ब्रेकिंग न्यूज़
अब तानाजी के वीडियो में छेड़छाड़ कर पीएम मोदी को दिखाया शिवाजी         सरकार का नया दांव : जनसंख्या नियंत्रण कानून...         हम भारत के सामने बहुत छोटे हैं, बदला नहीं ले सकते : महातिर मोहम्मद         तीस साल बीतने के बावजूद कश्मीरी पंडितों की सुध लेने वाला कोई नहीं, सरकार की प्राथमिकता में कश्मीर के अन्य मुद्दे         हेमंत सोरेन को मिला 'चैम्पियन ऑफ चेंज' अवॉर्ड         जेपी नड्डा भाजपा के नए अध्यक्ष, मोदी बोले-स्कूटर पर साथ घूमे         नए दशक में देश के विकास में सबसे ज्यादा 10वीं-12वीं के छात्रों की होगी भूमिका : मोदी         CAA को लेकर केरल में राज्यपाल और राज्य सरकार में ठनी         इतिहास तो पूछेगा...         सेखुलरी माइंड गेम...         अफसरों की करतूत : पत्नियों की पिकनिक के लिए बंद किया पतरातू रिजाॅर्ट         गुरूवर रविंद्रनाथ टैगोर की मशहूर कविता "एकला चलो रे" की राह पर सपा प्रमुख अखिलेश यादव         पत्रकारिता में पद्मश्रियों और राज्यसभा की सांसदी के कलुष...         विकास का मॉडल देखना हो तो चीन को देखिए...         फरवरी में भारत आएंगे ट्रंप, अहमदाबाद में होगा 'हाउडी मोदी' जैसा कार्यक्रम         शर्मनाक : सीएम के आदेश के बावजूद सरकारी मदद पहुंचने से पहले मरीज की मौत         झारखण्ड मंत्रिमंडल लगभग तय ! अन्तिम मुहर लगनी बाकी         ऑस्ट्रेलिया का क्या होगा...         क्या चंद्रशेखर आजाद बसपा सुप्रीमो मायावती का विकल्प बन सकते हैं?         सबसे पहले जनसंख्या नियंत्रण कानून की मांग कीजिए...         जनता की सेवा करें विधायक : सोनिया गांधी         झाविमो कार्यसमिति घोषित : विधायक प्रदीप यादव एवं बंधु तिर्की को कमेटी में कोई पद नहीं         रायसीना डायलॉग में सीडीएस विपिन रावत ने तालिबान से सकारात्मक बातचीत की वकालत की         कवि और सामाजिक कार्यकर्ता अंशु मालवीय पर जानलेवा हमला         डॉन करीम लाला से मुंबई में मिलने आती थी इंदिरा गांधी : संजय रावत         भाजपा में विलय की उलटी गिनती शुरू, हेमंत सरकार से समर्थन वापस लेगा जेवीएम         भारत और सऊदी अरब से तनातनी की कीमत चुका रहा है मलेशिया         हिंदी पत्रकारिता का हाल क्रिकेट टीम के बारहवें खिलाड़ी सा...         बड़ी बेशर्मी से शर्मसार होने का रोग लगा देश को...         लाहौर टू शाहीन बाग : पाकिस्तान के लाहौर में बैठकर मणिशंकर अय्यर ने उड़ाया भारत का मजाक         क्यों मनाई जाती है मकर संक्रांति ?         अलोकप्रिय हो चुके नीतीश कुमार को छोडकर अपनी राहें तलाशनी होगी भाजपा को बिहार में         बाबूलाल जी की जी हजूरी, ये कैसी भाजपाइयों की मजबूरी         भाजपा में विलय की ओर बढ़ रहा झाविमो : प्रदीप यादव         जम्मू-कश्मीर : पुलिस का अधिकारी दो आतंकियों के साथ गिरफ्तार        

••••• कहीं न कहीं गुलामी का दर्द है

Bhola Tiwari Jun 09, 2019, 6:17 AM IST टॉप न्यूज़
img

प्रवीण झा 

(जाने माने चिकित्सक नार्वे)

जे सुशील ने ब्लूज़ की बात छेड़ी तो याद आया 2003 में एक पाँच सौ डॉलर की खटारा गाड़ी खरीदी, जिसे लेकर इलिनॉइस में दुबका रहता था। गोरों का शहर था, भारतीय यूँ भी दुबके घेट्टो बनाए रहते थे। हालांकि अपनी सीमा में आते ही शेर बन जाते। खैर, पता लगा दो जानकार एफओबी (फ्रेश ऑन बर्ड) मेम्फिस शहर आए हैं। मुझे फोन किया कि अमरीक्का का कुछ समझ नहीं आ रहा। मेरे भी कुछ ही महीने हुए थे, गाड़ी भी खटारा थी। दोस्त ने पूछा कि कितनी खटारा है? चलाते हुए बोनट हिलता है? मैंने कहा-हाँ यार! बड़ी बुरी स्थिति है। उसने कहा कि बिल्कुल आदर्श है। 

मेम्फ़ीस में गर गाड़ी खटारा न हो, और बोनट न हिले तो आदमी बाहर का लगता है। यह गोरों की बस्ती का ठीक उल्टा मामला था। वहाँ तो गाड़ी थोड़ी खराब हुई, पाँच सौ डॉलर में डंप कर दी। मेम्फ़ीस में? खटारा रॉक्स! 

वहाँ पहुँच कर अचानक कॉलर ऊँची हो गयी। अश्वेत शहर में जैसे होमली फ़ील हो रहा था। कमरे पर पहुँचते ही मित्र ने कहा कि कल नीचे गैस स्टेशन (पेट्रोल पंप) पर गोली चली। मैंने कहा कि भाई! मस्त माहौल है। गाड़ी निकाल घूमने निकले तो एक त्रिकोणाकार इमारत दिखाई जिसके अंदर माइक टायसन घूँसे मारते थे। कुछ ही देर में हम ‘बील स्ट्रीट’ पहुँच गए जहाँ रास्ता बंद था और सब सड़क पर नाच-गा रहे थे। और वहीं एक कोना था, जहाँ एक अश्वेत व्यक्ति पसीने से तर-बतर यूँ गा रहा था जैसे सब कुछ लुट गया हो। गाते-गाते ही वह हमारे पास झुक कर गुस्से में घूरता और रुआँसा मुँह कर लेता। समझ नहीं आया कि यह क्या गीत है, करुणा और आक्रोश का भला यह क्या कॉम्बो है? चाहे गायक सौ पर्फॉर्मेंस दे चुका हो, उसका गला रुँधेगा ही, आँसू बहेंगे ही और आवाज फिर भी बुलंद जब गाएगा-‘थ्रिल इज गॉन’

ब्लूज़ संगीत में कहीं न कहीं गुलामी का दर्द ही है, जो प्रेम-विरह का आवरण ओढ़े है। नॉर्वे में हर शहर में इसका केंद्र है, लेकिन गवैये बाहर से ही बुलाए जाते हैं। अपवाद हुए, लेकिन सच यह है कि ब्लूज़ गोरे गा ही नहीं सकते।


(भारतीय लोकगीतों में भी मिलते-जुलते गीत और वाद्य हैं जिसे एक ख़ास समुदाय ही उस रस से गा-बजा सकते थे और कारक भी मिलते-जुलते ही हैं।)

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links