबाग सिंह         BIG NEWS : गुजरात के सूरत में ट्रक ने 20 लोगों को कुचला, 13 की मौत         BIG NEWS : “तांडव” के डायरेक्टर अली अब्बास ने मांगी माफी, कहा- “किसी को आहत करने का नहीं था इरादा”         BIG NEWS : तांडव के खिलाफ लखनऊ में भी दर्ज हुआ केस, CM योगी के मीडिया सलाहकार बोले- जल्द सलाखों के पीछे होंगे आरोपी         BIG NEWS : पाकिस्तान में अलग सिंधुदेश बनाने की मांग तेज, पीएम नरेंद्र मोदी की तस्वीर लेकर सड़क पर उतरे प्रर्दशनकारी         BIG NEWS : औरंगाबाद शहर का नाम बदलने को लेकर शिवसेना और कांग्रेस आमने-सामने         BIG NEWS : किसान आंदोलन, सुप्रीम कोर्ट में आज की सुनवाई पर नजर         BIG NEWS : पीएम मोदी ने देश के विभिन्‍न हिस्‍सों से केवड़िया को जोड़ने वाली 8 ट्रेनों को दिखाई हरी झंडी        

सुप्रीम कोर्ट के प्रस्ताव को सरकार मानेगी, तो किसान क्या करेंगे ?

Bhola Tiwari Jan 12, 2021, 8:00 PM IST टॉप न्यूज़
img


निशिकांत ठाकुर 

नई दिल्ली  : सभी नकारात्मकता के भाव से जनमानस को दूषित करने वाले विचारों को शांत करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने किसानों के आंदोलन को एक तरह से जायज ठहराकर तथाकथित तीन नए कृषि कानून पर तत्काल प्रभाव से रोक लगाकर कमेटी का गठन करने की बात कह दी। इसे देश हित के लिए बहुत बड़ा कार्य माना जा रहा है। वैसे भी भारतीय न्यायिक व्यवस्था पर भारत के प्रत्येक व्यक्तियों का अटूट विश्वास है। हर जगह से पराजित होने के बाद सामान्य व्यक्ति का उसी पर भरोसा अब तक कायम रहा है । गलती सभी से जीवन में होती है, लेकिन उसे स्वीकार करके सुधार लेना व्यक्ति को महान बनाता है। उदाहरण स्वयं राष्ट्रपिता महात्मा गांधी ही हैं। उनसे भी कई बार भूल हुई, जिसे उन्होंने स्वीकार किया। सार्वजनिक रूप से उसकी व्याख्या भी की। उनका कहना यह भी था कि मैं अपने सार्वजनिक जीवन में पारदर्शी हूं और मुझमें जो भी कमी है, उसे सार्वजनिक करने मैं मुझे कोई आपत्ति नहीं है । इसलिए आज भी वह महान है और शायद आगे भी कोई उनकी जगह देश में ले सकेगा, इसमें संदेह ही नहीं, विश्वास है। वैसे किसान आंदोलन खत्म होने के कोई आसार अभी नहीं दिख रहे हैं। सुप्रीम कोर्ट की टिप्पणी के बाद जिस प्रकार से किसान नेताओं ने अपने तेवर तल्ख किए और कमिटी के सदस्यों को लेकर ही सवाल उठा रहे हैं, वैसे में, कोई समाधान नहीं दिख रहा है। 

आप सभी से एक बात साझा करना चाहता हूं। मैंने पत्रकारिता में चार दशक से अधिक का समय व्यतीत कर लिया है। गांव से लेकर देश की राजधानी को करीब से देखा और समझा है। उसके आधार पर कह रहा हूं कि किसी भी समारोह में जाकर वहां जो कुछ होता है , उसका ब्योरा देना ही रिपोर्टिंग नहीं होता है। सामने दिखने वाले की अपेक्षा उसके पीछे सत्य को खोज निकालकर दिखाना ही सच्ची रिपोर्टिंग है। अनुभव , आलोचना - शक्ति , कल्पना - शक्ति, खोज और गुप्तचर के साथ खतरो से भरा मार्ग अपनाकर पता न लगाया जाए, तो भला कैसी पत्रकारिता ! आज के दौर में ट्विटर पर ही लोग खबर बनाकर अपनी पीठ खुद थपथपाना चाहते हैं। कोई खबर छापनी है और यदि छपनी है तो कितनी ? कोर्ट - सरकार के भय से बचकर , मालिकों को किसी तरह की मुश्किल न हो , किसे कितनी प्राथमिकता देनी चाहिए यह सब ध्यान में रखकर काम करने से ही संपादक का महत्व है। यह मेरा निज का अनुभव है। 


अब प्रश्न यह उठता है कि इसका उल्लेख यहां किसलिए ? वह इसलिए कि आज देश के सभी बुद्धिजीवी जानते हैं कि किस प्रकार की रिपोर्टिंग की जा रही है । अब देखता हूं कि देश के बहुत कम पत्रकार इन मानदंडों पर चलकर पत्रकारिता करते हैं । उदाहरण आप पाठकों सहित उन पत्रकारों के समक्ष है जो किसान लगभग 45 दिनों से दिल्ली को घेरकर खुले आसमान के नीचे ठिठुरती ठंड और बरसात में तीन तथाकथित काले कृषि बिल को निरस्त कराने के लिए जीवन मृत्यु से संघर्ष कर रहे हैं उसकी रिपोर्टिंग कैसी हो रही है ? किसान के क्रुद्ध होने का एक कारण मीडिया भी तो है जो कभी शांतिपूर्ण ढंग से प्रदर्शन कर रहे थे, पर कभी उन्हें मीडिया या तथाकथित सोशल मीडिया द्वारा आतंकवादी , कभी चीनी - पाकिस्तानी सहायता प्राप्त आंदोलनकारी कहा गया । उनका अपमान सड़क खोदकर, उन पर पानी की बौछरें डालकर कभी पुलिसिया जोर आजमाकर शांतिपूर्ण तरीके से प्रदर्शन कर रहे किसानों पर बलात बल प्रयोग करके उकसाने का प्रयास किया। 

आज तक की जो जानकारी है, उसके अनुसार 27 किसानों की मृत्यु हो चुकी है जिनमे तीन संतों ने किसानों की समस्याओं से आजीज आकर आत्महत्या कर चुके हैं । उन्होंने अपने आत्मह्त्या से पहले जो पत्र लिखा वह किसी का दिल दहलाने के लिए काफी है । क्या इसकी सच्ची रिपोर्टिंग हुई , उसके पीछे छिपे किसानों के दर्द को महसूस किया गया ? क्या जिनके कारण इतनी बड़ी समस्या जन समूह की हो गई है उस पक्ष को खंगाला गया , सरकार से प्रश्न पूछे गए ? गांधी जी को भी जन जागरण के लिए और सरकार को सही सूचना देने के लिए साउथ अफ्रीका में भी अखबार निकालना पड़ा था और भारत आकर भी अग्रेजों की गुलामी से देश को मुक्त कराने के लिए अखबार का भी सहारा लिया था। यदि उस काल का मीडिया भी वैसा ही करता जो आज की मीडिया द्वारा किया जा रहा है तो क्या हम अंग्रेजों की गुलामी से मुक्त हो पाते ? तब भी क्या हम ऐसा कहते की जो हो रहा है वह ठीक है । गुलाम होना हमारे भाग्य में है इसलिए हमे यही जीवन अच्छा लगता है - हमें गुलाम ही रहने दे । 

यह ठीक है कि सदैव एक ही लीक पर चला जाय, तो उस रास्ते पर गड्ढे पड़ जाते है । इसलिए उसे बदलना तो पड़ता ही है। इसलिए कहते हैं - परिवर्तन विकास की निशानी है । अब उदाहरण अपने देश का ही लेकर हम चलें तो आजादी से पहले अंग्रेजों ने और उससे पहले मुगलों ने जो नरसंहार किया हमें लूटा उस काल में हम कहां पहुंच गए । मुगल शासक तो जब आए थे, उनका उद्देश्य ही लूट पाट करना ही था , लेकिन वह भारत के उस अकूत संपदा को लूटकर पूरी तरह नहीं ले जा सके । क्योंकि जहां से जिस देश से वे लूट के इरादे से आए थे वहां वापस लौटना उनके लिए संभव नहीं हो सकता था । कितने हाथी, घोड़े, खच्चर , ऊंट पर लादकर हीरे जवाहरात ले जा सकते थे, अतः उन्हें यहां का होकर ही रहना पड़ा। सैकड़ों वर्षों तक तानाशाही शासन करने के बाद भी इसी भारत भूमि में रहना स्वीकार कर लिया और तथाकथित भारतीय होकर रह गए। लेकिन, अंग्रेजो ने तो हमे गुलाम भी बनाया , हमारे ऊपर अत्याचार भी किया और जी भर कर अकूत संपदा लूटकर, निचोड़कर चले गए। 

 हमने हजारों नहीं लाखों कुर्बानियों को देकर उन्हें मजबूर कर दिया कि वह भारत को आजाद करे। सुभाष चन्द्र बोस वाली आजाद हिन्द फौज और बापू की अहिंसावादी टीम ने अंग्रेजों को भारत छोड़ने पर मजबूर किया । तो क्या उस काल में भी हमारा मीडिया इसी तरह ठकुरसुहाती बात करतीं थीं कि हमें गुलामी ही अच्छी लगती है । कभी ऐसा नहीं हुआ कि सभी मीडिया घरानों ने पत्रकारों ने विदेशी आक्रांताओं का डटकर विरोध न किया हो और उसी का परिणाम है कि आज हमारा देश स्वतंत्र हैं और हम भारतीय संवैधानिक दायरे में जीने के लिए आजाद हैं । क्या गणेश शंकर विद्यार्थी यदि घुटने टेक देते तो उनकी शहादत होती ? वह एक श्रेष्ठ कोटि के पत्रकार थे । क्या कोई बता सकता है कि आज फिर देश का कोई भी पत्रकार गणेश शंकर विद्यार्थी बनने के लिए तैयार है ?

आज तक सरकार और किसानों के बीच आठ बार मीटिंग हो चुकी है, लेकिन वही ढाक के तीन पात । अब अगली बैठक 15 जनवरी को होगी । वैसे विश्वास बहुत बड़ी बात होती , लेकिन इस बात को यदि सकारात्मक सोच से देखे तो हो सकता है सरकार के प्रतिनिधि कोई रास्ता निकाल ले और समस्या का समाधान हो जाए और एक लंबे अरसे से जिद पर डटे दोनों पक्ष खुशी खुशी अपने परिवार के पास सही सलामत पहुंच जाए । लेकिन हां मुख्य धारा से जुड़े सभी सूचना माध्यम को एक होकर दोनों पक्षों को एक जुट करके देश की अशांत स्थिति को शांत करना पड़ेगा । अन्यथा सरकार द्वारा जन हित के लिए बनाई गई सारी योजना धरी की धरी रह जाएगी ।

(लेखक वरिष्ठ पत्रकार और राजनीतिक विश्लेषक है)।

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links