ब्रेकिंग न्यूज़
नहीं रहे मिस्र के पूर्व राष्ट्रपति हुस्नी मुबारक....         हम छीन के लेंगे आजादी....         माल महाराज के मिर्जा खेले होली         भारत और अमेरिका में 3 अरब डॉलर का रक्षा समझौता         सीएए भारत का अंदरुनी मामला : डोनाल्‍ड ट्रंप         लड़खड़ाई धरती पर सम्भलकर आगे बढ़ गए हिम्मती लोग          शाहीन बाग : उपाय क्या है?          भारत में दक्षिणपंथी विमर्श एक चिंतनधारा कम प्रॉपेगेंडा ज्यादा          मिलकर करेंगे इस्लामी आतंकवाद का सफाया : ट्रंप         मोदी ट्रंप की यारी : भारत की तारीफ, आतंक पर PAK को नसीहत         भारत और अमेरिका रक्षा सौदे में बड़ा डील करेगा : डोनाल्ड ट्रंप         "एक्टिव फार्मास्युटिकल इनग्रेडिएंट"(एपीआई) के लिए पूरी तरह चीन पर निर्भर है भारत         कुछ ही देर में प्रेसिडेंट ट्रंप पहुंच रहे हैं इंडिया         अनब्याही माँ : चपला के बहाने इतिहास को देखा          संभलने का वक्त !          अनब्याही माताएं : नरमुंड दरवाजे पर टांगकर जश्न मनाया करते थे....         ताकि भाईचार हमेशा बनी रहे!          अब शत्रुघ्न सिन्हा पाकिस्तान के राष्ट्रपति से मिलकर कश्मीर मुद्दे पर सुर में सुर मिलाया         सुरक्षाबलों ने लश्कर-ए-तैयबा के दो आतंकियों को मार गिराया, सर्च ऑपरेशन जारी         खून बेच कर हेरोइन का धुआं उड़ाते हैं गढ़वा के युवा         कब होगी जनादेश से जड़ों की तलाश          'नसबंदी का टारगेट', विवाद के बाद कमलनाथ सरकार ने वापस लिया सर्कुलर         पीढ़ियॉं तो पूछेंगी ही कि गाजी का अर्थ क्या होता है?         मातृ सदन की गंगा !         ओवैसी की सभा में महिला ने पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे लगाए         एक बार फिर चर्चा में हैं सामाजिक कार्यकर्ता "तीस्ता सीतलवाड़",शाहीनबाग में उन्हें औरतों को सिखाते हुए देखा गया         कनपुरिया गंगा, कनपुरिया गुटखा, डबल हाथरस का मिष्ठान और हरजाई माशूका सी साबरमती एक्सप्रेस..         शाहीन बाग में वार्ता विफल : जिस दिन नागरिकता कानून हटाने का एलान होगा, हम उस दिन रास्ता खाली कर देंगे         फ्रांस में विदेशी इमामों और मुस्लिम टीचर्स पर प्रतिबंध         'राष्ट्रवाद' शब्द में हिटलर की झलक, भारत कर सकता है दुनिया की अगुवाई : मोहन भागवत         आतंकवाद के खिलाफ चीन ने पाकिस्तान का साथ छोड़ा         दिमाग में गोबर, देह पर गेरुआ!          त्राल में सुरक्षाबलों ने तीन आतंकियों को मार गिराया         CAA-NRC-NPR के समर्थन में रिटायर्ड जज और ब्यूरोक्रेट्स ने राष्ट्रपति को लिखा पत्र         अनब्याही माँ : चपला के बहाने इतिहास को देखा          भारतीय पत्रकारिता को फफूंदी बनाने वाली पत्रकार यूनियनें..         ब्रिटेन और फ्रांस को पीछे छोड़ भारत बना दुनिया की पांचवीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था        

मालदीव भारत के लिए कितना जरूरी

Bhola Tiwari Jun 10, 2019, 5:21 PM IST टॉप न्यूज़
img

 अजय श्रीवास्तव

मालदीव सरकार ने भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को अपने देश का सर्वोच्च सम्मान "रूल आँफ निशान इज़्जुद्दीन" से सम्मानित किया है जो भारत के प्रति उसकी इज्ज़त और प्रतिबद्धता को दोहराता है।नरेंद्र मोदी का रिपब्लिक स्कावयर पर भव्य स्वागत किया गया और तोपों की सलामी के साथ "गार्ड ऑफ आँनर" दिया गया।

आपको बता दें 2013-2018 के दौरान मालदीव पर अब्दुल्ला यामीन की सरकार थी।अब्दुल्ला यामीन भारत विरोधी थे और किसी हद से बाहर जाकर भारत का विरोध करते थे।अपने शासनकाल में उन्होंने संवैधानिक संस्थाओं को कुचलने के अनेकों काम किये थे।मालदीव की सर्वोच्च अदालत ने पूर्व राष्ट्रपति मोहम्मद नशीद पर चल रहे मुकदमे को असंवैधानिक करार दिया था और कैद किए गए विपक्ष के नौ सांसदों को रिहा करने का आदेश भी जारी किया था।राष्ट्रपति यामीन ने सर्वोच्च अदालत के फैसले को मानने से साफ इंकार करते हुए संसद अनिश्चितकाल के लिए स्थगित कर दी थी।राष्ट्रपति यामीन ने देश में 15 दिनों के लिए आपातकाल की घोषणा करके दो जजों को गिरफ्तार करवा लिया था, जिसके बाद अदालत ने अपना फैसला उलट दिया था।

गौरतलब है कि साल 2008 में हुए चुनावों में विपक्षी पार्टी मालदीवियन डेमोक्रेटिक पार्टी के नेता मोहम्मद नशीद अब्दुल गयूम को हराकर मालदीव के राष्ट्रपति चुने गए थे।ये सरकार कई दलों के गठबंधन से बनी थी और मोहम्मद नशीद लोकत्रांतिक रूप से चुने गए मालदीव के पहले राष्ट्रपति थे।मोहम्मद नशीद सत्ता के दवाब को सह नहीं सके और 2012 में उन्हें पद छोड़ना पड़ा।नशीद पर ये आरोप लगा कि उन्होंने हीं मुख्य न्यायाधीश को अवैध रूप से जेल भिजवाया।साल 2013 में अब्दुल्ला यामीन मालदीव के राष्ट्रपति बने,यामीन पूर्व राष्ट्रपति अब्दुल गयूम के सौतेले भाई हैं।

राष्ट्रपति बनने के बाद यामीन ने कोर्ट द्वारा लोकत्रांतिक तरह से चुने गए पूर्व राष्ट्रपति मो.नसीद को आतंकवाद में लिप्त होने का आरोप लगाकर 13 साल की सजा सुनाई।अंतरराष्ट्रीय समुदाय में उनके इस निर्णय की खूब आलोचना हुई मगर तानाशाह की तरह शासन करने वाले मो.यामीन पर कुछ असर नहीं हुआ।

मो.यामीन पूरी तरह भारत विरोधी थे और इसके लिए उन्होंने चीन को अपने देश में निवेश के लिए बुलाया और चतुर चीन ने मालदीव में भारी निवेश किया है।मालदीव की दक्षिण एशिया और अरब सागर में जो लोकेशन है वो भारत के लिए काफी महत्वपूर्ण है।भारत का जितना भी तेल और गैस का एक्सपोर्ट मध्य-पूर्व से आता है उसका बहुत बड़ा हिस्सा मालदीव के बगल से होकर गुजरता है।सामरिक और व्यापारिक दृष्टि से ये रास्ता भारत के लिए बहुत महत्वपूर्ण है।

सत्ता परिवर्तन के बाद भारत काफी राहत महसूस कर रहा है।मो.सालिह ने अपने शपथग्रहण समारोह में भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को बुलाकर ये संकेत दे दिया है कि उनकी प्राथमिकता में भारत सर्वोच्च है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा है कि भारत मालदीव में क्रिकेट स्टेडियम का निर्माण, विभिन्न द्वीपों पर पानी और सफाई व्यवस्था, छोटे और लघु उद्योगों के लिए वित्त व्यवस्था, बंदरगाहों का विकास, क्रांफ्रेंस और कम्यूनिटी सेंटर का निर्माण, आपातकालीन चिकित्सा सुविधाएं, स्टूडेंट्स के लिए फेरी की सुविधा आदि से मदद करेगा जिससे लोगों को सीधा फायदा पहुंचेगा।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ये भी कहा कि हम अडू में बुनियादी ढाचें का विकास और ऐतिहासिक जुमा मस्जिद के निर्माण में सहयोग करने को लेकर सहमत हुए हैं।

मालदीव भारत के लिए कितना अहम है ये नरेंद्र मोदी की भारी जीत के बाद पहली विदेश यात्रा मालदीव में करने से समझी जा सकती है।

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links