ब्रेकिंग न्यूज़
अपराधी मारा गया... अपराध जीवित रहा !          BIG NEWS : भारत चीन के बीच बातचीत, सकारात्मक सहमति के कदम आगे बढ़े         BIG NEWS : बारामूला के नौगाम सेक्टर में LOC के पास मुठभेड़, दो आतंकी ढेर         BIG STORY : समरथ को नहिं दोष गोसाईं         शर्मनाक : बाबू दो रुपए दे दो, सुबह से भूखी हूं.. कुछ खा लुंगी         BIG NEWS : वर्चुअल काउंटर टेररिज्म वीक में बोले सिंघवी, कश्मीर भारत का अभिन्न अंग है, था और रहेगा         BIG NEWS : कानपुर से 17 किमी दूर भौती में मारा गया गैंगेस्टर विकास, एसटीएफ के 4 जवान भी घायल         BIG NEWS : झारखंड के स्कूलों पर 31 जुलाई तक टोटल लॉकडाउन         BIG NEWS : चीन के खिलाफ “बायकॉट चाइना” मूवमेंट          पाकिस्तानी सेना ने नौशेरा सेक्टर में की गोलाबारी, 1 जवान शहीद         मुसीबत देश के आम लोगों की है जो बहुत....         BIG NEWS : एनकाउंटर में मारा गया गैंगस्टर विकास दुबे         बस नाम रहेगा अल्लाह का...         BIG NEWS : सेना के काफिले पर आतंकी हमला, जवान समेत एक महिला घायल         BIG NEWS : लश्कर-ए-तैयबा के आतंकियों ने की थी बीजेपी नेता वसीम बारी की हत्या         दुबे के बाद क्या ?         मै हूं कानपुर का विकास...         BIG NEWS : रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने 6 पुलों का किया ई उद्घाटन, कहा-सेना को आवाजाही में मिलेगी सुविधा         BIG NEWS : कुख्यात अपराधी विकास दुबे उज्जैन के महाकाल मंदिर से गिरफ्तार         BIG MEWS : चुटुपालु घाटी में आर्मी का गाड़ी खाई में गिरा, एक जवान की मौत, दो घायल         BIG NEWS : सेना ने फेसबुक, इंस्टाग्राम समेत 89 एप्स पर लगाया बैन         BIG NEWS : बांदीपोरा में आतंकियों ने बीजेपी नेता वसीम बारी की हत्या, हमले में पिता-भाई की भी मौत         नहीं रहे शोले के ''सूरमा भोपाली'', 81 की उम्र में अभिनेता जगदीप का निधन         गृह मंत्रालय ने IPS अधिकारी बसंत रथ को किया निलंबित, दुर्व्यवहार का आरोप         BIG NEWS : कुलभूषण जाधव ने रिव्यू पिटीशन दाखिल करने से किया इनकार, पाकिस्तान ने दिया काउंसलर एक्सेस का प्रस्ताव         पुलिस पूछ रही है- कहां है दुबे         झारखंड मैट्रिक रिजल्ट : स्टेट टॉपर बने मनीष कुमार         झारखंड बोर्ड परीक्षा रिजल्ट : कोडरमा अव्वल और पाकुड़ फिसड्डी         BIG NEWS :  मैट्रिक का रिजल्ट जारी, 75 परसेंट पास हुए छात्र         पाकिस्तान की करतूत, बालाकोट सेक्टर के रिहायशी इलाकों में की गोलाबारी, एक महिला की मौत          BIG NEWS : होम क्वारंटाइन हो गए हैं सीएम हेमंत सोरेन, आज हो सकता है कोरोना टेस्ट !         BIG NEWS : मंत्री मिथिलेश, विधायक मथुरा समेत 165 नए कोरोना पॉजिटिव         BIG NEWS : उड़ी सेक्टर में भारी मात्रा में हथियार व गोला-बारूद बरामद         BIG NEWS : लद्दाख में एलएसी पर सेना पूरी तरह से मुस्तैद         CBSE: नौवीं से बारहवीं कक्षा तक के छात्रों के सिलेबस में होगी 30 फीसदी कटौती         BIG NEWS : पुलवामा आतंकी हमले में शामिल एक और OGW को NIA ने किया गिरफ्तार         BIG NEWS : कल घोषित होगा मैट्रिक का रिजल्ट         BIG NEWS : POK में चीन और पाकिस्तान के खिलाफ विरोध प्रदर्शन         बारामूला में हिजबुल मुजाहिदीन का एक OGW गिरफ्तार, हैंड ग्रेनेड बरामद         अंदरखाने खोखला, बाहर-बाहर हरा-भरा...!        

अब न मैं हूं न बाकी है जमाने मेरे

Bhola Tiwari Jun 03, 2019, 8:41 AM IST टॉप न्यूज़
img

एस डी ओझा

होस्नी मुबारक का जन्म 04 मई 1928 को काहिरा के नजदीक एक गांव में हुआ था । उनकी शादी काहिरा से स्नातक करने वाली एक अंजान सी पर बेहद सुंदर लड़की सुजैन से हुआ था । सुजैन की नस्ल आधी ब्रितानी थी ।उन्होंने 1949 में मिस्र की मिलिट्री अकादमी ज्वाइन की थी । 1950 में वे वायुसेना में कमांडर नियुक्त हो गये । वायुसेना में कमाण्डर रहते हुए रक्षा विभाग में वे उप मंत्री भी थे । उप मंत्री रहते हुए उनकी सबसे बड़ी उपलब्धि थी इजराइल पर औचक आक्रमण करना । 1975 में तत्कालीन राष्ट्रपति अनवर सादात ने उन्हें उप राष्ट्रपति पद पर नियुक्त किया था । चरम पंथियों ने 1981 में अनवर सादात की हत्या काहिरा में एक परेड के दौरान कर दी थी । जब अनवर सादात की हत्या हुई तो होस्नी मुबारक भी उनके साथ हीं थे । होस्नी मुबारक भाग्यशाली रहे कि गोली उन्हें नहीं लगी । अनवर सादात की मृत्यु के 08 दिन के उपरांत होस्नी मुबारक ने राष्ट्रपति पद की शपथ ली थी । वह दिन 14 अक्तूबर 1981 का था ।

होस्नी मुबारक ने राष्ट्रपति रहते हुए इजराइल से शांति समझौता किया था । ऐसा कर के उन्होंने यह साबित कर दिया कि वे एक कुशल राजनयिक हैं । पूरे मिस्र में चरम पंथ का बोलबाला था । राष्ट्रपति रहते हुए उन पर 6 बार जानलेवा हमला हो चुका था । चरमपंथ के चलते मिस्र का पर्यटन उद्योग दम तोड़ने लगा था । ऐसे में होस्नी मुबारक ने मिस्र के पर्यटन उद्योग को स्थायीत्व प्रदान किया । देश को स्थिरता प्रदान की । होस्नी मुबारक 30 साल तक मिस्र के राष्ट्रपति रहे थे , जिसमें वे तीन बार निर्विरोध चुने गये थे । एक बार निर्वाचन के आधार पर चुने गये थे । उनके 30 साल के शासन काल में पूरे मिस्र में अघोषित आपात काल लागू रहा । उनके शासन काल में पांच लोग इकट्ठे हो कोई गूफ्तगू नहीं कर सकते थे ।

2011 में होस्नी मुबारक के खिलाफ जन आंदोलन होने लगे थे । इस आंदोलन को कुचलने के लिए होस्नी मुबारक ने सेना की मदद ली । सेना ने इस आंदोलन को बुरी तरह से कुचलने का उपक्रम किया । तकरीबन 900 लोग मारे गये । जन आंदोलन नहीं रुका । इस आंदोलन से घबराकर होस्नी मुबारक ने इस्तीफा दे दिया । उन्होंने सत्ता छोड़ने से पहले अपने उत्तराधिकारी उमर सुलेमान को राष्ट्रपति नियुक्त कर दिया था । सत्ता छोड़ते हीं होस्नी मुबारक को हिरासत में ले लिया गया । उन पर मुकदमा चला । 2 जून 2012 को उन पर आरोप सिद्ध हो गये । उन्हें आजीवन कारावास की सजा मिली ।

होस्नी मुबारक पिछले 6 सालों से आर्मी चिकित्सालय में नजरबंद थे । उनका केस पुनर्जीवित किया गया । मामले की दोबारा सुनवायी हुई । दो बार सुनवाई के उपरांत मार्च 2017 में उन्हें सभी तरह के आरोपों से मुक्त कर दिया गया । जब होस्नी मुबारक को हिरासत में लिया गया था तो उन्होंने कहा था - मैं एक सच्चा राष्ट्रभक्त हूं । इतिहास हीं मेरा फैसला करेगा । वाकई में इतिहास ने उनका फैसला किया । 88 वर्षीय होस्नी मुबारक फिलहाल अपने घर में आराम फरमा रहे हैं । उनके पास सत्ता नहीं है , पर उनकी कहानियां लोगों के जेहन में हमेशा ताजा रहेंगी । राहत इन्दौरी कहते हैं -

अब न मैं हूं न बाकी है जमाने मेरे ।

फिर भी मशहूर हैं शहरों में फसाने मेरे ।

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links