ब्रेकिंग न्यूज़
BIG NEWS : श्रीनगर पुलिस हेडक्वार्टर सील, जम्मू कश्मीर में कुल 10827 कोरोना के मरीज         BIG NEWS : भारत-चीन के बीच चौथे चरण की कोर कमांडर स्तर की बैठक शुरू, कई अहम मुद्दों पर होगी चर्चा         BIG NEWS : सचिन पायलट पर कार्रवाई, उप मुख्यमंत्री के पद से हटाए गए         नेपाल पीएम के बिगड़े बोल, कहा – “नेपाल में हुआ था भगवान राम का जन्म, नेपाली थे भगवान राम”         CBSE 12वीं का रिजल्ट : देश में 88.78% स्टूडेंट पास         BIG NEWS : सेना प्रमुख एमएम नरवणे जम्मू पहुंचे, सुरक्षा स्थिति का लिया जायजा         अनंतनाग एनकाउंटर में 2 आतंकी ढेर         बांदीपोरा में 4 OGWS गिरफ्तार, हथियार बरामद         BIG NEWS : हाफिज सईद समेत 5 आतंकियों के बैंक अकाउंट फिर से बहाल         BIG NEWS : लालू यादव का जेल "दरबार", तस्वीर वायरल         मान लीजिए इंटर में साठ प्रतिशत आए, या कम आए, तो क्या होगा?         BIG NEWS : झारखंड में रविवार को कोरोना संक्रमण से 6 मरीजों की मौत, बंगाल-झारखंड सीमा सील         BIG NEWS : सोपोर में सेना और आतंकियों के बीच मुठभेड़ जारी, अब तक 2 आतंकी ढेर         BIG NEWS : देश में PMAY के क्रियान्वयन में रामगढ़ नंबर वन         BIG NEWS : श्रीनगर में तहरीक-ए-हुर्रियत के चेयरमैन अशरफ सेहराई गिरफ्तार         BIG NEWS : ऐश्वर्या राय बच्चन और आराध्या बच्चन की कोरोना रिपोर्ट आई पॉजिटिव         BIG NEWS : मध्यप्रदेश की राह पर राजस्थान !         अमिताभ बच्चन ने कोरोना के खौफ के बीच सुनाई थी उम्मीद भरी कविता, अब..         .... टिक-टॉक वाले प्रकांड मेधावियों का दस्ता         BIG BRAKING : नक्सलियों नें कोल्हान वन विभाग कार्यालय व गार्ड आवास उड़ाया         BIG NEWS : महानायक अमिताभ बच्चन के बाद अभिषेक बच्चन को भी कोरोना         BIG NEWS : अमिताभ बच्चन करोना पॉजिटिव         BIG NEWS : आतंकियों को घुसपैठ कराने की कोशिश में पाकिस्तानी बॉर्डर एक्शन टीम         अपराधी मारा गया... अपराध जीवित रहा !          BIG NEWS : भारत चीन के बीच बातचीत, सकारात्मक सहमति के कदम आगे बढ़े         BIG NEWS : बारामूला के नौगाम सेक्टर में LOC के पास मुठभेड़, दो आतंकी ढेर         BIG STORY : समरथ को नहिं दोष गोसाईं         शर्मनाक : बाबू दो रुपए दे दो, सुबह से भूखी हूं.. कुछ खा लुंगी         BIG NEWS : वर्चुअल काउंटर टेररिज्म वीक में बोले सिंघवी, कश्मीर भारत का अभिन्न अंग है, था और रहेगा         BIG NEWS : कानपुर से 17 किमी दूर भौती में मारा गया गैंगेस्टर विकास, एसटीएफ के 4 जवान भी घायल         BIG NEWS : झारखंड के स्कूलों पर 31 जुलाई तक टोटल लॉकडाउन         BIG NEWS : चीन के खिलाफ “बायकॉट चाइना” मूवमेंट          पाकिस्तानी सेना ने नौशेरा सेक्टर में की गोलाबारी, 1 जवान शहीद         मुसीबत देश के आम लोगों की है जो बहुत....         BIG NEWS : एनकाउंटर में मारा गया गैंगस्टर विकास दुबे        

सोहराबुद्दीन एनकाउंटर का सच अब कभी बाहर नहीं आएगा

Bhola Tiwari Jun 03, 2019, 7:31 AM IST टॉप न्यूज़
img

अजय श्रीवास्तव

सीबीआई केस डायरी के अनुसार 22नवंबर2005,सोहराबुद्दीन शेख अपनी पत्नी कौसरबी और साथी तुलसी प्रजापति के साथ बस में बैठकर सांगली जा रहा था।गुजरात एटीएस और राजस्थान एटीएस की टीम तीनों को पकड़कर गाँधीनगर ले आती है।आपको बता दें सोहराबुद्दीन शेख गैंगस्टर था और उसके ऊपर आतंकियों से संबंध रखने का भी आरोप था।

सोहराबुद्दीन का मुख्य पेशा कारोबारियों को धमका कर वसुली करना था।बहुत से मामलों में गुजरात पुलिस और राजस्थान की पुलिस उसको पकडऩे की कोशिश कर रही थी मगर चालाक सोहराबुद्दीन उसके हाथ नहीं आ रहा था।इसी बीच सोहराबुद्दीन ने कारोबारी रमन पटेल से उगाही करने के लिए अपने दो साथी सिलवेस्टर और तुलसी प्रजापति को भेजा।रमन पटेल ने उगाही की रकम देने में हीलहवाली की तो दोनों ने उसपर फायरिंग झोंक दिया।रमन पटेल की किस्मत अच्छी थी वह बच गया लेकिन उसने पुलिस थाने में जाकर सोहराबुद्दीन के नाम की रिपोर्ट लिखाई।

सोहराबुद्दीन राजस्थान में भी वसूली करता था वहाँ राजस्थान मार्बल के मालिक विमल पाटनी ने आजिज आकर सोहराबुद्दीन की हत्या के लिए राजस्थान के गृहमंत्री गुलाबचंद कटारिया से संपर्क किया।विमल पाटनी उसकी हत्या के एवज में दो करोड नगद देने के लिए तैयार था।चूँकि सोहराबुद्दीन का अधिकांश समय गुजरात में बीतता था इस वजह से गुलाबचंद कटारिया ने अमित शाह से संपर्क साधा।अमित शाह तैयार हो गए।

गुजरात एटीएस और राजस्थान एटीएस दोनों मिलकर सोहराबुद्दीन शेख का काउंटर करती है, उन्हें लगता है कि कौसरबी भंडाफोड़ कर सकती है तो उसे मारकर अज्ञात स्थान पर ले जाया जाता है।तुलसी प्रजापति को पुलिस अपना गवाह बनाकर छोड़ देती है।

सोहराबुद्दीन शेख के एनकाउंटर के बाद जब मानवाधिकार संगठन सक्रिय होते हैं तो गुजरात पुलिस ये कहती है कि सोहराबुद्दीन मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी को मारना चाहता था, इस वजह से पुलिस उसकी सुराग ले रही थी और जब आत्मसमर्पण करने के लिए कहा गया तो उसने पुलिस पर फायर झोंक दिया।मजबूरन पुलिस को गोली चलानी पड़ी और सोहराबुद्दीन मारा गया।2010 में ये केस सीबीआई को हस्तांतरित की गई, तुलसी प्रजापति को इसलिए मार दिया गया कि कहीं वो डर से सारा भेद न खोल दे।

ये पूरी कहानी सीबीआई डायरी की है जो कोर्ट में पेश की गई थी।उन दिनों गुजरात का गृहविभाग मुख्यमंत्री के पास था और अमित शाह गृहराज्यमंत्री थे।

सीबीआई जांच में अमित शाह का नाम प्रमुखता से लिया गया क्योंकि गुजरात सीआईडी के इंस्पेक्टर वी.एल.सोलंकी ने सीबीआई को दिए अपने बयान में तत्कालीन गृहराज्यमंत्री अमित शाह का नाम लिया था।

साल 2014 में केन्द्र में नरेंद्र मोदी की सरकार बनी तब इस केस में नाटकीय परिवर्तन आया।सबूतों को कमजोर कर दिया गया।सुप्रीमकोर्ट के आदेश से इस केस को सुन रही मुंबई सीबीआई कोर्ट ने अमित शाह सहित इस केस से जुड़े सीनियर पुलिस आँफिसर और राजनेताओं को ट्रायल से पहले हीं बरी कर दिया।

जो भी हो अब इस केस में इंसाफ की उम्मीद करना बेमानी है।

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links