ब्रेकिंग न्यूज़
BIG NEWS : श्रीनगर पुलिस हेडक्वार्टर सील, जम्मू कश्मीर में कुल 10827 कोरोना के मरीज         BIG NEWS : भारत-चीन के बीच चौथे चरण की कोर कमांडर स्तर की बैठक शुरू, कई अहम मुद्दों पर होगी चर्चा         BIG NEWS : सचिन पायलट पर कार्रवाई, उप मुख्यमंत्री के पद से हटाए गए         नेपाल पीएम के बिगड़े बोल, कहा – “नेपाल में हुआ था भगवान राम का जन्म, नेपाली थे भगवान राम”         CBSE 12वीं का रिजल्ट : देश में 88.78% स्टूडेंट पास         BIG NEWS : सेना प्रमुख एमएम नरवणे जम्मू पहुंचे, सुरक्षा स्थिति का लिया जायजा         अनंतनाग एनकाउंटर में 2 आतंकी ढेर         बांदीपोरा में 4 OGWS गिरफ्तार, हथियार बरामद         BIG NEWS : हाफिज सईद समेत 5 आतंकियों के बैंक अकाउंट फिर से बहाल         BIG NEWS : लालू यादव का जेल "दरबार", तस्वीर वायरल         मान लीजिए इंटर में साठ प्रतिशत आए, या कम आए, तो क्या होगा?         BIG NEWS : झारखंड में रविवार को कोरोना संक्रमण से 6 मरीजों की मौत, बंगाल-झारखंड सीमा सील         BIG NEWS : सोपोर में सेना और आतंकियों के बीच मुठभेड़ जारी, अब तक 2 आतंकी ढेर         BIG NEWS : देश में PMAY के क्रियान्वयन में रामगढ़ नंबर वन         BIG NEWS : श्रीनगर में तहरीक-ए-हुर्रियत के चेयरमैन अशरफ सेहराई गिरफ्तार         BIG NEWS : ऐश्वर्या राय बच्चन और आराध्या बच्चन की कोरोना रिपोर्ट आई पॉजिटिव         BIG NEWS : मध्यप्रदेश की राह पर राजस्थान !         अमिताभ बच्चन ने कोरोना के खौफ के बीच सुनाई थी उम्मीद भरी कविता, अब..         .... टिक-टॉक वाले प्रकांड मेधावियों का दस्ता         BIG BRAKING : नक्सलियों नें कोल्हान वन विभाग कार्यालय व गार्ड आवास उड़ाया         BIG NEWS : महानायक अमिताभ बच्चन के बाद अभिषेक बच्चन को भी कोरोना         BIG NEWS : अमिताभ बच्चन करोना पॉजिटिव         BIG NEWS : आतंकियों को घुसपैठ कराने की कोशिश में पाकिस्तानी बॉर्डर एक्शन टीम         अपराधी मारा गया... अपराध जीवित रहा !          BIG NEWS : भारत चीन के बीच बातचीत, सकारात्मक सहमति के कदम आगे बढ़े         BIG NEWS : बारामूला के नौगाम सेक्टर में LOC के पास मुठभेड़, दो आतंकी ढेर         BIG STORY : समरथ को नहिं दोष गोसाईं         शर्मनाक : बाबू दो रुपए दे दो, सुबह से भूखी हूं.. कुछ खा लुंगी         BIG NEWS : वर्चुअल काउंटर टेररिज्म वीक में बोले सिंघवी, कश्मीर भारत का अभिन्न अंग है, था और रहेगा         BIG NEWS : कानपुर से 17 किमी दूर भौती में मारा गया गैंगेस्टर विकास, एसटीएफ के 4 जवान भी घायल         BIG NEWS : झारखंड के स्कूलों पर 31 जुलाई तक टोटल लॉकडाउन         BIG NEWS : चीन के खिलाफ “बायकॉट चाइना” मूवमेंट          पाकिस्तानी सेना ने नौशेरा सेक्टर में की गोलाबारी, 1 जवान शहीद         मुसीबत देश के आम लोगों की है जो बहुत....         BIG NEWS : एनकाउंटर में मारा गया गैंगस्टर विकास दुबे        

एक अंग्रेज अफसर ने एक औरत को सती होने से बचाया था

Bhola Tiwari Jun 12, 2019, 5:42 AM IST टॉप न्यूज़
img

एस डी ओझा

बिहार के पूर्णिया जिले की स्थापना 14 फरवरी 1770 को हुई थी । इस जिले के प्रथम कलेक्टर गेरार्ड डुकरैल हुए । डुकरैल कुंवारे थे । उनकी विधवा माँ उनके लिए इंग्लैण्ड में अभिजात्य वर्ग से लड़की ढूंढने में लगी थीं ।

उस दौर में बंगाल और बिहार में सूखा पड़ा था । पूर्णिया के लोगों ने कलेक्टर गेरार्ड डुकरैल से उस साल के लगान माफ करने का अनुरोध किया । एक मीटिंग पूर्णिया के जमींदार के दालान में हो रही थी । डुकरैल लगान माफ करने की बात मान गये । वे बहुत हीं जज्बाती थे । जब वे मीटींग से चलने लगे तो उन्हें लगा कि कोई उनको देख रहा है । गेरार्ड डुकरैल ने देखा कि पर्दे की आड़ से दो आंखें उनकी तरफ देख रही हैं । वे आंखें आभार ज्ञापित करतीं नजर आ रहीं थीं । डुकरैल को अपनी तरफ देखता पाकर वे आंखें पर्दे की आड़ में चलीं गयीं थीं । डुकराल को वे आंखें बड़ी भली लगीं थीं ।

दो दिन बाद गेरार्ड डुकरैल जब राउण्ड पर निकले तो सौरा नदी के उस पार कुछ हलचल हो रही थी । पता चला कि लोग एक औरत को जबरन सती कराना चाह रहे थे । उसके पति की मृत्यु हो गयी थी । वह औरत सती होना नहीं चाह रही थी । वह रो रही थी । लोगों से अपने जीवन की भीख मांग रही थी । गेरार्ड डुकराल ने उफनती सौरा नदी में छलांग लगा दी । वे तैरकर उस पार पहुँचे । अपनी 

पिस्टल से हवाई फायर करते हुए वे घटना स्थल पर पहुँचे । उनको देखकर लोगों ने उस औरत को छोड़ दिया । डुकराल उस औरत को अपने घर लाए । उन्हें पता चला कि मीटिंग में पर्दे की आड़ से आभार जताने वाले आंखें उसी महिला के थे । गेरार्ड ने अपनी माँ को तार देकर सूचित कर दिया कि उन्होंने अपने लिए लड़की तलाश ली है । मां के मान जाने के बाद दोनों ने चर्च जाकर विधिवत शादी कर ली थी । उनके कई बच्चे हुए । जब कलेक्टर रिटायर्ड हुए तो बीवी बच्चों समेत इंग्लैण्ड चले गये थे ।

सती प्रथा का विरोध गेरार्ड डुकराल ने तब किया था जब सती प्रथा को रोकने के लिए कोई कानून नहीं बना था । गवर्नर जनरल विलियम बैंटिक और राजा राम मोहन राय का जनम भी उस समय नहीं हुआ था । बाद में इन दोनों महानुभावों के अथक प्रयासों से भारत में सती प्रथा पर रोक लगा दी गयी , लेकिन गेरार्ड डुकराल का प्रयास भी सराहनीय था । उस दौर में एक औरत को सती होने से बचाना बहुत बड़ी उपलब्धि थी । इतिहासकार डाक्टर रामेश्वर प्रसाद ने बिहार सरकार से अनुरोध किया था कि बिहार के किसी सड़क का नाम डुकराल के नाम पर कर दी जाय, पर उनके इस अनुरोध पर आज तक कोई कार्रवाई नहीं की गयी है । जिस गांव में डुकराल ने लगान माफी की मीटिंग की थी , उस गांव के लोगों ने उस गांव का नाम " डुकराल " रख लिया है । आजकल इस गांव को लोग डकराल कहते हैं । डुकराल का हीं अपभ्रंश है डकराल । यही सच्ची श्रद्धांजलि है गेरार्ड डुकराल को।

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links