ब्रेकिंग न्यूज़
POK : गिलगित-बल्तिस्तान में पत्रकारों का पुलिस के खिलाफ प्रदर्शन, पत्रकारों ने कहा- काम करने की चाहिए आजादी         कोरोना वायरस : अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप ने भारत से फिर मांगी मदद         संकेत खतरनाक हैं...         धन और जीवन के बीच मांडवली...         झारखंड में तमाशा : कोरोना का मरीज आइसोलेशन वार्ड से निकल शहर में घूमता रहा, लिट्टी खायी, चाय पी         बड़ा फैसला: 1 साल के लिए की गई सांसदों के वेतन में 30% की कटौती         बरेली : लॉकडाउन का पालन कराने गई पुलिस टीम पर भीड़ ने किया हमला, SP घायल         भारतीय सेना की बड़ी कार्रवाई : पाकिस्तानी सेना के अधिकारी समेत 3 जवान घायल, दर्जनों चौकियां तबाह         न्यूयॉर्क के चिड़ियाघर में एक चार वर्षीय बाघ भी कोरोना वायरस का शिकार         बास मारती बेसिक शिक्षा के रुदन में शामिल मिस संता-बंता..         भारतीय सेना ने केरन सेक्टर में 5 आतंकियों को मार गिराया         कोरोना वायरस : अमेरिकी प्रेसिडेंट ट्रंप ने प्राइम मिनिस्टर मोदी से मांगी मदद         झारखंड : बोकारो में मिला कोरोना का तीसरा मामला          पाकिस्तान को चीन ने दिया 'धोखा', भेज दिया अंडरवेयर से बने मास्क         खुशखबरी : नए डोमिसाइल नियम में संशोधन, स्थायी निवासियों के लिए सरकारी नौकरियां आरक्षित         स्वास्थ्य मंत्रालय : कोरोना के 30% मामले तब्लीगी जमात के मरकज की वजह से फैले         प्रार्थना का क्या महत्व है ?         लॉक डाउन : कुछ शर्तों के साथ खुल सकता है लॉकडाउन, जानें क्या है सरकार की तैयारी         WHO की रिपोर्ट में खुलासा : ऐसे फैलता है कोरोना वायरस         पाकिस्तान : नाबालिग को अगवा कर पहले किया रेप, फिर धर्म-परिवर्तन करा रेपिस्ट से कराई शादी         इस दीए की रोशनी         अनलॉक्ड : खुली हवाओं में सांस ले रहे हैं जीव-जन्तु         सीएम योगी का फरमान : नर्सों से अश्लील हरकत करने वाले जमातियों पर NSA, अब पुलिस के पहरे में इलाज         जमात की करतूत : नर्सों के सामने नंगा होने वाले जमात के 6 लोगों पर FIR         आप इन्फेक्टेड हो गए हैं तो काफिरों को इन्फेक्ट कीजिए : आईएसआईएस          मैं, सरकारी सिस्टम के साथ हूँ         तबलीगी जमात से जुड़े 400 लोग कोरोना पॉजिटिव, 9000 क्वारनटीन : स्वास्थ्य मंत्रालय         BIG NEWS : झारखंड में कोरोना का दूसरा मरीज मिला         सेना की बड़ी तैयारी : युद्धपोत, प्लेन अलर्ट, सेना के 8,500 डॉक्टर भी तैयार         पाकिस्तान में ऐलान : तबलीगी जमात के लोगों से नहीं मिले मुल्क के लोग         सबके राम !         तबलीगी जमात का आतंकवादी संगठनों से अप्रत्यक्ष संबंध : तस्लीमा नसरीन         BIG NEWS : झारखंड के मंत्री पुत्र को आइसोलेशन वार्ड, होम क्वारेंटाइन में मंत्री         BIG NEWS : अब 15 वर्षों से राज्य में रहने वाला हर नागरिक जम्मू कश्मीर का स्थायी निवासी         11 जनवरी से 31मार्च- 80 दिन 1920 घंटे..         

••••• कहीं न कहीं गुलामी का दर्द है

Bhola Tiwari Jun 09, 2019, 6:17 AM IST टॉप न्यूज़
img

प्रवीण झा 

(जाने माने चिकित्सक नार्वे)

जे सुशील ने ब्लूज़ की बात छेड़ी तो याद आया 2003 में एक पाँच सौ डॉलर की खटारा गाड़ी खरीदी, जिसे लेकर इलिनॉइस में दुबका रहता था। गोरों का शहर था, भारतीय यूँ भी दुबके घेट्टो बनाए रहते थे। हालांकि अपनी सीमा में आते ही शेर बन जाते। खैर, पता लगा दो जानकार एफओबी (फ्रेश ऑन बर्ड) मेम्फिस शहर आए हैं। मुझे फोन किया कि अमरीक्का का कुछ समझ नहीं आ रहा। मेरे भी कुछ ही महीने हुए थे, गाड़ी भी खटारा थी। दोस्त ने पूछा कि कितनी खटारा है? चलाते हुए बोनट हिलता है? मैंने कहा-हाँ यार! बड़ी बुरी स्थिति है। उसने कहा कि बिल्कुल आदर्श है। 

मेम्फ़ीस में गर गाड़ी खटारा न हो, और बोनट न हिले तो आदमी बाहर का लगता है। यह गोरों की बस्ती का ठीक उल्टा मामला था। वहाँ तो गाड़ी थोड़ी खराब हुई, पाँच सौ डॉलर में डंप कर दी। मेम्फ़ीस में? खटारा रॉक्स! 

वहाँ पहुँच कर अचानक कॉलर ऊँची हो गयी। अश्वेत शहर में जैसे होमली फ़ील हो रहा था। कमरे पर पहुँचते ही मित्र ने कहा कि कल नीचे गैस स्टेशन (पेट्रोल पंप) पर गोली चली। मैंने कहा कि भाई! मस्त माहौल है। गाड़ी निकाल घूमने निकले तो एक त्रिकोणाकार इमारत दिखाई जिसके अंदर माइक टायसन घूँसे मारते थे। कुछ ही देर में हम ‘बील स्ट्रीट’ पहुँच गए जहाँ रास्ता बंद था और सब सड़क पर नाच-गा रहे थे। और वहीं एक कोना था, जहाँ एक अश्वेत व्यक्ति पसीने से तर-बतर यूँ गा रहा था जैसे सब कुछ लुट गया हो। गाते-गाते ही वह हमारे पास झुक कर गुस्से में घूरता और रुआँसा मुँह कर लेता। समझ नहीं आया कि यह क्या गीत है, करुणा और आक्रोश का भला यह क्या कॉम्बो है? चाहे गायक सौ पर्फॉर्मेंस दे चुका हो, उसका गला रुँधेगा ही, आँसू बहेंगे ही और आवाज फिर भी बुलंद जब गाएगा-‘थ्रिल इज गॉन’

ब्लूज़ संगीत में कहीं न कहीं गुलामी का दर्द ही है, जो प्रेम-विरह का आवरण ओढ़े है। नॉर्वे में हर शहर में इसका केंद्र है, लेकिन गवैये बाहर से ही बुलाए जाते हैं। अपवाद हुए, लेकिन सच यह है कि ब्लूज़ गोरे गा ही नहीं सकते।


(भारतीय लोकगीतों में भी मिलते-जुलते गीत और वाद्य हैं जिसे एक ख़ास समुदाय ही उस रस से गा-बजा सकते थे और कारक भी मिलते-जुलते ही हैं।)

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links